चुनाव आयोग की ऑब्जर्वरो के साथ हुई बैठक के बाद ऑब्ज़र्वर और सख्त हुए

अधिकारियों को दिए चुनाव आचार संहिता का पालन करवाने के सख्त निर्देश।
फरीदाबाद, 18 अक्टूबर।
भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जिला फरीदाबाद में स्वतंत्र, निष्पक्ष तथा पारदर्शी ढंग से चुनाव संपन्न करवाने के लिए नियुक्त किए गए सभी चुनाव पर्यवेक्षकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग बैठक करके रिपोर्ट ली गई। इस वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग बैठक के बाद चुनाव पर्यवेक्षकों ने जिला में चुनाव आचार संहिता लागू करने के लिए नियुक्त अधिकारियों को सख्ती से आचार संहिता का पालन सुनिश्चित करवाने के आदेश दिए हैं।
चुनाव पर्यवेक्षकों ने सभी अधिकारियों को सख्त आदेश दिए हैं कि आचार संहिता के मामले में जिला के सभी विधानसभा क्षेत्रों में जीरो टॉलरेंस बरती जाएगी और आचार संहिता का उल्लंघन पाए जाने पर आयोग को सूचित करते हुए संबंधित प्रत्याशी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। पर्यवेक्षकों ने डिफेसमेंट ऑफ प्रॉपर्टी एक्ट को कड़ाई से लागू करने के निर्देश दिए हैं, जिसके तहत अनाधिकृत स्थानों पर पोस्टर या बैनर लगाने पर संबंधित प्रत्याशी के खिलाफ पुलिस में एफआईआर दर्ज करवा कर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। पर्यवेक्षकों ने कहा है कि जिला में आचार संहिता का पालन सुनिश्चित करने के लिए लगाए गए फ्लाइंग स्क्वायड, स्टेटिक सर्विलांस टीम तथा जोनल मजिस्ट्रेट व सेक्टर ऑफिसर्स गंभीरता से अपनी ड्यूटी करें और ध्यान रखें कि मतदान के दिन या उससे पहले मतदाताओं को प्रलोभन देने के लिए किसी प्रकार का नकद लेनदेन अथवा पैसे का वितरण या शराब आदि का वितरण ना होने पाए। चुनाव पर्यवेक्षकों ने स्पष्ट किया कि जिस भी टीम के अधिकार क्षेत्र में मतदाताओं को प्रलोभन देने या उन्हें डराने- धमकाने अथवा अन्य किसी भी प्रकार से प्रभावित करने का प्रयास होता है तो उस टीम की जिम्मेदारी तय की जाएगी। उन्होंने कहा है कि मतदान पूरी तरह से सुरक्षित और भयमुक्त वातावरण में निष्पक्ष रुप से होना चाहिए। साथ ही चुनाव पर्यवेक्षकों ने सभी टीमों को आदेश दिए हैं कि वे मतदान संपन्न होने तक पूरी सतर्कता बरतें और अवैध तथा अनैतिक गतिविधियों पर निगरानी रखें। पर्यवेक्षकों ने कहा है कि चुनाव आचार संहिता का उलंघन होता दिखाई देने पर आम जनता में से भी कोई भी व्यक्ति सी-विजील एप पर उसकी फोटो या छोटी वीडियो क्लिप भेजकर शिकायत कर सकता है, उस पर 100 मिनट में संज्ञान लेकर कार्रवाई होगी।
उन्होंने पुलिस अधिकारियों को भी निर्देश दिए हैं कि वे मतदान तक अब और सतर्क हो जाए तथा दूसरे साथ लगते प्रदेशों जैसे उत्तर प्रदेश व दिल्ली की सीमाओं पर नाके लगाकर हर आने-जाने वाले वाहन पर नजर रखें। उन्होंने कहा कि जिला में आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाएं और पहले से बता दें कि चुनाव के दिन जिला में कोई भी बाहरी व्यक्ति नहीं रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव  लोकतांत्रिक व्यवस्था को मजबूत करने के लिए जरूरी है तथा इस मामले में आयोग सख्त कदम उठाने से नहीं हिचकेगा।
गौरतलब है कि आयोग द्वारा 85 -पृथला विधानसभा क्षेत्र तथा 88 -बल्लभगढ़ विधानसभा क्षेत्र के लिए डॉ सुमित शर्मा, 86- फरीदाबाद एनआईटी  व  89- फरीदाबाद विधानसभा क्षेत्रों के लिए  रवि डफरिया  तथा 87-बड़खल  व 90- तिगांव  विधानसभा क्षेत्रों के लिए  सत्येंद्र कुमार सिंह  को  चुनाव पर्यवेक्षक के तौर पर नियुक्त किया हुआ है  और ये तीनों पर्यवेक्षक  जिला में  चुनाव से जुड़ी सभी गतिविधियों पर  निगरानी रख रहे हैं । इनकी एक जरा सी रिपोर्ट पर किसी भी प्रत्याशी के खिलाफ आयोग कड़ी कार्रवाई कर सकता है, यहां तक कि उसका नामांकन तक भी रद्द हो सकता है, इसलिए सभी पर्यवेक्षकों ने चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों तथा राजनीतिक दलों को चुनाव आदर्श आचार संहिता का पालन करते हुए शांतिपूर्ण मतदान करवाने की अपील भी की है।