हरियाणा सरकार की मुख्य गतिविधियां एवं उनसे जुड़े समाचार पढ़िए मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क पर।

सीएम ट्विटर हैंडल डेंगू में भी मददगार

चंडीगढ़, 2 दिसंबर – बी डी कौशिक मुख्य संपादक मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क। सीएम विंडो व ट्विटर हैंडल आमजन की व्यक्तिगत व सार्वजनिक शिकायतों के समाधान करने में ‘‘हींग लगे ना फिटकरी, रंग भी चौखा होय’’ वाली कहावत चरितार्थ कर रहा है, क्योंकि शिकायत देते ही समाधान प्रक्त्रिया आरम्भ हो जाती है।

रक्षा लेखा विभाग के कर्मचारी को गुरुग्राम में दिलावाया वैकल्पिक प्लाट

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के ओएसडी श्री भूपेश्वर दयाल, जो चण्डीगढ़ से सीएम विंडो व ट्विटर हैंडल की मोनिटरिंग कर रहे हैं, ने बताया कि दिल्ली के ए-260, मोती बाग-1, नई दिल्ली के वीर सिंह ने अपने मोबाइल नं 9891778525 से 17 जनवरी, 2018 को एक सादे कागज पर शिकायत दी थी, कि हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण द्वारा गुरुग्राम के सैक्टर-21 में 15 नवंबर, 1985 को प्लाट नं 1341 आवंटित किया गया तथा पूरी राशि जमा कराने के उपरांत भी उसे इस प्लाट का कब्जा नहीं दिया गया । रक्षा लेखा विभाग, नई दिल्ली में कार्यरत होते हुए भी मैने एचएसवीपीएन के स्टेट ऑफिस सैक्टर-14 में बार-बार चक्कर लगाए एवं पत्राचार भी किया लेकिन मुझे इस प्लाट का कब्जा नहीं दिया गया। श्री भूपेश्वर दयाल ने बताया कि मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा तत्काल संज्ञान लिया गया और एचएसवीपीएन के अधिकारियों को समस्या के शीघ्र समाधान के निर्देश दिए गए उन्होने बताया कि 6 अक्तूबर, 2021 को सम्पदा अधिकारी द्वारा अपनी रिपोर्ट में मुख्यमंत्री कार्यालय को सूचित किया गया कि वीर सिंह को सैक्टर-21 में प्लाट नं 1341 के स्थान पर प्लाट नं 1616 आंवटित कर दिया गया है और वह पूरी तरह संतुष्ट है। अतः मामले को फाईल किया जाए।

गुरुग्राम के सैक्टर-9 की कोकिला देवी का मामला सुलझाया

श्री भूपेश्वर दयाल ने बताया कि गुरुग्राम, सैक्टर-9 के मकान नं 1230 में रहने वाली कोकिला देवी ने शिकायत दी थी कि एचएसवीपी के अधिकारियों ने उनसे कॉमन दीवार की राशि की अदायगी किए बिना व एनओसी दिए बिना ही साथ वाले मकान नं 1231 को कब्जा प्रमाण पत्र जारी कर दिया गया। अतः मेरे को पड़ोसी से कॉमन दीवार की राशि दिलवाई जाए। उन्होने बताया कि सीएमओ द्वारा मामले पर संज्ञान लिया गया और एचएसवीपी अधिकारियों को निर्देश दिए की शिकायतकर्ता महिला का मामला शीघ्र सुलझाया जाए। उन्होने बताया कि एचएसवीपी के अधिकारी ने सूचित किया कि 17 नवंबर, 2021 को प्रार्थी को राशि का भुगतान पड़ोसी से करवा दिया गया है अतः मामले को सुलझा दिया गया है।

करनाल के नीलोखेड़ी खण्ड में एक दिन फोगिंग मशीन दिलवाई

ओएसडी भूपेश्वर दयाल के अनुसार करनाल जिले से टिकट नं 3445235 से बलकार चौधरी ने 3 नवंबर, 2021 को दोपहर 11ः40 बजे @Khasbre_ROR से @rashtrapatibhvn, @cmohry, @anilvijminister व @pmo को ट्विट पोस्ट किया की नीलोखेड़ी ब्लाक में विभाग के पास एक भी फोगिंग मशीन नहीं पूरा गांव डेंगू की बुरी चपेट में आ गया है । बीडीओ दफतर के चक्कर लगाकर परेशान हो गए है । प्रवासी मजदूर कविता थापा द्वारा भी 3 नवंबर, 2021 को दोपहर 11ः50 बजे फोगिंग मशीन न होने बारे टिप्पणी की गई थी। उन्होने बताया कि मामले की गंभीरता को देखते सीएमओ कार्यालय के अधिकारी सतर्क हुए और तत्काल स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को समस्या का समाधान करने के निर्देश दिए गए। उन्होने बताया कि 3 नवंबर, 2021 को ही सांय 6ः06 बजे ही बलकार चौधरी ने अपने मोबाइल नं 9911260247 से @cmohry, @anilvijminister को रि-ट्विट किया कि इस सकारात्मक प्रतिक्त्रिया के लिए आपका धन्यवाद।

