प्रधानमंत्री ने लिया बड़े मन से फैसला , प्रदेश अध्यक्ष जताया पीएम मोदी का आभार , किसान भाईयों को अब बड़े मन के साथ वापस घर लौटना चाहिए:ओ पी धनखड़

*

चंड़ीगढ़, 19 नवंबर।बी डी कौशिक मुख्य संपादक मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क।     किसान बंधु एवं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष औम प्रकाश धनखड़ ने कहा कि मोदी-मनोहर सरकार के लिए किसान हित सदैव सर्वोपरि रहे हैं और आगे भी रहेंगे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने गुरु पर्व पर बड़े मन के साथ तीनों कृषि कानून वापस लेने की घोषणा की है। अब किसान भाईयों को भी इतने ही बड़े मन से गुरु पर्व के पावन अवसर पर वापस घर जाना चाहिए। प्रधानमंत्री जी ने गुरु पर्व के पावन अवसर राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में किसान हित से जुड़े मुद्दों पर बहुत ही स्पष्ट शब्दों में कहा कि हमारी सरकार तीन कृषि कानूनों से असहमत किसानों की बात मानते हुए संसद में इन कृषि कानूनों को वैधानिक रूप से वापस ले लेगी तथा भविष्य में सभी की सहमति से किसान हित में सुधारवादी नीति को बेहतर ढंग से आगे बढ़ाएगी। धनखड़ ने सरकार के निर्णय का स्वागत और पीएम मोदी का आभार जताते हुए कहा कि मोदी सरकार किसानों की आर्थिक हालात सुधारने के लिए निरन्तर प्रयासरत है। किसानों की आय बढ़ाने के लिए अनेक योजनाएं बनाकर प्रभावी ढंग से लागू की गई हैं। पीएम किसान सम्मान निधि, किसान क्रेडिट कार्ड, पशुधन क्रेडिट कार्ड, उत्तम किस्म के खाद, बीज , नीम कोटेड यूरिया,जिला स्तर पर सूक्ष्म सिंचाई योजना, बाजार उपलब्ध कराने के लिए ई- मंडी प्रणाली, सॉयल हैल्थ कार्ड,अटल किसान पेंशन योजना, जोख़िम फ्री खेती के लिए भावन्तर भरपाई योजना फसल बीमा योजना, फसल लागत मूल्य का कम से कम डेढ़ गुणा भाव बतौर एमएसपी देने की नीति बनाकर लागू करना। देश का कृषि बजट पिछले सात साल में पांच गुणा बढ़ाना।हरियाणा में भाजपा सरकार ने 15 हजार रुपये प्रति एकड़ मुआवजा, बेहतर तरीके से फसल खरीद, बागवानी की बीमा और भावन्तर भरपाई योजना में शामिल करना आदि। धनखड़ ने कहा कि यह सभी मानते है कि जोत घट रही है। 80 प्रतिशत दो हैक्टेयर से कम जोत वाले किसान भाई हैं। इसलिए छोटे किसानों की आय दोगुणी करने के लिए मोदी सरकार ने फसल विविधकरण, दूध उत्पादन, मछली पालन, मधुमखी पालन और किसानों को बाजार की मांग के अनुसार नकद फसल की खेती को प्रोत्साहित करने के लिए योजनाएं बनाकर लागू की हैं। धनखड़ ने कहा कि मैं भी किसान परिवार से हूँ , किसान की पीड़ा को जानता हूँ, अनुभव करता हूँ, किसान मोर्चा से जुड़कर निरन्तर किसान हित की आवाज उठाई है। *इसलिए मैं किसान भाईयों से कहता हूं कि खेती किसानी को बाजार के साथ जोड़ो, राजनीति के साथ नहीं। ताकि घटती जोत के बावजूद हमारी आगामी पीढ़ी खुशहाल जीवन यापन कर सके। मोदी जी इसी सोच के साथ कार्य कर रहे हैं।किसान भाई यह बात समझें और खुशी के साथ वापस घर जाएं।* भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि किसान संगठनों को छोटे व्यापारियों, श्रमिकों के हितों और प्रदेश की आर्थिक व्यवस्था को धयान में रखते हुए तत्काल टिकरी और सिंघु बॉर्डर का रास्ता खोल देना चाहिए। बहादुरगढ़ और सोनीपत के राई क्षेत्र में उधोग और रास्ते बंद होने से गरीब श्रमिकों, छोटे व्यपारियों और प्रदेश की अर्थव्यवस्था का काफी नुकसान हो चुका है।