अवैध निर्माण अवैध खनन अरावली पर धड़ल्ले से जारी: एडवोकेट पाराशर

फरीदाबाद 13 सितम्बर। न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एवं बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान एडवोकेट पाराशर का यह कहना है की लाख कोशिशों के और सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बावजूद भी अरावली पर अवैध निर्माण अवैध फार्म हाउसों का बनना और खनन अभी भी जारी है। एडवोकेट पराशर ने बताया कि वह जब भी अरावली पर दौरे पर जाते हैं उन्हें कहीं ना कहीं एक नया निर्माण देखने को मिलता है इसी कड़ी में आज उन्होंने देखा कि फरीदाबाद के अरावली पर्वत पर लगभग 100 एकड़ जमीन मैं बाउंड्री वाल कर अवैध फार्म हाउस का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने यह भी बताया कि उन्होंने सुप्रीम कोर्ट मैं मुख्य सचिव हरियाणा व फरीदाबाद के कई विभाग के अधिकारियों के ऊपर कंटेंट दायर की हुई है जो सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है, उन सब के बावजूद भी अरावली पर भूमाफिया अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे वह नित नए निर्माण और अवैध फार्म हाउस और अवैध खनन करते ही जा रहे हैं ऐसा लगता है कि भू माफियाओं को और यहां के अधिकारियों को सुप्रीम कोर्ट की कतई परवाह नहीं है उन्होंने यह भी बताया कि इस अवैध निर्माण में सरकारी अफसरों के साथ-साथ नेताओं का भी बहुत बड़ा हाथ है। एडवोकेट पराशर ने कहा कि अब इसकी शिकायत प्रधानमंत्री व राष्ट्रपति से दोबारा कर न्यायिक जांच के लिए गुहार लगाएंगे और अवैध निर्माण कर रहे भू माफियाओं और अवैध खनन करने वालों के खिलाफ एक बड़ी लड़ाई लडऩे की तैयारी करेंगे, एडवोकेट पाराशर ने बताया कि खनन विभाग वन विभाग की लापरवाही से ही यह सब हो रहा है नहीं तो इतनी बड़ी जमीन पर कब्जा इतनी आसानी से नहीं हो सकता।