उन्होंने बताया कि ऐसे कई मामले हैं कि सीएम विंडो या ट्विटर हैंडल पर शिकायत मिलने के बाद उसी दिन समाधान हुआ है यहां तक की कैथल जिले के एक मामले में एक छात्रा की शिकायत साढे तीन घंटे में समाधान करवाया। उन्होने बताया कि शिकायतों के समाधान के लिए लोगों ने व्यक्तिगत रूप या पत्राचार के माध्यम से सीएम विंडो व ट्विटर हैंडल से जुड़े अधिकारियों का आभार व्यक्त किया है।

चंडीगढ़, 1 दिसंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने प्रदेश के नवनियुक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल को पद ग्रहण करने पर शुभकामनाएं दी।

श्री संजीव कौशल आज राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय से शिष्टाचार मुलाकात करने के लिए राजभवन पहुंचे थे। उन्होंने राज्यपाल के साथ राज्य की प्रशासनिक व्यवस्था पर चर्चा की।

श्री दत्तात्रेय ने कहा कि श्री संजीव कौशल नए मुख्य सचिव के रूप में सभी अधिकारियों के साथ समन्वय बनाकर कार्य करेंगे, जिससे सरकार की योजनाओं व कार्यक्त्रमों का हर व्यक्ति को लाभ मिलेगा। वे सभी अधिकारियों के साथ अच्छे संबंधों एवं वातावरण के साथ टीमवर्क के रूप में काम करेंगे।

श्री दत्तात्रेय ने कहा कि उन्हें आशा है कि नए मुख्य सचिव के रूप में प्रशासनिक अधिकारियों की टीम सरकार की कल्याणकारी नीतियों को प्रत्येक जरूरतमंद व्यक्ति तक पहुँचाने का भरसक प्रयास करेगी।

उन्होंने कुरूक्षेत्र में आयोजित हो रहे अन्तर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव की तैयारियों व आयोजन से सम्बन्धित बातचीत की और फीडबैक लिया। उन्होंने कहा कि गीता स्थली कुरूक्षेत्र की पहचान अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर बनाने के लिए कुरूक्षेत्र के तीर्थ स्थलों व आस-पास के क्षेत्र को आधुनिक रूप देने की आवश्यकता है।

इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल ने राज्यपाल श्री दत्तात्रेय को विश्वास दिलाया कि उनके मार्गदर्शन में सरकार की नीतियों को पूरी तरह क्त्रियान्वित किया जाएगा। सरकार और प्रशासनिक तंत्र के बीच में बेहतर समन्वय कायम कर प्रदेश के विकास को और गति दी जाएगी। उन्होंने कहा कि आमजन की समस्याओं का त्वरित निपटान करना पारदर्शी प्रशासन देना उनकी प्राथमिकता रहेगी।

श्री संजीव कौशल ने राज्यपाल को अवगत कराया कि पूरे प्रदेश में ग्राम उत्थान अन्तोदय मेले आयोजित किए जा रहे हैं। इस मेलों के माध्यम से सबसे पहले एक लाख से कम आय वाले लोगों को चुना जाएगा, जिन्हें स्वरोजगार व सरकार की योजनाओं व कार्यक्त्रमों से जोड़ा जाएगा।

चंडीगढ़, 1 दिसंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा पुलिस ने कुरुक्षेत्र जिले के एक होटल मालिक से व्हाट्सएप कॉल के जरिए 20 लाख रुपये की फिरौती मांगने के आरोप में एक मास्टरमाइंड को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।

पुलिस के प्रवक्ता ने जानकारी साझा करते हुए बताया कि फोन करने वाले ने पीड़ित से 20 लाख रुपये की मांग की थी और पैसे न देने की सूरत में उसे व उसके परिवार को जान से मारने की धमकी दी थी।

प्रवक्ता ने बताया कि जोगिंदर सिंह ने 18 नवंबर, 2021 को फिरौती और धमकी भरे कॉल की शिकायत पुलिस में दर्ज कराई थी। अपनी शिकायत में उसने बताया कि 17 नवंबर, 2021 शाम को उसके मोबाइल फोन पर एक व्हाट्सएप कॉल आई जिस पर अज्ञात व्यक्ति ने 20 लाख रुपये की फिरौती मांगी।

