हरियाणा सरकार की मुख्य गतिविधियां एवं उनसे जुड़े समाचार पढ़िए मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क पर।

 

हरियाणा सरकार ने बाल दिवस के अवसर पर अंडर-17 खिलाडिय़ों को दिया बड़ा तोहफा

अंडर-17 केटेगरी से हटाई दसवीं कक्षा तक की शर्त, किसी भी कक्षा तक का खिलाड़ी अंडर-17 खेल प्रतियोगिताओं में ले सकेगा भाग

बाल दिवस के अवसर पर खेल मंत्री संदीप सिंह ने की घोषणा, तुरंत प्रभाव से लागू होंगे आदेश

चंडीगढ़ 14 नवंबर- बी डी कौशिक मुख्य संपादक मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क।
बाल दिवस के अवसर पर हरियाणा सरकार ने प्रदेश के अंडर-17 खिलाडिय़ों को बड़ा तोहफा दिया है।

हरियाणा के खेल एवं युवा मामले राज्य मंत्री सरदार संदीप सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि अंडर -17 खेल प्रतियोगिताओं में भाग लेने वाले बच्चों पर लगी दसवीं कक्षा तक की शर्त को हटा दिया गया है। अब अंडर-17 प्रतियोगिता में किसी भी कक्षा के बच्चे भाग ले सकेंगे।

खेल राज्य मंत्री सरदार संदीप सिंह ने बताया कि अब से पहले नियम था कि अंडर-17 खेल प्रतियोगिताओं में केवल दसवीं कक्षा तक के बच्चे ही भाग ले सकते थे। दसवीं से बड़ी क्लास में पढ़ रहा बच्चा अंडर-17 कैटेगरी में भाग नहीं ले सकता था। उन्होंने कहा कि कई मामले ऐसे सामने आए जिनमें बच्चों की उम्र 17 साल से कम थी। लेकिन दसवीं कक्षा से बड़ी कक्षा में होने के कारण वह खेल प्रतियोगिताओं में भाग नहीं ले पा रहे थे। अब बच्चों के हित को देखते हुए बाल दिवस के अवसर पर खेल विभाग ने अंडर-17 से कक्षा 10वीं तक की शर्त हटा ली है। अंडर-17 खेल प्रतियोगिताओं में अब किसी भी कक्षा का बच्चा भाग ले सकेगा।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल की सोच को आगे बढ़ाते हुए तुरंत प्रभाव से इस घोषणा को लागू कर दिया गया है। खेल राज्य मंत्री ने कहा कि उनका मकसद है कि ज्यादा से ज्यादा बच्चे खेलों की ओर अग्रसर होकर अपने माता-पिता और देश का नाम रोशन करेंं इसके लिए सरकार खिलाडिय़ों को हर सुविधा देने के लिए तैयार है। खिलाडिय़ों को सिर्फ मेहनत करके अपना मुकाम हासिल करना है। उन्होंने कहा कि खिलाडिय़ों के हित के लिए अभी बहुत बड़े निर्णय प्रक्रियाधीन हैं और एक-एक करके उन्हें भी जल्द लागू किया जाएगा।


चंडीगढ़, 14 नवंबर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा सरकार ने वायु प्रदूषण को देखते हुए राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में आने वाले चार जिलों अर्थात गुरुग्राम, फरीदाबाद, सोनीपत और झज्जर में 17 नवंबर, 2021 तक सभी स्कूलों को बंद रखने का निर्णय लिया है।

इस संबंध में जानकारी देते हुए एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि राज्य सरकार वायु प्रदूषण को रोकने के लिए एनसीआर क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले फरीदाबाद, गुरुग्राम और झज्जर के राजस्व जिलों में अगले सात दिनों के लिए स्वेच्छा से तत्काल प्रभाव से कई उपाय कर रही है।

उन्होंने बताया कि मुख्य सचिव-सह-अध्यक्ष, हरियाणा राज्य कार्यकारी समिति द्वारा राज्य के सभी प्रशासनिक सचिवों, पुलिस महानिदेशक, मण्डलायुक्तों, गुरुग्राम, फरीदाबाद व रोहतक के आईजीपीएस, गुरुग्राम, फरीदाबाद, सोनीपत और झज्जर के उपायुक्त एवं एसपी और हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, पंचकूला के अध्यक्ष एवं सदस्य सचिव को जारी पत्र में दिए गए निर्देशों के अनुसार इन जिलों में 17 नवंबर, 2021 तक सभी सरकारी और निजी स्कूल बंद रहेंगे।

