हरियाणा सरकार की मुख्य गतिविधियां एवं उनसे जुड़े समाचार पढ़िए मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क पर।

चण्डीगढ़, 13 नवम्बर / बी डी कौशिक मुख्य संपादक मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क।
पंजाब एवं हरियाणा राज्य विधिक सेवा प्राधिकरणों ने पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय विधिक सेवा समिति के सहयोग से राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वावधान में स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ मनाते हुए हरियाणा एवं पंजाब उच्च न्यायालय, चंडीगढ़ के परिसर में एक प्रदर्शनी का आयोजन किया, जिसका उद्घाटन पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश और राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के मुख्य संरक्षक न्यायमूर्ति श्री रविशंकर झा द्वारा किया गया।
प्रदर्शनी में आजादी से लेकर अब तक का न्यायिक प्रशासन का इतिहास, न्याय प्रदान करने की प्रक्रिया, न्याय वितरण प्रणाली की उपलब्धियों के साथ-साथ विधिक सहायता प्रणाली और विभिन्न अन्य कार्यों को प्रदर्शित किया गया। यह प्रदर्शनी राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसरण में आयोजित की गई है जो 2 अक्तूबर,2021 से 14 नवंबर,2021 तक छ: सप्ताह तक चलने वाले राष्ट्रव्यापी अभियान अखिल भारतीय जागरूकता ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ का एक हिस्सा है।
प्रदर्शनी में छात्र विधिक साक्षरता मिशन के तहत छात्रों द्वारा बनाए गए चित्रों को प्रदर्शित किया गया, जिनमें समाज में प्रचलित सामाजिक मुद्दों जैसे दहेज, नशे की समस्या, बाल श्रम, एसिड अटैक, घरेलू हिंसा, साइबर अपराध आदि के साथ-साथ समाज के विभिन्न कमजोर वर्गों के अधिकारों को दर्शाया गया। अधिकतम जागरूकता सुनिश्चित करने के लिए, हरियाणा राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण ने 2 अक्टूबर, 2021 से लेकर अब तक तीन बार राज्य के सभी गांवों में मोबाइल वैन, सार्वजनिक स्थानों पर कानूनी सहायता डेस्क आदि के माध्यम से विधिक जागरूकता-सह-विधिक सहायता शिविरों, डोर टू डोर दौरों, सेवा वितरण शिविरों, प्रतियोगिताओं, रैलियों, प्रदर्शनियों का आयोजन किया है।
गांवों में डोर टू डोर दौरे करने के लिए राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण ने 724 टीमों का गठन किया है, जिन्होंने 85,000 से अधिक ग्रामीणों से बातचीत की और उन्हें उनके कानूनी अधिकारों के बारे में जागरूक किया। लोगों को कानूनी सेवाओं की अवधारणा के बारे में शिक्षित करने के लिए शिविरों एवं मेलों में 320 कानूनी सहायता डेस्क स्थापित किए गए।
विधिक सेवा प्राधिकरण प्रदर्शनियों के माध्यम से भी जागरूकता उत्पन्न कर रहे हैं और अब तक कुल 277 प्रदर्शनियां आयोजित की जा चुकी हैं। पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायाधीश और पंजाब राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यकारी अध्यक्ष श्री अजय तिवारी, पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायाधीश और हरियाणा राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यकारी अध्यक्ष श्री ऑगस्टीन जॉर्ज मसीह, पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायाधीश और राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, यू.टी. चंडीगढ़ की कार्यकारी अध्यक्ष श्रीमती रितु बाहरी, पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायाधीश और पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय विधिक सेवाएं समिति के अध्यक्ष श्री तेजिंदर सिंह ढींडसा के अतिरिक्त उच्च न्यायालय के कई अन्य माननीय न्यायाधीशों के साथ-साथ पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायिक अधिकारी, पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय बार एसोसिएशन के अध्यक्ष भी इस अवसर पर उपस्थित थे।


चंडीगढ़, 12 नवंबर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा सरकार द्वारा 25 दिसंबर, 2021 को सुशासन दिवस की पूर्व संध्या पर वर्ष 2021 में सुशासन से संबंधित सराहनीय व अनूठे कार्य करने वाले कर्मचारियों को सुशासन पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे।