मामले की गंभीरता को देखते हुए डीएसपी स्तर के अधिकारी की अध्यक्षता में एसआईटी का गठन किया गया। सूचना प्रौद्योगिकी और साइबर क्राइम विशेषज्ञता का उपयोग कर पुलिस टीम ने फोन कॉलर की तह तक जाते हुए जिला करनाल निवासी आरोपी मास्टरमाइंड अंकुश को काबू कर लिया।

आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर अदालत के आदेशानुसार जेल भेज दिया गया है और अग्रिम कार्रवाई जारी है।

2 से 19 दिसंबर तक मनाया जाएगा अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव : मुख्यमंत्री

9 से 14 दिसंबर तक होंगे मुख्य कार्यक्रम

कुरुक्षेत्र के चारों तरफ के रास्तों पर बनाए जाएंगे स्वागत द्वार

चंडीगढ़, 1 दिसंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि श्रीमद्भगवदगीता जीवन का सार है। यह देश और प्रदेशवासियों के लिए बड़े सौभाग्य की बात है कि इस बार गीता जयंती के दिन इस उपदेश को 5 हजार 158 वर्ष हो जाएंगे। गीता हर व्यक्ति के जीवन के लिए कुछ न कुछ सिखाती है, चाहे वह विद्यार्थी हो, सैनिक हो, अध्यापक हो या फिर राजनीतिज्ञ हो। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन के बाद हरियाणा सरकार गीता जयंती महोत्सव को वर्ष 2016 से राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मना रही है। इसी कड़ी में इस बार अंतर्राष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव 2 दिसंबर से शुरू होकर 19 दिसंबर तक चलेगा। मुख्य कार्यक्रम 9 दिसंबर से 14 दिसंबर तक रहेंगे। यह जानकारी मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने बुधवार को कुरुक्षेत्र के ब्रह्मसरोवर पर स्थित पुरुषोतमपुरा बाग में प्रेसवार्ता के दौरान दी।

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि कुरुक्षेत्र की 48 कोस भूमि में अभी तक 134 तीर्थ स्थान थे, कुछ तीर्थ स्थान छूट गए थे, इस बार इसमें 30 और तीर्थों को जोड़ा गया है, जिसके बाद कुल तीर्थों की संख्या 164 हो जाएगी। इसके साथ-साथ गीतास्थली ज्योतिसर में 2 एकड़ भूमि पर 205 करोड़ रुपये की लागत से महाभारत थीम पर भवन का निर्माण किया जाएगा। इस भवन में मल्टीमीडिया प्रणाली से श्रीमद्भगवदगीता, सरस्वती नदी और वैदिक सभ्यता को दर्शाया जाएगा।

गीता जयंती महोत्सव से जुड़ी जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि 2 दिसंबर 2021 को शिल्प एवं सरस मेला शुरू होगा, जिसमें करीब 350 ख्याति प्राप्त कलाकार एवं शिल्पकार पहुंचेंगे। यह 19 दिसबंर तक चलेगा। मुख्य कार्यक्त्रम का शुभारंभ 9 दिसंबर को ब्रह्मसरोवर पर गीता यज्ञ एवं पूजन से होगा। ब्रह्मसरोवर के पावन तट पर भव्य गीता महाआरती का आयोजन किया जाएगा।

आजादी के अमृत महोत्सव पर होंगे कार्यक्रम

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि श्रीमद्भगवगीता, देश की आजादी के लिए शहीद होने वाले स्वतंत्रता सेनानियों के लिए भी प्रेरणास्त्रोत रही है। इसके चलते इस बार आजादी के अमृत महोत्सव पर आधारित भव्य सांस्कृतिक कार्यक्त्रम होंगे। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय गीता संगोष्ठी आयोजित की जाएगी। ‘पवित्र ग्रंथ गीता की स्वाधीनता आंदोलन में भूमिका’ विषय पर संगोष्ठी में आनलाईन देश और विदेश से शोधपत्र प्रस्तुत किए जाएंगे। आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर 75 स्वतंत्रता सेनानियों एवं उनके परिवारों को सम्मानित किया जाएगा।