उन्होंने कहा कि सडक़ों पर वाहनों के आवागमन को 30 प्रतिशत तक कम करने के उद्देश्य से सभी सरकारी और निजी कार्यालयों को घर से काम करने की सलाह दी गई है ताकि वाहनों के उत्सर्जन और वायु में धूल के कणों को कम किया जा सके। उन्होंने कहा कि 10/15 वर्ष से पुराने वाहनों (क्रमश: डीजल/पेट्रोल) की उत्सर्जन के संबंध में कड़ाई से जांच की जाएगी और तदनुसार जब्त किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि इन जिलों में सभी प्रकार के निर्माण और विकास गतिविधियों पर पूर्ण रूप से रोक रहेगी। निर्माण गतिविधियों में प्रयोग होने वाले मैकेनाइज्ड स्टोन क्रशर और हॉट मिक्स प्लांट भी बंद रहेंगे। इसके अतिरिक्त, नगर निकायों द्वारा कचरा जलाने की अनुमति नहीं दी जाएगी और पराली जलाने पर रोक रहेगी। उन्होंने कहा कि सडक़ों की मैन्युअल सफाई की अनुमति नहीं दी जाएगी।

उन्होंने कहा कि धूल को नियंत्रित करने के लिए सडक़ों पर पानी का छिडक़ाव किया जाएगा। उन्होंने कहा कि उपायुक्त उपरोक्त निर्देशों/अनुदेशों को लागू करने के लिए संयुक्त निरीक्षण दल गठित करके व्यापक जांच व निगरानी करेंगे और आदेशों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ हरियाणा सरकार द्वारा समय-समय पर जारी कानून/नियमों/निर्देशोंं के अनुसार कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने कहा कि ये दिशानिर्देश तत्काल प्रभाव से लागू होंगे और 17 नवंबर, 2021 तक लागू रहेंगे। जिला प्रशासन अपने अधिकार क्षेत्र में मुनादी (ढोल की थाप) द्वारा व्यापक प्रचार सुनिश्चित करेगा। इसके अतिरिक्त, इस बारे प्रेस विज्ञप्ति और सोशल मीडिया के माध्यम से भी प्रचार-प्रसार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी संबंधित अधिकारियों द्वारा इन दिशानिर्देशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

डेंगू पर काबू पाने के लिए गंभीरता से कार्य करें अधिकारी: राज्यमन्त्री अनूप धानक

उकलाना क्षेत्र के 13 गांवों को वितरित की 16 फागिंग मशीनें

चंडीगढ़, 14 नवंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के श्रम-रोजगार एवं पुरातत्व-संग्रहालय राज्य मंत्री अनूप धानक ने अधिकारियों को हिसार जिले में डेंगू की बीमारी पर नियंत्रण पाने की दिशा में गंभीर प्रयास किये जाने की हिदायत दी है। उन्होंने कहा कि सभी विभाग तालमेल बनाकर कार्य करें। इस दिशा में किसी भी अधिकारी या कर्मचारी की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। आज उकलाना खंड के 13 गांवों में 16 फॉगिंग मशीनें वितरित करते हुए उन्होंने यह बात कही।

राज्यमंत्री ने पंचायती राज विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि मशीनों के जरिए नियमित रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में फागिंग करवाई जाए, ताकि डेंगू व मच्छरों से फैलने वाली अन्य बीमारियों पर काबू पाया जा सके। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा पंचायती राज विभाग के माध्यम से कुल पांच हजार फॉगिंग की मशीनें प्रदेश के गांवों में भेजी जा रही हैं ताकि डेंगू, मलेरिया व मच्छरों से फैलने वाली बीमारियों पर काबू पाया जा सके। ब्लॉक स्तर पर 2 कर्मचारियों को फॉगिंग मशीन चलाने की ट्रेनिंग दी जा रही है, जो गांव स्तर पर लोगों को फॉगिंग मशीन चलाने की ट्रेनिंग देंगे। फॉगिंग मशीन के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से दवाई मुहैया करवाई जाएगी तथा पेट्रोल-डीजल आदि का प्रबंध पंचायत स्तर पर किया जाएगा।

