महामहिम राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने किया सूरजकुंड मेले का शुभारंभ।

नई दिल्ली 20 मार्च- निहारिका कौशिक मुख्य संपादक मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क।      हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने आज फरीदाबाद में आयोजित 35वें सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेला का उद्घाटन करते हुए कहा कि देश की हस्तशिल्प, हथकरघा परंपरा को प्रदर्शित करने वाले इस मेले में उपस्थित होना गर्व की बात है। उन्होंने आजादी के अवसर पर इस मेले के आयोजन के लिए हरियाणा और केंद्र सरकार को बधाई व शुभकामनाएं दी।

उन्होंने देश-विदेश से यहां पहुंचे शिल्पकार, बुनकरों और पयर्टकों का हरियाणा की पावन धरा पर स्वागत करते हुए कहा कि यह मेला 1987 से हर साल आयोजित किया जाता है। इस साल इस मेले में हजारों की संख्या में बुनकर भाग ले रहें हैं, जिन्हें अपने उत्पादों को प्रदर्शित करने और बेचने का अवसर मिलेगा। 15 दिन चलने वाले इस मेले में लाखों की संख्या में पर्यटन पहंचेगे और इसके माध्यम से अन्य देशों के साथ संबंध और प्रगाढ़ होंगे।

इस समारोह में केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री कृष्णपाल गुर्जर, उज्बेकिस्तान के राजदूत श्री दिलशाद अखातोव, प्रदेश के शिक्षा एवं पर्यटन मंत्री श्री कंवरपाल और परिवहन मंत्री श्री मूलचंद शर्मा भी उपस्थित रहे।

मानव सभ्यता और संस्कृति के विकास में हस्तशिल्प और हथकरघा का महत्वपूर्ण योगदान है

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने मेले के उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता करते हुए कहा कि मानव सभ्यता और संस्कृति के विकास में हस्तशिल्प और हथकरघा का महत्वपूर्ण योगदान है। शिल्प व हथकरघा मेले शिल्पकारों को अपनी पसंद व कला के आदान-प्रदान का अवसर प्रदान करते हैं। इस उद्देश्य से अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुण्ड हस्तशिल्प मेला पिछले 35 सालों से ऐसे ही शिल्पकार, हथकरघा कारीगरों को एक उचित मंच प्रदान कर रहा है।

उन्होंने कहा कि हर वर्ष इस मेले का आयोजन एक ‘ थीम स्टेट ‘ और एक सहभागी देश के साथ किया जाता है। इस वर्ष मेले का ‘थीम स्टेट’ केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू एवं कश्मीर और सहभागी देश उज्बेकिस्तान है।

उन्होंने कहा कि आजादी का यह अमृतकाल एक ओर जहां मां भारती के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर कर देने वाले हमारे अमर शहीदों और स्वतंत्रता सेनानियों की मधुर स्मृतियों को ताजा कर रहा है तो वहीं बसंत ऋतु की यह वासंती पवन हर देशवासी के मन में देशभक्ति के भाव और जोश का संचार कर रही है । कल ही हमने रंगों का त्योहार होली बड़ी धूमधाम से मनाया। आज 35 वें अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुण्ड हस्तशिल्प मेले का शुभारंभ हो रहा है। ऐसे मणिकांचन योग में, देश – विदेश के कलाकारों व शिल्पकारों की कल्पनाओं से सराबोर कलाकृतियों से सुसज्जित इस हस्तशिल्प मेले की छटा देखते ही बनती है ।

उन्होंने कहा कि मानव सभ्यता और संस्कृति के विकास में हस्तशिल्प और हथकरघा का महत्वपूर्ण योगदान है। विश्व की सभी प्राचीन सभ्यताओं का इतिहास हस्तशिल्प और हथकरघा के इतिहास को भी दर्शाता है। इन कलाओं को आधुनिक युग में भी उतना ही पसंद किया जाता है , जितना प्राचीन काल में किया जाता था । अतः शिल्प , हथकरघा व ऐसे ही मेले शिल्पकारों को अपनी पसंद व कला के आदान – प्रदान का अवसर प्रदान करते हैं ।