संत सम्मेलन में जुटेगा संत समाज

मुख्यमंत्री ने कहा कि 12 दिसंबर को महोत्सव के दौरान संत सम्मेलन भी आयोजित किया जाएगा। इसमें साधु संत गीता और अध्यात्म विषय पर चर्चा करेंगे और अपने विचार रखेंगे। इसके साथ साथ 13 दिसंबर को हरियाणा के अनेक कॉलेजों में गीता संसद का आयोजन किया जाएगा। 14 दिसंबर को 48 कोस कुरुक्षेत्र के 75 तीर्थों पर सांस्कृतिक कार्यक्त्रम आयोजित किए जाएंगे।

1100 विद्यार्थी करेंगे वैश्विक गीता पाठ

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि 14 दिसंबर को ब्रह्मसरोवर पर 1100 विद्यार्थी वैश्विक गीता पाठ करेंगे जबकि देश और विदेश से 55 हजार विद्यार्थी आनलाईन गीता पाठ में हिस्सा लेंगे। इसके साथ-साथ 75 ख्याति प्राप्त मूर्तिकार महाभारत एवं गीता विषय पर आधारित मूर्तियों का निर्माण करेंगे।

आनलाइन भी जुड़ेंगे लोग

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव 2021 के आगाज से पहले ही अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन सहित 25 से ज्यादा देशों के 3 लाख 50 हजार लोग सोशल मीडिया के जरिए महोत्सव के साथ जुड़े हैं। इस महोत्सव की वेबसाइट के पेज पर 38 लाख हिट्स मिले हैं। देश और विदेश से लोग इसके माध्यम से भी गीता जयंती महोत्सव से जुड़ सकते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि गीता महोत्सव 2021 पर 21 नवंबर को आनलाईन प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का आयोजन शुरू हुआ। इसमें अमेरिका, कनाडा, कुवैत से लोगों ने अपना पंजीकरण करवाया है।

पुस्तक मेला भी लगेगा

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव 2021 के दौरान पुस्तक मेला भी लगेगा। ब्रह्मसरोवर पर हरियाणा पैवेलियन भी बनाया जाएगा, जिसमें हरियाणा के खान-पान, यहां की संस्कृति देखने को मिलेगी। ब्रह्मसरोवर पर शिल्पकारों को करीब 800 दुकानें दी गई हैं। इस बार कोविड के चलते एक दुकान खाली छोड़कर अगली दुकान दी गई है।

कुरुक्षेत्र के चारों तरफ के रास्तों पर बनेंगे स्वागत द्वार

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि कुरुक्षेत्र के चारों तरफ के रास्तों पर स्वागत द्वार बनाए जाएंगे। ब्रह्मसरोवर के निकट मेला क्षेत्र में तीर्थ यात्रियों के लिए आवश्यक सुविधाएं जुटाई जाएंगी। गीता जन्म स्थली ज्योतिसर में 1363 लाख की लागत से भगवान श्रीकृष्ण के विराट रूप की 40 फुट ऊंची प्रतिमा स्थापित की गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुरुक्षेत्र के विकास में प्रदेश सरकार के साथ-साथ केंद्र सरकार भी सहयोग कर रही है। पर्यटन मंत्रालय भारत सरकार की स्वदेश दर्शन योजना के विकास के लिए कुरुक्षेत्र को कृष्णा सर्किट में शामिल किया गया है। कुरुक्षेत्र के तीर्थों का विकास करने के लिए सरकार की तरफ से 9734.70 लाख रुपये की राशि जारी की गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुरुक्षेत्र के रेलवे स्टेशन को भी रिनोवेट किया जा रहा है। यहां से मथुरा और हरिद्वार के लिए ट्रेन चलाए जाने को लेकर प्रयास किए जा रहे हैं।

सामाजिक संस्थाओं का रहेगा सहयोग

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव में सरकार तो योगदान कर ही रही है लेकिन सामाजिक संस्थाएं भी सहयोग कर रही हैं। उन्होंने भविष्य में अंतरराष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव समिति बनाने पर विचार करने को कहा।इस प्रेसवार्ता के दौरान गीता मनीषी ज्ञानानंद जी महाराज, कुरुक्षेत्र के सांसद श्री नायब सैनी , खेल राज्यमंत्री श्री संदीप सिंह, थानेसर के विधायक श्री सुभाष सुधा और मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव डॉ अमित अग्रवाल मौजूद रहे।

