सतयुग दर्शन संगीत कला केंद्र में प्रमाण पत्र वितरण समारोह का आयोजन

फरीदाबाद ।बी डी कौशिक मुख्य संपादक मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क।

आज सतयुग दर्शन संगीत कला केंद्र फरीदाबाद में वार्षिक प्रमाण पत्र वितरण के उपलक्ष्य में समारोह आयोजित किया गया । जिसमें कला केंद्र में भिन्न-भिन्न विषयों जैसे कि नृत्य गायन व तबला में अनेक विद्यार्थियों ने रेगुलर कक्षाएं लेकर अच्छे अंक प्राप्त किए । इस अवसर पर सतयुग दर्शन संगीत कला केंद्र के प्राचार्य श्री दीपेंद्र कांत जी ने उन सभी विद्यार्थियों को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया ।
इस कार्यक्रम में उनके साथ मुख्य अतिथि ठाकुर शैलेंद्र सिंह मिनिस्ट्री ऑफ सोशल जस्टिस, एजुकेशन डिपार्टमेंट जिला फरीदाबाद व डॉक्टर सी पी यादव इंटरनेशनल मैजिशियन फरीदाबाद , चेयरमैन मैजिक बुक ऑफ रिकॉर्ड उपस्थित रहे ।
इस समारोह में छात्रों ने अपनी प्रस्तुति से सभी का मन मोह लिया । प्रधानाचार्य व अतिथियों ने इस उपलक्ष्य में सभी छात्रों को उनकी सफलता के लिए बधाई दी व प्रोत्साहित भी किया।
इस अवसर पर ठाकुर शैलेंद्र जी ने अपने वक्तव्य में सभी बच्चों को बताया कि आप संगीत के साथ-साथ अपने जीवन में बहुमूल्य गुणों को भी धारण करें, सच बोले, लोगों को बताएं इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि जब भी आप के पेरेंट्स घर से निकलते हैं तो उनसे रिक्वेस्ट करनी है कि हेलमेट लगाकर जाएं इससे ना केवल हम होने वाली दुर्घटना से बचा सकते हैं बल्कि एक संदेश जब बच्चे के माध्यम से बड़ों को दिया जाता है तो उसका अलग प्रभाव पड़ता है।
विशिष्ट अतिथि के रुप में पधारे डॉक्टर सीपी यादव ने अपने वक्तव्य में सभी बच्चों को बधाई देते हुए संदेश दिया कि आप ऐसे ही दिन रात मेहनत करके अपने जीवन को सवारे और जो आधुनिक प्रणाली है उस आधुनिक प्रणाली के साथ संगीत में अपनी ना केवल आप रुचि से सीख रहे हैं बल्कि इसमें प्रमाण पत्र भी हासिल कर रहे हैं जिससे भविष्य में कहीं आप जॉब भी प्राप्त कर सकते हैं तो ऐसे ही आप शिक्षारत रहें।
कार्यक्रम के मध्य में प्रधानाचार्य श्री दीपेंद्र कांत ने सतयुग दर्शन संगीत कला केंद्र के बारे में मुख्य अतिथि व विशिष्ट अतिथि को अवगत कराया कि सतयुग दर्शन संगीत कला केंद्र प्रयाग संगीत समिति द्वारा मान्यता प्राप्त है। संपूर्ण भारत में सतयुग दर्शन संगीत कला केंद्र की 17 शाखाएं कार्यरत है जिसमें लगभग 100 शिक्षक कार्यरत हैं और 2000 बच्चे अभी शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। विगत 2005 से अब तक 10000 से ज्यादा बच्चे संगीत शिक्षा प्राप्त कर चुके हैं। इसके साथ ही यह भी बताया कि वर्ष 2019 में एक बच्चे ने प्रभाकर किया और आज उसको रेलवे में जॉब मिली है अतः बच्चे संगीत सीख कर ना केवल अपना मनोरंजन आगे बढ़ा रहे हैं बल्कि अपना जीवन भी बना सकते हैं।

इस अवसर पर गायन वादन शिक्षक श्री विक्की सहारिया व नृत्य शिक्षिका सुश्री नेहा ने भी छात्रों को उनकी सफलता पर बधाई दी।
सतयुग दर्शन संगीत कला केंद्र के सभी सदस्य श्रीमती सोनिया नागपाल कंचन चोपड़ा रितु बजाज रेनू जुनेजा कोमल मेहता व नेहा बडेरा भी इस समारोह में उपस्थित रहे।
कार्यक्रम के अंत में केंद्र व्यवस्थापक श्रीमती सोनिया नागपाल ने प्रधानाचार्य सहित मुख्य अतिथि व विशिष्ट अतिथि का धन्यवाद ज्ञापन किया ऐसे ही अथक परिश्रम करते रहने का विश्वास दिलाया।