इस मौके पर एचआरडीएफ चंडीगढ़ से राजकुमार नरवाल, डीडीपीओ बलजीत चहल, एक्सईएन पेशल कुमार शर्मा, बीडीपीओ अशोक कुमार, एसडीओ विजय सिंह मौजूद रहे।

पुस्तक संस्कृति के उन्नयन का करनाल जिला बनेगा मॉडल- पी के दास

चण्डीगढ़, 14 नवम्बर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा बिजली विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री पी के दास ने कहा कि करनाल जिले को पुस्तक संस्कृति के उन्नयन का आदर्श जिला बनाया जायेगा और करनाल में स्थापित हो रहे इन पुस्तकालयों को अनोखे ढंग से संचालित किया जाएगा ।

उन्होंने यह बात आज करनाल में पुस्तकालय के उद्घाटन के उपरांत बैठक में कही।

उन्होंने बिजली विभाग के इंजीनियरों को प्रेरित करते हुए कहा कि सरदार पटेल पुस्तकालय की स्थापना में करनाल के अधिकारियों ने अग्रणी भूमिका निभाई है। यह अतिप्रशंसनीय है। उन्होंने कहा कि शीध्र ही समानाबडु, बड़ागाव और प्रस्तावित ऑक्सी वन में सरदार पटेल पुस्तकालय की स्थापना होगी। यह सभी पुस्तकालय इंटरलोन सिस्टम के तहत पुस्तकों को एक जगह से दूसरी जगह किताबों को स्थानान्तरित करके पाठकों को पढ़ने के लिए साहित्य उपलब्ध करायेंगे।

इस अवसर पर करनाल के उपायुक्त श्री निशान्त यादव ने कहा कि हम समाज में एक अभियान चलायेंगे कि विविध अवसरों पर मिठाई और फूलों की गुलदस्तों के बजाय लोग इन पुस्तकालयों को पुस्तक दान करें यह अभियान ज्ञान दान महादान की अवधारणा को साकार करेगा।


चंडीगढ़, 14 नवंबर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। देश की आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर देश भर में मनाया जा रहा ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ को मद्देनजर रखते हुए इस वर्ष धर्मक्षेत्र-कुरुक्षेत्र में अतंर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव-2021 के अवसर पर आयोजित होने वाले लगभग सभी कार्यक्रमों में आजादी के अमृत महोत्सव की झलक देखने को मिलेगी।

एक सरकारी प्रवक्ता ने आज यह जानकारी देते हुए बताया कि अतंर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव-2021 का आयोजन 2 से 19 दिसंबर तक किया जाएगा। इस अवसर पर कुरुक्षेत्र के 48 कोस के 75 तीर्थों पर दीपोत्सव के अतिरिक्त युवाओं के लिए गीता मैराथन का आयोजन किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि दीपोत्सव कार्यक्रम 14 दिसंबर को होगा और कार्यक्रम के तहत हरियाणा कला परिषद की ओर से सभी 75 तीर्थों पर विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा और गीता संदेश को आजादी के अमृत महोत्सव के साथ जोड़ा जाएगा। इसके अतिरिक्त, इस बार अतंर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव-2021 में राज्य के 75 स्वतंत्रता सेनानियों या उनके परिजनों को भी सम्मानित करने का निर्णय लिया गया है क्योंकि यह आजादी हमें इन लोगों के बलिदान के कारण ही मिली है।

प्रवक्ता ने बताया कि 28 नवंबर को महिला व पुुरुष वर्ग के लिए गीता मैराथन का आयोजन किया जाएगा जो आजादी के अमृत महोत्सव को समर्पित होगी। इस मैराथन के लिए सभी प्रंबध कुरुक्षेत्र जिला खेल एवं युवा कार्यक्रम विभाग द्वारा किए जाएंगे। ट्रैफिक व्यवस्था तथा रुट चिह्निïत करने का कार्य पुलिस अधीक्षक द्वारा कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड के सहयोग से किया जाएगा। मैराथन के दौरान कोविड-19 के नियमों की पालना सुनिश्चित करने के लिए संबधित अधिकारियों को आïवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए गए है। इसके अतिरिक्त, अतंर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव-2021 में सूचना जनसपंर्क एंव भाषा विभाग की ओर से ब्रह्मïसरोवर के पुरुषोतमपुरा बाग के सामने आजादी के अमृत महोत्सव को लेकर एक विशेष प्रर्दशनी भी लगाई जाएगी, जिसमें स्वतंत्रता संग्राम में हरियाणा प्रदेश के योगदान का दर्शाया दिखाया जाएगा।