चंडीगढ़, 1 दिसंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव का प्रचार विभिन्न देशों के दूतावासों पर प्रदर्शनी के माध्यम से किए जाने पर विचार किया जाएगा। इसके अलावा विभिन्न राज्यों की राजधानियों में भी गीता जयंती महोत्सव आयोजित करने पर विचार किया जाएगा । मुख्यमंत्री आज श्रीमदभगवत गीता की उपदेश-स्थली कुरुक्षेत्र में प्रेसवार्ता वार्ता के दौरान ने पूछे गए सवालों का जवाब दे रहे थे । मुख्यमंत्री ने ब्रह्मसरोवर के तट पर श्रीकृष्ण जी द्वारा अर्जुन को दिए गए गीता के उपदेश की मुद्रा में बनी भव्य प्रतिमा के सामने संस्कृति उत्थान की प्रतिबद्धता जाहिर करते हुए बताया कि वर्तमान में गीता जयंती महोत्सव को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मनाया जा रहा है। पिछले गीता जयंती महोत्सव में करीब 27-28 देशों के विद्वान शिरकत कर चुके हैं।

यही नहीं पिछली बार 6 देशों के हाईकमिश्नरों ने भी भागीदारी की थी।

उन्होंने जानकारी दी कि कुरुक्षेत्र को को धार्मिक दृष्टि से दिव्य रूप दिया जा रहा है । उन्होंने बताया कि वर्तमान सरकार ने पिछले दिनों श्रीकृष्ण के मुख से निकले गीता के 574 श्लोक के अनुसार देश के 574 जिलों से मिट्टी मंगवा कर श्रीकृष्ण जी के विराट स्वरूप को दर्शाते हुए कुरुक्षेत्र में एक भव्य प्रतिमा का निर्माण किया है ।

एक अन्य प्रश्न के उत्तर में मुख्यमंत्री ने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव में कोविड-19 के नियमों का पूरी तरह से पालन किया जाएगा।

समरोह स्थल के विभिन्न प्रवेश द्वारों पर आवश्यकता के अनुसार थर्मल स्क्त्रीनिंग की जाएगी और वैक्सीन लगाई जाएगी। श्री मनोहर लाल ने यह भी बताया कि कृष्णा सर्किट के फेस वन के तहत केंद्र सरकार द्वारा कुरुक्षेत्र में विकास कार्यों पर करीब 97 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं और भविष्य में जो भी विकास कार्यों की जरूरत होगी तो धन की कोई कमी नहीं रहने दी जाएगी।

चंडीगढ़,1 दिसंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा सरकार ने प्रतिवर्ष कुरुक्षेत्र में आयोजित किए जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव का विस्तार करते हुए इस बार आयोजन में प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों को भी शामिल किया है। सभी विश्वविद्यालयों में आयोजन के बेहतर क्त्रियान्वयन व समन्वय स्थापित करने के लिए गुरुग्राम विवि के कुलपति डॉ. मार्कण्डेय आहूजा को नोडल अधिकारी की जिम्मेदारी दी गयी है। अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव 9 से 14 दिसंबर तक कुरुक्षेत्र में आयोजित किया जा रहा है।

इस बारे में जानकारी देते हुए सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि पिछले पांच वर्षों से हरियाणा सरकार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गीता जयंती का आयोजन कर रही है। प्रदेश सरकार ने इस बार आयोजन का विस्तार करते हुए इसमें प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों को भी शामिल किया है। उन्होंने बताया कि यह पहला अवसर होगा जब सभी विश्वविद्यालयों में गीता महोत्सव का कार्यक्त्रम उत्साह और उमंग के साथ मनाया जाएगा।

चंडीगढ़, 1 दिसंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम के उपभोक्ताओं की शिकायतें दर्ज करने और पुरानी शिकायतों की सुनवाई के लिए उपभोक्ता शिकायत निवारण मंच के सदस्य दिसंबर माह में विभिन्न स्थानों का दौरा करेंगे।

निगम के प्रवक्ता ने आज यहां जानकारी देते हुए बताया कि मंच के सदस्य 3 दिसंबर को ऑप्रेशन सर्कल कैथल, 6 दिसंबर को ऑप्रेशन सर्कल पानीपत, 8 दिसंबर को ऑप्रेशन सर्कल यमुनानगर, 10 दिसंबर को ऑप्रेशन सर्कल झज्जर, 13 दिसंबर को ऑप्रेशन सर्कल सोनीपत और 15 दिसंबर को ऑप्रेशन सर्कल करनाल में सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक सी.जी.आर.एफ. टीम के सदस्य शिकायतों की सुनवाई करेंगे और नई शिकायतें भी दर्ज करेंगे।

इसी प्रकार, 17 दिसंबर को ऑप्रेशन सर्कल कुरुक्षेत्र, 20 दिसंबर को ऑप्रेशन सर्कल अंबाला, 22 दिसंबर को ऑप्रेशन सर्कल पंचकूला, 24 दिसंबर को ऑप्रेशन सर्कल रोहतक, 27 दिसंबर को ऑप्रेशन डिविजन, शाहबाद (कुरुक्षेत्र) और 29 दिसंबर को ऑप्रेशन सिटी सब-डिविजन घरौंडा (करनाल) में सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक सी.जी.आर.एफ. टीम के सदस्य शिकायतों की सुनवाई करेंगे और नई शिकायतें भी दर्ज करेंगे।