एक सरकारी प्रवक्ता ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि ये पुरस्कार आर्थिक, सामाजिक और अवसंचरना क्षेत्रों में तथा राज्य के प्रमुख फ्लैगशिप कार्यक्रमों के लिए दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि अधिकतम दस राज्य स्तरीय पुरस्कार तथा प्रत्येक जिले के लिए तीन जिला स्तरीय पुरस्कार दिए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि प्रशासनिक सचिवों, विभागाध्यक्षों और आईएएस अधिकारियों को छोड़कर सभी पात्र कर्मचारी (नियमित या अनुबंध) 22 नवंबर, 2021 तक अपने संबंधित विभागाध्यक्षों के माध्यम से आवेदन कर सकते हैं। विभागाध्यक्ष संबंधित प्रशासनिक सचिवों को आवेदन प्रेषित करेंगे, जो परियोजनाओं/कार्यक्रमों/योजनाओं को चुन कर HaryanaGoodGovernanceAwards.haryana.go पोर्टल के माध्यम से पुरस्कार के लिए नामित करेंगे।

प्रवक्ता ने बताया कि प्रशासनिक सचिवों द्वारा प्राप्त आवेदनों की जांच और मूल्यांकन एक्सटर्नल एक्सपर्ट इंस्टीट्यूशन द्वारा किया जाएगा। ततपश्चात हरियाणा के मुख्य सचिव की अध्यक्षता में अधिकार -प्राप्त समिति विजेताओं के नाम पर अंतिम निर्णय देगी। सभी विजेताओं को एक ट्रॉफी, मुख्यमंत्री द्वारा हस्ताक्षरित एक पुरस्कार प्रमाण पत्र, मुख्य सचिव द्वारा हस्ताक्षरित एक प्रशंसा प्रमाण पत्र और नकद पुरस्कार दिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि इस संबंध में विस्तृत निर्देश वेबसाइट http://csharyana.gov.in और HaryanaGoodGovernanceAwards.haryana.gov.in पर उपलब्ध हैं।

 

नशा माफिया पर हरियाणा पुलिस की बड़ी कार्रवाई
ड्रग तस्कर की 6.5 करोड़ रुपये की संपत्ति को किया अटैच

चंडीगढ़, 12 नवंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा पुलिस द्वारा नशा सौदागरों की अवैध संपत्तियों को कुर्क करने की दिशा में एक ओर बड़ी कार्रवाई करते हुए कुरुक्षेत्र जिले में एक ड्रग तस्कर और उसके परिजनों की 6.5 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति अटैच करवाई गई है। आरोपियों द्वारा यह संपत्ति मादक पदार्थों की तस्करी कर अवैध रूप से अर्जित की गई थी।
हरियाणा पुलिस के प्रवक्ता ने आज यहां जानकारी साझा करते हुए बताया कि सक्षम प्राधिकारी द्वारा संबंधित एक्ट के तहत 1 नवंबर, 2021 को धंतौड़ी, कुरुक्षेत्र निवासी आरोपी रोशन लाल और उसके परिवार के सदस्यों के नाम पर पंजीकृत संपत्तियों को अटैच करने का आदेश जारी किया गया है।
अथाॅरिटी ने आरोपी और उसके परिवार के सदस्यों के नाम पर 4.96 करोड़ रुपये से अधिक कीमत की 130 कनाल 105-मरला कृषि भूमि और छः अलग-अलग बैंक खातों में 1.60 करोड़ रुपये से अधिक राशि को अटैच करने का आदेश जारी किया गया है। आरोपी द्वारा मादक पदार्थ तस्करी से करोडो रूपयों की अवैध संपति अर्जित की गई थी। पुलिस ने अथाॅरिटी से करीब 10 करोड़ रुपये की अवैध संपत्ति अटैच करने का अनुरोध किया था। जिसमें से 6.5 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति को कुर्क करने का आदेश पारित किया गया है।
गत वर्ष 10 क्विंटल से अधिक मादक पदार्थ हुआ था बरामद
आरोपी रोशन लाल के खिलाफ कुरुक्षेत्र के थानेसर और शाहाबाद पुलिस थानों के साथ-साथ पंजाब राज्य में एनडीपीएस एक्ट के तहत कुल चार मामले दर्ज हैं। पुलिस द्वारा थानेसर थाने के अंतर्गत 10.38 क्विंटल चुरा पोस्त व डोडा पोस्त और 34 किलो गांजा पत्ती बरामद करने के बाद अक्टूबर 2020 में आरोपी को उसके दो अन्य साथियों के साथ गिरफ्तार किया गया था। इसके अतिरिक्त, रोशन लाल के पुत्र पर भी एनडीपीएस एक्ट के तहत दो मुकदमे चल रहे हैं। आरोपियों के खिलाफ दर्ज मामले न्यायालय में विचाराधीन हैं।
इससे पहले भी 7.5 करोड़ की संपत्तियो को करवाया जा चुका अटैच
अक्टूबर 2021 में, पुलिस ने अथाॅरिटी से आदेश प्राप्त कर कुरुक्षेत्र जिले के एक ड्रग तस्कर और उसके परिवार के सदस्यों की 7.5 करोड़ रुपये की संपत्ति भी अटैच करवाई थी। इस मामले में आरोपी के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत 11 मामले दर्ज थे।
अन्य पर भी है निशाना
नशे के सौदागरों के खिलाफ शुरू की गई व्यापक कार्रवाई के तहत, हरियाणा पुलिस ने अधिक केंद्रित और लक्षित दृष्टिकोण अपनाते हुए अब ड्रग माफियाओं की संपत्तियों को कुर्क करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है, जो निर्दोष युवाओं के जीवन से खिलवाड़ कर रहे हैं। इस कार्रवाई से नशा तस्करों के बीच एक कड़ा संदेश जाएगा कि अगर वे अब भी इस अवैध व्यापार से खुद को दूर नहीं रखते हैं तो उनकी संपत्ति को जब्त किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त, संपत्तियों को अटैच करने से अवैध मादक पदार्थों की तस्करी पर कड़ा प्रहार होगा और एक निवारक के रूप में कार्य करेगी।