उन्होंने बताया कि प्रशासन का पूरा प्रयास है कि अतंर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव-2021 के हर कार्यक्रम में आजादी के अमृत महोत्सव की महक आए इसलिए सभी संबंध्ति अधिकारियों को आïवश्यक तैयारियां पूरी करने के आदेश दिए गए हैं।

इंडियन साइन लैंग्वेज में पांचवी कक्षा तक की पाठ्यपुस्तकों का सीएम ने किया विमोचन

-गुरुग्राम के श्रवण एवं वाणी निशक्तजन कल्याण केन्द्र द्वारा देश में पहली बार तैयार की गई हैं ऐसी पाठ्यपुस्तकें

-सीएम ने बाल दिवस श्रवण एवं वाणी निशक्तजन बच्चों के साथ मनाया

?

चंडीगढ़, 14 नवंबर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आज बाल दिवस पर गुरुग्राम के श्रवण एवं वाणी निशक्तजन कल्याण केन्द्र द्वारा निशक्तजनों के लिए तैयार की गई 5वीं कक्षा तक की इंडियन साइन लैंग्वेज की पाठ्यपुस्तिकों का विमोचन किया। ऐसी पाठ्यपुस्तकें देश में पहली बार तैयार की गई हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि इंडियन साइन लैंग्वेज को केवल बधिरों की ही भाषा ना मानें क्योंकि इसको सीखने की आवश्यकता बधिरों के परिजनों को तो होती ही है, अन्य लोगों को भी इसकी जानकारी होनी चाहिए।

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आज बाल दिवस श्रवण एवं वाणी निशक्तजन बच्चों के साथ मनाया। उन्होंने गुरुग्राम के श्रवण एवं वाणी निशक्तजन कल्याण केन्द्र का दौरा किया और केन्द्र के अर्ली इंटरवेंशन सैंटर, डिजीटल साइन लैब आदि का अवलोकन किया और निशक्तजन कल्याण केन्द्र के बच्चों द्वारा बनाई गई वस्तुओं की प्रदर्शनी को देखा। उन्हें बताया गया कि देश में ऐसे व्यक्तियों की संख्या लगभग 50 लाख है और हरियाणा में ऐसे लगभग डेढ़ लाख व्यक्ति हैं।

श्री मनोहर लाल ने कहा कि 6 वर्ष तक की आयु के तथा पहली से पांचवी तक के मूक व बधिर बच्चों के लिए इस केन्द्र ने जो पाठ्यपुस्तकें तैयार की हैं उससे हरियाणा प्रदेश के ही नहीं देश के श्रवण एवं वाणी निशक्तजनों को लाभ होगा। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि इस कल्याण केन्द्र में साइन लैंग्वेज के साथ-साथ डिजीटल साइन लैंग्वेज की लैब बनाई गई हैं जहां पर श्रवण एवं वाणी निशक्तजनों के लिए 600 से ज्यादा वीडियो बनाए गए हैं जिनका प्रयोग कोविड के दौरान हुआ। उन्होंने कहा कि ये वीडियो देशभर के बधिरों के लिए उपयोगी होंगे।

उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि इस कल्याण केन्द्र में आकर उन्हें लगा है कि यहां पर बहुत बड़ा चमत्कार हो रहा है। मूक एवं बधिर बच्चों को सामान्य जीवन जीने में मदद करने हेतू साइन लैंग्वेज के द्वारा भाषा को विकसित करने का अभूतपूर्व कार्य किया जा रहा है। इस केन्द्र में इन बच्चों का जीवन सरल बनाने का काम किया जा रहा है। उन्होंने विश्वास दिलाया कि इन बच्चों को सामान्य व्यक्तियों की तरह पारंगत करने के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर आदि की जो भी जरूरत होगी उसमें सरकार पूरा सहयोग करेगी।