प्रवक्ता ने बताया कि उपभोक्ताओं को अपने केस की सुनवाई की सुविधा निकटतम स्थान पर उपलब्ध होगी। इसके अलावा क्षेत्रीय दौरे को छोड़कर कार्यालय आने वाले उपभोक्ताओं की शिकायतों का निवारण सीजीआरएफ मुख्यालय पर सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक होगा।

उन्होंने बताया कि मंच के सदस्य उपभोक्ताओं की सभी प्रकार की समस्याओं की सुनवाई करेंगे, जिनमें मुख्यतः बिलिंग, वोल्टेज़, मीटरिंग से सम्बंधित शिकायतें, कनेक्शन काटने और जोड़ने, बिजली आपूर्ति में बाधाएं, कार्यकुशलता, सुरक्षा, विश्वसनीयता में कमी और हरियाणा बिजली विनियामक आयोग के आदेशों की अवहेलना आदि शामिल हैं।

प्रवक्ता ने बताया कि मंच द्वारा बिजली अधिनियम की धारा 126 तथा धारा 135 से 139 के अन्तर्गत बिजली चोरी और बिजली के अनधिकृत उपयोग के मामलों में दंड तथा जुर्माना और धारा 161 के अन्तर्गत जांच एवं दुर्घटनाओं से सम्बंधित मामलों की सुनवाई नहीं की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने प्रशासनिक सचिवों और जिला उपायुक्तों के साथ की उच्च स्तरीय बैठक

मुख्यमंत्री ने की अंत्योदय ग्राम उत्थान मेलों की प्रगति की समीक्षा

मेलों में लाभार्थियों की अधिक से अधिक पहुंच सुनिश्चित करने के लिए मेले से पूर्व घर-घर जाकर काउंसलिंग पर किया जाए फोकस – मनोहर लाल

युवाओं को उद्यमिता के प्रति प्रेरित और सशक्त बनाना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता – मुख्यमंत्री

चंडीगढ़, 1 दिसंबर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आज यहां वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से राज्य भर में आयोजित किए जा रहे अंत्योदय ग्राम उत्थान मेलों के संबंध में प्रशासनिक सचिवों और जिला उपायुक्तों के साथ समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए निर्देश दिये कि संबंधित अधिकारियों को इन मेलों को सफल बनाने के लिए मिशन मोड पर काम करना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों को स्वरोजगार से जोड़ने के साथ-साथ सरकार की कल्याणकारी नीतियों का लाभ पंक्ति में अंतिम व्यक्ति तक पहुंचने के लिए इन अंत्योदय ग्राम उत्थान मेलों का आयोजन किया जा रहा है। युवाओं को उद्यमिता के लिए प्रेरित और सशक्त बनाना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है।

मुख्यमंत्री ने 29-30 नवंबर को बड़े पैमाने पर व्यवसाय और स्वरोजगार के लिए पात्र परिवारों का चयन करने हेतु राज्यभर में 24 अलग-अलग स्थानों पर आयोजित मेलों के संबंध में उपायुक्तों से सुझाव और प्रतिक्त्रिया ली।

उपायुक्तों और अन्य अधिकारियों से प्राप्त प्रतिक्त्रिया के आधार पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इन मेलों में सकारात्मक परिणाम प्राप्त हुए हैं और इन मेलों को और अधिक सफल बनाने तथा प्रत्येक पात्र परिवार की वार्षिक आय 1.80 लाख तक बढ़ाने के लिए मिशन मोड पर काम करना है।

मेले से पूर्व घर-घर जाकर काउंसलिंग पर किया जाए फोकस

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि इन मेलों में लाभार्थियों की अधिक से अधिक पहुंच सुनिश्चित करने के लिए मेलों से एक दिन पहले व्यक्तिगत परामर्श के लिए प्रत्येक पात्र परिवार के घर-घर जाएं। इसके लिए विशेष टीमों का गठन किया जाना चाहिए। इन परामर्श टीमों का उचित प्रशिक्षण भी सुनिश्चित किया जाए।

उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि इन मेलों में आने के लिए संदेश सबसे पहले परिवार के युवा सदस्यों को भेजा जाए, उसके बाद 60 वर्ष से कम आयु के सदस्यों, तत्पश्चात 60 वर्ष आयु या इससे ऊपर के सदस्यों को भेजा जाए, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि हर परिवार के युवा सदस्य इन मेलों में भाग लें।