हरियाणा हार्ट-टू-हार्ट कनेक्ट में विश्वास करता है

हरियाणा और उज्बेकिस्तान के बीच द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत करने के लिए मुख्यमंत्री ने उज्बेकिस्तान गणराज्य के राजदूत श्री दिलशाद अखातोव को आश्वासन देते हुए कहा कि हरियाणा बिजनेस टू बिजनेस या गवर्नमेंट टू गवर्नमेंट रिलेशनशिप तक सीमित नहीं हैं, बल्कि हरियाणा हार्ट-टू-हार्ट कनेक्ट में विश्वास करता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज का दिन न केवल एक शुभ अवसर है बल्कि एक सांस्कृतिक अवसर भी है क्योंकि यह मेला वास्तव में इस ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में आयोजित भारत की सांस्कृतिक विरासत की समृद्धि और विविधता के लिए एक श्रद्धांजलि है। दुनियाभर के शिल्पकार, कारीगर इस मेले में भाग लेने का बेसब्री से इंतजार करते हैं।

श्री मनोहर लाल ने कहा कि यह मेला उज्बेकिस्तान की समृद्ध संस्कृति और पारंपरिक कला रूपों को देखने का एक उत्कृष्ट अवसर भी प्रस्तुत करता है। भारत और उज्बेकिस्तान के बीच मजबूत सांस्कृतिक और राजनयिक संबंध हैं। उन्होंने कहा कि वैश्विक कोविड-19 महामारी के कारण इस मेले के आयोजन को लेकर काफी घबराहट थी, लेकिन मैं वास्तव में इस मेले को सफल बनाने हेतु व्यवस्था करने के लिए सभी संबंधित अधिकारियों के प्रयासों की सराहना करता हूं।

सूरजकुंड मेला परंपरा ,विरासत और संस्कृति की त्रिवेणी

श्री मनोहर लाल ने कहा कि सूरजकुण्ड अन्तर्राष्ट्रीय शिल्प मेला हमारे देश की विविधता में एकता की कड़ियों को मजबूत करने के साथ – साथ ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ की अवधारणा को भी आगे बढ़ाता है। पिछले कई वर्षों से अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुंड मेले तथा अंतर्राष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव के माध्यम से हरियाणा की माटी की सौंधी महक विदेशों तक पहुंची है ।

उन्होंने कहा कि पिछले 35 वर्षों से यह मेला शिल्पकारों और हथकरघा कारीगरों को अपना हुनर प्रदर्शित करने का बेहतरीन मंच रहा है। यह मेला विभिन्न अंचलों की लोक कलाओं, लोक-व्यंजनों, लोक-संगीत, लोक-नृत्यों और वेशभूषा से रू-ब-रू करवाता है। यह मेला परंपरा, विरासत और संस्कृति की त्रिवेणी है, जो भारत के ही नहीं, बल्कि दुनिया भर के पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। अत्यंत प्रसन्नता का विषय है कि इस बार मेले में 30 देश भाग ले रहे हैं। इन देशों से आए अंतर्राष्ट्रीय कलाकर अपनी प्रस्तुति से सभी का मन मोह लेंगे।

उन्होंने कहा कि आज हम जो विकसित हरियाणा देख रहे हैं, इसका इतिहास भी बड़ा ही वैभवशाली और गौरवशाली रहा है। इस वैदिक भूमि को भारतीय संस्कृति और सभ्यता का ‘ पालना’ कहा जाता है। यहीं सरस्वती के पावन तट पर वेदों और उपनिषदों की रचना हुई। धर्मक्षेत्र – कुरुक्षेत्र में भगवान श्रीकृष्ण ने गीता के रूप में कर्मयोग का दिव्य संदेश दिया।

इस मेले में दूसरी बार शामिल होना गौरव की बात- उज्बेकिस्तान के राजदूत

उज्बेकिस्तान के राजदूत श्री दिलशाद अखातोव ने अपने संबोधन में कहा कि मेरे लिए गर्व की बात है कि सुरजकुंड मेले के उद्घाटन समारोह में शामिल होने का अवसर मिला है। उज्बेकिस्तान के लिए एक बहुत बड़ी खुशी की बात है क्योंकि हम लगातार दूसरी बार इस मेले में भागीदार राष्ट्र के रूप में भाग ले रहे हैं। हम अपने सांस्कृतिक, पारंपरिक और आर्थिक संबंधों को और मजबूत करने के लिए हमें इस मेले में आमंत्रित करने के लिए भारत सरकार और विशेष रूप से हरियाणा का आभार व्यक्त करता हूं।