उन्होंने कहा कि गुरुग्राम में कॉरपोरेट जगत की बड़ी कंपनियां संचालित हो रही हैं । ये कंपनियां भी इन बच्चों के लिए सुविधाएं जुटाने को आगे आ रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि शनिवार को ही कॉरपोरेट जगत के प्रतिनिधियों के साथ उनकी बैठक हुई थी जिसमें उन्होंने आह्वान किया था कि सीएसआर की धनराशि को आवश्यकता वाली जगहों पर ही लगाएं । उन्होंने कहा कि संस्थाएं और कंपनियां सामाजिक तथा आर्थिक तौर पर ऐसे कल्याण केन्द्रों की मदद कर सकते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसे निशक्तजनों की सहायता करने के लिए हम सभी सामुहिक जिम्मेदारी लेते हुए समावेशी और संवदेनशील बनें।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कल्याण केन्द्र के राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले विद्यार्थियों को भी सम्मानित किया। इसके अलावा, उन्होंने इस केन्द्र को 350 लैपटॉप देने वाली कॉल्ट कंपनी और अर्ली इंटरवेंशन सैंटर के संचालन में सहयोग देने के लिए 2 डिजीटल स्क्रीन तथा 17 स्टॉफ के सदस्य उपलब्ध करवाने वाली बैचटल कंपनी के प्रतिनिधियों को भी सम्मानित किया। हरियाणा राज्य सडक़ विकास निगम ने भी इस केन्द्र को लगभग 48 लाख रुपये के आईटी उपकरण व 140 टैबलेट उपलब्ध करवाए हैं। आयोजकों ने मुख्यमंत्री को भी कल्याण केन्द्र के बच्चों द्वारा बनाई गई शॉल व पेंटिंग भेंट की।

इससे पूर्व, प्रदेश की श्रवण एवं वाणी निशक्तजन कल्याण समिति की चेयरपर्सन डा. शरणजीत कौर तथा कल्याण केन्द्र की निदेशक डा. सीमा ने भी अपने विचार रखे।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार श्री अमित आर्य, गुरुग्राम के मंडलायुक्त श्री राजीव रंजन, कमीश्नर डिसेब्लिटी श्री राजकुमार मक्कड़, एआईएफडी के महासचिव श्री वी गोपालाकृष्ण, एसएलआरडी के उप निदेशक श्री संजय, उपायुक्त डा. यश गर्ग, पुलिस आयुक्त के के राव, भाजपा जिला अध्यक्ष श्री गार्गी कक्कड़, महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय के कुलपति डा. राजबीर, श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय के कुलपति श्री राज नेहरू, समाजसेवी श्री शरद गोयल, ओएसडी पब्लिसिटी सैल श्री गजेन्द्र फौगाट सहित कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थि रहे।

पटौदी में खोला जाएगा कॉलेज

– संतों ने सदैव समाज को देने का भाव सिखाया

– वर्ष 2022 में 14 अगस्त को कुरुक्षेत्र के पीपली में बड़े स्तर पर मनाया जाएगा विभाजन विभीषिका दिवस, प्रधानमंत्री को करेंगे आमंत्रित-मुख्यमंत्री

??????? ?? ??????????? ???? ????? ??? ?? ?????? ?? ??? ???? ????? ????? ????? ???????? ??? ??????????? ??????? ????????? ??? ???????????? ?????? ??????? ?? ?????? ????? ???? ???? ???? ??? ?? ?????? ???? ?????????? ??????? (vy.vv.w?wv)

चंडीगढ़, 14 नवंबर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने पटौदी के विधायक श्री सत्यप्रकाश जरावता की मांग पर पटौदी में डिग्री कॉलेज खोलने की घोषणा करते हुए कहा कि हम केवल माध्यम मात्र हैं, सरकार का पैसा समाज का पैसा है। यह समाज के लिए है समाज के काम ही आना चाहिए।

वे शनिवार को देर सायं पटौदी में आश्रम हरिमंदिर के संचालक महामंडलेश्वर स्वामी धर्मदेव के षष्ठिपूर्ति महोत्सव में उन्हें शुभकामनाएं देने पहुँचे थे।