आय सत्यापन का कार्य ध्यान से किया जाए

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि सभी जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ पात्र परिवारों को ही प्राप्त हो और रोजगार के अवसर मिलें, इसके लिए हर परिवार का आय सत्यापन बड़े बारीकी और ध्यान से किया जाना सुनिश्चित करें।

उन्होंने एकल परिवार आई.डी. और विभाजित हुए परिवारों की आई.डी. के डाटा को रिकॉर्ड करने के संबंध में निर्देश देते हुए कहा कि ऐसे परिवारों का आय सत्यापन एक माना जाए और इस डाटा का कार्य उचित तरीके से किया जाए। उन्होंने कहा कि मैनुअल और ऑनलाइन प्रोफार्मा के डाटा का ठीक से मिलान किया जाना सुनिश्चित करें।

उपायुक्तों को निजी संस्थाओं में रोजगार की संभावनाएं तलाशनी चाहिए

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ जिलों में जहां निजी संस्थाओं में वर्कफोर्स की आवश्यकता है, ऐसे मामलों में उपायुक्तों को अपने-अपने जिलों में निजी संस्थाओं में वर्कफोर्स की आवश्यकताओं को भेजने की संभावनाएं तलाशनी चाहिए।

पिछले दो दिनों में 24 स्थानों पर मेले का आयोजन

बैठक के दौरान, मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान योजना (एमएमएपीयूवाई) के मिशन निदेशक श्री मनदीप बराड़ ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि पिछले दो दिनों में राज्य भर में 24 विभिन्न स्थानों पर अंत्योदय ग्राम उत्थान मेलों का आयोजन किया गया, जिसमें आय सत्यापन के आधार पर चिन्हित लाभार्थियों को बुलाया गया। इस दौरान सभी लाभार्थियों को स्वरोजगार, मजदूरी, कौशल विकास आदि से संबंधित विभिन्न योजनाओं के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई।

उन्होंने बताया कि इन मेलों के आयोजन के लिए विशेष एसओपी तैयार किए गए थे और इनके अनुसार ही जिला प्रशासन द्वारा व्यवस्था की गई थी। लाभार्थियों के प्रश्नों के निवारण के लिए मेलों में विशेष सहायता डेस्क स्थापित किए गए थे। इसके साथ ही, लाभार्थियों के साथ सरकारी योजनाओं की जानकारी सांझा करने के लिए जोनल समिति और परामर्श डेस्क भी स्थापित किए गए थे।

एमएमएपीयूवाई के तहत सत्यापित पात्र परिवारों को इन मेलों के लिए आमंत्रित किया गया

श्री मनदीप बराड़ ने बताया कि एमएमएपीयूवाई के तहत परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) से सत्यापित डाटा के अनुसार इन अंत्योदय ग्राम उत्थान मेलों में पात्र परिवारों को आमंत्रित किया जा रहा है।

इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव श्री डी. एस. ढेसी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री वी. उमाशंकर, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव तथा सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग के महानिदेशक डॉ. अमित अग्रवाल उपस्थित रहे।

चंडीगढ़, 1 दिसंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक हरियाणा के नवनियुक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल ने आज 35वें मुख्य सचिव के तौर पर अपना पदभार ग्रहण किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि उनके लिए यह बहुत गौरव की बात है कि वे हरियाणा के मुख्य सचिव के पद पर आसीन हुए हैं। आमजन की समस्याओं का त्वरित निपटान करना उनकी प्राथमिकता रहेगी।

उल्लेखनीय है कि श्री संजीव कौशल ने जिला के उपायुक्त से लेकर मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव व वित्तायुक्त जैसे महत्वपूर्ण पदों पर रहते हुए अपनी कार्यशैली की अमिट छाप छोड़ी है। विचारों का पॉवरफुल-जनरेटर तथा कम्यूनिकेटर कहे जाने वाले हंसमुख व मृदु स्वभाव के अधिकारी श्री कौशल की अपने कनिष्ठ व वरिष्ठ अधिकारियों व कर्मचारियों के साथ एक टीम के रूप में काम करने की कला से सभी उनके कायल हैं।

श्री कौशल में प्रतिकूल परिस्थितियों में अपनी क्षमता से अनुकूल परिणाम देने का गजब का हूनर है। बड़ी परियोजनाओं के प्रबंधन का गुण तथा देश व प्रदेश में विकास के लिए उनकी राजनीतिक व ब्यूरोक्त्रेटिक तालमेल की क्षमता उनको आम अधिकारी से विशेष बनाती है।