उन्होंने कहा कि इस मेले के लिए 40 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल उज्बेकिस्तान की विरासत पर्यटन क्षमता का प्रतिनिधित्व करेगा। हमारे कारीगर और शिल्पकार सक्रिय रूप से इस मंच का उपयोग हरियाणा और अन्य राज्यों के लोगों से जुड़ने के सुनहरे अवसर के रूप में करेंगे।

उन्होंने 21 से 25 मई, 2022 तक बुखारा में आयोजित होने वाले स्वर्ण और कढ़ाई और आभूषण महोत्सव में भाग लेने के लिए हरियाणा तथा भारत के कारीगरों और शिल्पकारों को आमंत्रित किया। इसके अलावा, हरियाणा के साथ जी 2 जी और बी 2 बी संबंधों को विकसित करने के लिए समर्पित प्रयास किए जा रहे हैं।

इस अवसर पर विधायक श्रीमती सीमा त्रिखा, श्री नरेंद्र गुप्ता, श्री राजेश नागर, श्री घनश्याम दास और श्री नयन पाल रावत, मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल, सचिव, पर्यटन मंत्रालय, भारत सरकार श्री अरविंद सिंह, पर्यटन विभाग के प्रधान सचिव श्री एमडी सिन्हा भी मौजूद रहे।

नई दिल्ली , 20 मार्च- अपने पसंदीदा मेले का बेसब्री से इंतजार कर रहे आगंतुकों के लिए दो साल के लंबे अंतराल के बाद अंतत: हरियाणा के अनूठे सूरजकुंड शिल्प मेले का आज से आधिकारिक रूप से उद्घाटन हो गया। इस बार मेले की सबसे अच्छी बात यह है कि आगंतुक मेले की प्रवेश और पार्किंग टिकट पेटीएम इनसाइडर और हरियाणा पर्यटन की वेबसाइट से बुक कर सकते हैं, इससे अब उन्हें लंबी कतारों में नहीं लगना पड़ेगा और वे मेला परिसर में आसानी से प्रवेश कर सकेंगे। इसके अलावा, वेबसाइट www.srajkundmelaauthority.com पर एक ऐप के माध्यम से वर्चुअल टूर और शिल्पकारों की जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी। इसके अलावा, दिव्यांगजनों, वरिष्ठ नागरिकों, रक्षा कर्मियों और पूर्व सैनिकों को प्रवेश टिकट पर 50 प्रतिशत की छूट दी जा रही है। इसके साथ ही, आसपास के क्षेत्रों से यात्रियों को मेला स्थल तक ले जाने के लिए विभिन्न स्थानों से विशेष बसें भी चलेंगी।

35वां सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेला-2022 नई ऊर्जा के साथ किया गया है आयोजित

वर्ष 1987 से सूरजकुंड शिल्प मेला लगातार भारत की हस्तशिल्प, हथकरघा और सांस्कृतिक विरासत की समृद्धि और विविधता को प्रदर्शित करता रहा है। हालाँकि, वैश्विक कोविड-19 महामारी के कारण, 2 साल से मेले का आयोजन नहीं किया गया था, लेकिन 35 वां सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेला-2022 नई ऊर्जा के साथ एक बड़े आयोजन के वादे के साथ आया है।

केंद्रीय पर्यटन, कपड़ा, संस्कृति, विदेश मंत्रालय और हरियाणा सरकार के सहयोग से सूरजकुंड मेला प्राधिकरण तथा हरियाणा पर्यटन द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित इस हस्तशिल्प उत्सव ने अपने शिल्प, संस्कृति और भारत के व्यंजनों के प्रदर्शन के लिए अंतरराष्ट्रीय पर्यटन कैलेंडर पर प्रमुखता से अपनी पहचान कायम की है, जो गर्व की बात है।