मुख्यमंत्री ने उनके स्वागत कार्यक्रम के उपरांत अपने संबोधन में कहा कि संतों के जीवन में जन्मदिन या कोई विशेष उपलक्ष्य का प्रसंग नहीं होता है। उनका एक सहज महत्व होता है क्योंकि उनका जीवन इन उपलक्ष्यों से इतना ऊपर उठ चुका होता है कि संतों को उनकी शारीरिक आयु के बजाय उनके विचारों का जो प्रभाव है, उसके कारण उनको समाज में पूजा जाता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वे जब भी संतों के सान्निध्य में पहुँचते हैं तो उनके मन में सदैव संत विचार के रूप में ऐसे विचार लेने की इच्छा रहती है जिनके माध्यम से वे अपने कर्तव्यों का निर्वहन सही प्रकार से कर सकें। उन्होंने एक पौराणिक प्रसंग का संदर्भ देते हुए कहा कि संत सदैव आपको आपके कर्तव्यों का बोध कराने व समाज को देने का भाव सिखलाते हैं। उन्होंने कहा कि संत अपने लिए कुछ नहीं मांगते, उनका जीवन सदैव समाज के लिए समर्पित होता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश के विभाजन के समय शहीद हुए लाखों लोगों की स्मृति में स्वामी धर्मदेव जी के संरक्षण में पंचनंद शहीद स्मारक ट्रस्ट का संचालन किया जा रहा है। यह संयोग ही है कि आजादी के अमृत महोत्सव के इस वर्ष में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने विभाजन के समय शहीद हुए लोगों की स्मृति में प्रत्येक वर्ष 14 अगस्त को विभाजन विभीषिका दिवस मनाने को घोषणा की है। इन दोनों में काफी समानताएं है। उन्होंने कहा कि मैंने स्वामी धर्मदेव जी से निवेदन किया है कि उपरोक्त ट्रस्ट के पीपली स्थित शहीद स्मारक स्थल पर 14 अगस्त, 2022 को विभाजन विभीषिका दिवस के मौके पर एक बड़े कार्यक्रम का आयोजन किया जाए जिसमें प्रधानमंत्री जी को आमंत्रित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने आश्रम हरिमंदिर में बनाए जा रहे सभागार में सेंट्रलाइज्ड एसी की सुविधा सुनिश्चित करने का दायित्य पटौदी के विधायक श्री सत्यप्रकाश जरावता को देते हुए कहा कि आप इस क्षेत्र के प्रतिनिधि हैं इसलिए यह कार्य आपके माध्यम से होना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन के उपरांत आश्रम में मनाए जा रहे षष्ठिपूर्ति महोत्सव में स्वामी धर्मदेव के साथ उनका जन्मदिन का केक काटकर उन्हें शुभकामनाएं भी दीं। गौरतलब है कि स्वामी धर्मदेव ने 13 नवंबर को साठ वर्ष की आयु पूर्ण की है। षष्ठिपूर्ति का वैदिक संस्कृति में काफी महत्व माना जाता है क्योंकि इस दिन जीवन का एक पड़ाव समाप्त होता है व दूसरा प्रारंभ होता है। संतों में षष्ठिपूर्ति उत्सव मनाने की विशेष परंपरा रही है ।

स्वामी धर्मदेव ने अपने संबोधन में कहा कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने एक राजनेता व राजतंत्र की नई परिपाटी की स्थापना कर समाज को एक नई दिशा दिखाने का कार्य किया है। उन्होंने कहा कि दूसरों की सेवा निःस्वार्थ भाव से करना और इस सेवा के बदले में कुछ भी पाने की इच्छा नहीं रखना, यही सच्ची सेवा है। मुख्यमंत्री संतों द्वारा दिखलाए गए इस पथ पर निःस्वार्थ भाव से आगे बढ़ रहे है। समाज के कल्याण व वंचितों के उत्थान के लिए उनके द्वारा बनाई गई कल्याणकारी नीतियां अन्य राज्यों के लिए प्रेरणास्रोत हैं।

आयोजन में बड़ी संख्या में श्रद्धालु तथा राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे। कार्यक्रम में जरूरतमंद लोगों को संस्था द्वारा राशन और दैनिक जीवन उपयोगी सामान भी वितरित किया गया। इस मौके पर भजन संध्या का भी आयोजन किया गया था।