श्री संजीव कौशल ने अपने सेवाकाल के दौरान विभिन्न कोर्स व प्रशिक्षण प्राप्त किए ताकि सरकारी काम-काज में सुविधा हो सके और जनता को उनकी सेवाओं का लाभ मिल सके। श्री कौशल ने लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी में नवोदित और मध्यम स्तर के आईएएस अधिकारियों को रिसोर्स फैक्ल्टी के तौर पर मागदर्शन किया। यही नहीं उन्होंने भारत सरकार की ओर से ऑस्ट्रेलिया, संयुक्त अरब अमीरात, चीन तथा बहरीन देश में जाने वाले औद्योगिक प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व भी किया है।

श्री कौशल का सेवाकाल के दौरान व्यापक व्यावसायिक अनुभव रहा है। उन्होंने भारत सरकार (संयुक्त सचिव के रूप में) के अलावा दो राज्य सरकारों, दो बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के उपकर्मों (प्रबंध निदेशक के रूप में), हरियाणा के सबसे बड़े नगर निगम फरीदाबाद (महापौर और आयुक्त की जिम्मेदारियों के साथ फरीदाबाद परिषद के मुख्य प्रशासक के रूप में) में काम करने का अनुभव रहा है। यही नहीं उनके द्वारा वर्ष 1987-88 में मदुरै (तमिलनाडु) में सहायक कलेक्टर (प्रशिक्षण) तथा वर्ष 1988-90 के दौरान कोयंबटुर में सब-कलेक्टर के तौर पर दी गई सेवाओं के लिए एक बेहतरीन अधिकारी के तौर पर जाना जाता है।

श्री संजीव कौशल ने वर्ष 1990-91 में हरियाणा में फरीदाबाद के अतिरिक्त उपायुक्त, वर्ष 1991-93 में फरीदाबाद परिषद प्रशासन के मुख्य प्रशासक तथा वर्ष 1993-94 में हरियाणा वेयरहाउसिंग कॉर्पोरेशन के प्रबंध निदेशक के रूप में सेवाएं दी। उन्होंने वर्ष 1994-96 तक यमुनानगर जिला का उपायुक्त और जिला मजिस्ट्रेट का दायित्व निभाया। इसके बाद, उन्होंने हरियाणा सरकार के सहकारिता, स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा, वन्य जीव संरक्षण एवं नियम विभाग में संयुक्त सचिव के तौर पर कार्य किया।

श्री कौशल ने वर्ष 1999 से 2001 तक प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव और सूचना, जनसंपर्क एवं सांस्कृतिक मामले विभाग के निदेशक के तौर पर अपने जिम्मेवारियों का बखूबी निर्वहन किया। वे वर्ष 2001-03 तक हरियाणा के शहरी विकास विभाग के निदेशक, हरियाणा शहरी बुनियादी ढांचा विकास बोर्ड और हरियाणा स्लम क्लीयरेंस बोर्ड के मुख्य प्रशासक रहे।

उन्होंने वर्ष 2003-04 के दौरान केंद्र सरकार में तत्कालीन केंद्रीय विद्युत राज्य मंत्री के निजी सचिव तथा वर्ष 2004-07 तक भारत सरकार के लघु उद्योग विभाग में संयुक्त विकास आयुक्त एवं वर्ष 2007-08 में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय में अतिरिक्त विकास आयुक्त व संयुक्त विकास आयुक्त के तौर पर कार्य किया।

श्री संजीव कौशल ने 12 जुलाई 2008 से 3 जनवरी 2012 तक हरियाणा विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड (एचपीजीसीएल) के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक तथा 3 जनवरी 2012 से 28 मई 2012 तक तकनीकी शिक्षा विभाग में वित्त आयुक्त एवं प्रधान सचिव, 28 मई 2012 से 12 जुलाई 2013 तक वित्त और योजना विभाग में वित्त आयुक्त और प्रमुख सचिव और 12 जुलाई 2013 से 30 अक्टूबर 2014 तक पीडब्ल्यू (बी. एंड आर) और वास्तुकला विभाग में प्रधान सचिव के रूप में कार्य किया।

श्री कौशल को 30 अक्टूबर 2014 को हरियाणा के मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव की जिम्मेवारी सौंपी गई। इन्होंने हरियाणा सरकार के वित्त एवं योजना विभाग, आबकारी एवं कराधान विभाग, कृषि विभाग,सहकारिता विभाग और राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग में अतिरिक्त मुख्य सचिव के तौर पर अतुलनीय सेवाएं दी हैं