 

इस वर्ष मेले के मुख्य आकर्षणों में वैष्णो देवी मंदिर, अमरनाथ मंदिर, अपना घर की प्रतिकृतियां

चूंकि जम्मू एवं कश्मीर 35वें सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेला 2022 का ‘थीम स्टेट’ है, इसलिए वैष्णो देवी मंदिर, अमरनाथ मंदिर, कश्मीर से वास्तुकला का प्रतिनिधित्व करने वाले अपना घर, हाउस बोट का लाइव प्रदर्शन और स्मारक द्वार ‘मुबारक मंडी-जम्मू ‘ की प्रतिकृतियां मुख्य आकर्षण रहेंगे।

साथ ही, जम्मू-कश्मीर के सैकड़ों कलाकार विभिन्न लोक कलाओं और नृत्यों का प्रदर्शन करेंगे। पारंपरिक नृत्य कला रूपों से लेकर उत्कृष्ट शिल्प तक, जम्मू-कश्मीर की विरासत और संस्कृति का एक गुलदस्ता विभिन्न कला रूपों और हस्तशिल्प के माध्यम से अनूठी संस्कृति और समृद्ध विरासत को प्रदर्शित करने वाले इस मेले का मुख्य आकर्षण रहेगा।

भारत से आने वाले हजारों शिल्पकारों को अपनी कला को दर्शकों के सामने प्रदर्शित करने के लिए एक मंच मिलता है

इस मेले के माध्यम से, भारत भर के हजारों शिल्पकारों को अपनी कला और उत्पादों को व्यापक दर्शकों के सामने प्रदर्शित करने के लिए एक सुनहरा मंच मिलता है। इतना ही नहीं, यह मेला भारत के विरासत शिल्प को पुनर्जीवित करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

सूरजकुंड शिल्प मेले के इतिहास में एक बेंचमार्क स्थापित हुआ जब इसे वर्ष 2013 में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपग्रेड किया गया था। 2020 में, यूरोप, अफ्रीका और एशिया के 30 से अधिक देशों ने मेले में भाग लिया, जबकि इस वर्ष भी 30 से अधिक देश इस मेले का हिस्सा बनेंगे, जिसमें पार्टनर नेशन – उज्बेकिस्तान शामिल है।

इसके अलावा, लैटिन अमेरिकी देशों, अफगानिस्तान, इथियोपिया, इस्वातिनी, मोजाम्बिक, तंजानिया, जिम्बाब्वे, युगांडा, नामीबिया, सूडान, नाइजीरिया, इक्वेटोरियल गिनी, सेनेगल, अंगोला, घाना, थाईलैंड, नेपाल, श्रीलंका, ईरान, मालदीव और अन्य देशों से भी उत्साही भागीदारी होगी।

‘अपना घर’ हरियाणा की प्रामाणिक जीवन शैली को प्रदर्शित करेगा

हरियाणा का एक परिवार हरियाणा की प्रामाणिक जीवन शैली को प्रदर्शित करने के लिए विशेष रूप से बनाए गए ‘अपना घर’ में रहने जा रहा है। ‘अपना घर’ आगंतुकों को राज्य के लोगों की जीवन शैली का अनुभव करने का मौका देता है और उन्हें अपनी संस्कृति के बारे में बातचीत करने और सीखने का मौका भी प्रदान करता है। अपना घर में पारंपरिक मिट्टी के बर्तन आदि दिखाए जाएंगे और शिल्पकार इन पारंपरिक शिल्पों का जीवंत प्रदर्शन करेंगे ।

पारंपरिक प्रॉप्स के उपयोग के साथ-साथ दर्शकों के लिए प्रदर्शन को जीवंत बनाने के लिए इस बार दोनों चौपालों को भाग लेने वाले राज्य और भागीदार राष्ट्र के तत्वों से प्रेरित होकर एक नया रूप दिया गया है।

