सड़क निर्माण पर उठे सवाल, तो दोबारा किया जाने लगा काम

फरीदाबाद : करीब सवा तीन करोड़ रुपये की लागत से मुजेसर के पास गौछी ड्रेन के साथ बनाई गई सीमेंटेड सड़क को अब दोबारा बनाया जाने लगा है। सड़क की गुणवत्ता को लेकर आरटीआइ कार्यकर्ता वरुण श्योकंद ने सवाल उठाए थे। साथ ही इस बारे में मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर विजीलेंस से जांच कराने की मांग की थी।

वरुण का कहना था कि सड़क का निर्माण एक वर्ष पहले ही हुआ था। इसके बावजूद सड़क कई जगह से धंस गई है। सड़क में कई जगह पर दरारें भी आ गई हैं। लगभग दो किलोमीटर की सीमेंटेड सड़क में कई जगह दरारें पड़ने पर ही वरुण ने सवाल उठाए थे।

बता दें कि मजुेसर क्षेत्र से सेक्टर-22 श्मशान घाट तक जाने वाली सीमेंटेड सड़क का निर्माण करीब एक वर्ष पहले ही करवाया गया था। नगर निगम अधिकारियों की ओर से दावा किया गया था कि सीमेंटेड सड़क का निर्माण इसलिए कराया गया है ताकि भविष्य में लोगों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़े।

वरुण श्योकंद ने बताया कि सीमेंटेड सड़क में कई जगह दरारें आ गई हैं। सड़क को पूरी तरह से समतल नहीं बनाया गया है। नियम के अनुसार सड़क को बनाने के बाद पांच वर्ष तक की गारंटी तय की जाती है। अगर पांच वर्ष से पहले सड़क जर्जर होती है, तो ठेकेदार की जिम्मेदारी होती है कि सड़क का निर्माण दोबारा से करवाया जाए। उन्होने कहा कि सीएम को पत्र लिखने के साथ ही निगमायुक्त को भी इस बारे में पत्र लिखा गया था। वरुण ने बताया कि मुख्यमंत्री से शिकायत के बाद अब दोबारा से सड़क का निर्माण शुरू करवाया गया है।

इस बारे नगर निगम के कार्यकारी अभियंता रवि शर्मा ने बताया कि सड़क में खामियां आने पर अब दोबारा सड़क का निर्माण शुरू करवाया जा रहा है।