दर्शकों को मंत्रमुग्ध करेगा अंतरराष्ट्रीय लोक कलाकारों का शानदार प्रदर्शन

आगंतुकों के मूड को जीवंत करने के लिए भारत के राज्यों के कलाकारों सहित भाग लेने वाले विदेशों के अंतर्राष्ट्रीय लोक कलाकारों द्वारा शानदार कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाएंगे। पंजाब के भांगड़ा, असम के बिहू, बरसाना की होली, हरियाणा के लोक नृत्य, हिमाचल प्रदेश के जमाकड़ा, महाराष्ट्र का लावणी, हाथ की चक्की का लाइव प्रदर्शन और हमेशा से मशहूर रहे बेहरुपिया जैसे विभिन्न प्रकार के कलाकर दर्शकों को मंत्रमुग्ध करेंगे।

इसके अलावा, मेला पखवाड़े के दौरान चौपाल पर शाम सात बजे से सांस्कृतिक कार्यक्रमों से दर्शकों का मनोरंजन होगा। रहमत-ए-नुसरत, रिंकू कालिया की गज़ल, मंत्रमुग्ध कर देने वाली डांस परफॉर्मेंस, भावपूर्ण सूफी परफॉर्मेंस, माटी बानी द्वारा रिदम ऑफ इंडिया, जम्मू-कश्मीर, उजबेकिस्तान और अन्य अंतरराष्ट्रीय कलाकारों के फुट-टैपिंग डांस और सॉन्ग शो जैसे बैंड के शानदार प्रदर्शन का दर्शक आनंद ले पाएंगे।

शिल्पकारों के लिए बनाए गए हैं 1183 वर्क हट्स

मेला मैदान 43.5 एकड़ भूमि में फैला हुआ है और शिल्पकारों के लिए 1183 वर्क हट्स और एक बहु-व्यंजन फूड कोर्ट है, जो आगंतुकों के साथ बेहद लोकप्रिय है। मेले का माहौल महुआ, नरगिस, पांचजन्य जैसे रूपांकनों और सजावट के साथ जातीय जीवंतता पर ले जाएगा। इसके अलावा, आगंतुकों को स्वतंत्रता पदक, तिरंगे बंटिंग और स्मारक टिकटों के रूपांकनों और प्रतिकृतियों के साथ स्वतंत्रता के 75 साल के थीम की भी झलक मिलेगी।

मेले की अन्य प्रमुख विशेषताएं

•      सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत करने के लिए मेला मैदान में नाइट विजन कैमरों के साथ 100 से अधिक सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना या दुर्घटना को रोकने के लिए मेला परिसर में महिला गार्ड सहित बडी संख्या में सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है।

•       तकनीकी नवाचारों के माध्यम से परेशानी मुक्त पार्किंग।

•       मेला पार्किंग में प्रवेश करने वाले वाहनों की नंबर प्लेट पहचान करने के लिए ई-निगरानी के लिए एनपीआर प्रौद्योगिकी का उपयोग किया जाएगा।

•       भीड़ गिनने की तकनीक का भी उपयोग किया जाएगा।

•       मेले में प्रवेश करने वाले अतिचारियों की घुसपैठ की जांच की जाएगी।

•       पूरे मेले में किसी भी आपात स्थिति के लिए फायर ब्रिगेड की टीम और चिकित्सा दल उपलब्ध रहेंगे।

•       दिव्यांगजनों के लिए बेहतर सुविधाएं होंगी और मेला परिसर में प्लास्टिक/पॉलीथिन की थैलियों पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया गया है।

•       कला एवं संस्कृति विभाग पारंपरिक और सांस्कृतिक कलाकारों जैसे कच्ची घोड़ी, स्टिक वॉकर, कालबेलिया, राजस्थान से बेहरुपिया, हिमाचल से कांगड़ी नाटी, असम से बिहू, पंजाब के भांगड़ा, जिंदुआ, झूमेर, उत्तराखंड के चैपल, उत्तर प्रदेश के बरसाना की होली, मेघालय से वांगिया, संभलपुरी ओडिशा, मध्य प्रदेश से बधाई, महाराष्ट्र से लावणी का प्रदर्शन करेगा।

•       मेला पखवाड़े के दौरान निर्यातकों और खरीदारों की बैठक का आयोजन किया जाएगा, जो शिल्पकारों को निर्यात बाजार तक पहुंचने और उसका दोहन करने के लिए एक तैयार समर्थन प्रणाली प्रदान करती है।