चंडीगढ़, 12 नवंबर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के परिवहन मंत्री श्री मूलचंद शर्मा ने कहा कि महाराणा प्रताप किसी एक बिरादरी के नहीं थे बल्कि वे भारत मां के लाल थे। उनका नाम पूरी दुनिया में सम्मान के साथ लिया जाता है जिन्होंने अपनी मातृभूमि के लिए लंबे समय तक मुगलों के साथ संघर्ष किया।

श्री मूलचंद शर्मा आज जिला महेंद्रगढ़ के सतनाली में वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप स्मृति दिवस पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर उन्होंनेे सामुदायिक केंद्र के लिए 21 लाख रुपए देने की भी घोषणा की। नागरिकों की ओर से सतनाली कॉलेज के लिए स्पेशल बस चलाने की मांग पर परिवहन मंत्री ने कल से ही बस चलाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ‘बेटी बचाओ -बेटी पढ़ाओ’ के अनुरूप कार्य कर रही है। प्रदेश में बेटियों के लिए 150 बसें चलाई गई है जिनके माध्यम से उन्हें अपने शैक्षणिक संस्थाओं तक पहुंचने में आसानी हुई है।

परिवहन मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के नेतृत्व में मौजूदा सरकार ने सभी बिरादरियों को आगे बढऩे के एक समान अवसर दिए हैं । वर्तमान सरकार ने ‘पर्ची-खर्ची’ की सालों पुरानी परम्परा को खत्म करके प्रदेश के युवाओं को मैरिट के आधार पर नौकरी देने का काम किया है। अब गरीब से गरीब घर के बच्चे भी अच्छे पदों पर भर्ती हो रहे हैं। सरकार की नीतियों से प्रदेश के युवाओं में सिस्टम के प्रति भरोसा जगा है।

भिवानी-महेंद्रगढ़ से सांसद श्री धर्मवीर सिंह ने कहा कि राजा तो बहुत हुए लेकिन महाराणा जैसा कोई नहीं हुआ। ऐसे ही महापुरुषों की बदौलत आज देश सुरक्षित है। पूर्व शिक्षा मंत्री रामविलास शर्मा ने महाराणा प्रताप को नमन करते हुए कहा कि उनकी गिनती दुनिया के वीर योद्धाओं में होती है।


चण्डीगढ़, 12 नवंबर। देश में केन्द्र व राज्य सरकारों ने आत्मनिर्भर-भारत, स्टैंड-अप इंडिया और स्टार्ट-अप इंडिया जैसे कार्यकर्मों की बदौलत कोरोना संकट को अवसर में बदला है। इससे नए युग की शुरूआत हुई यह बात हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने गुरुग्राम विश्वविद्यालय में आयोजित ‘‘आपदा में अवसर-बिजनेस मॉडल का नया रूप’’ (Opportunities in crisis : Reinventing Business Models) जैसे प्रासंगिक तथा महत्वपूर्ण विषय पर अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी में बोलते हुए कही।


श्री दत्तात्रेय ने कहा कि फरवरी 2020 से कोरोना नाम के वायरस ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया और भौतिक प्रगति के लिए दौड़ रही दुनिया की तेज रफ्तार पर अचानक ब्रेक लग गया। बड़ी-बड़ी कंपनियां, फैक्ट्रियां, दफ्तर, दुकानें सब बंद करनी पड़ी।
राज्यपाल ने कहा कि हमनें देशवासियों, वैज्ञानिकों, डाक्टरों, समाज सेवियों तथा संस्थाओं के सहयोग से इस भारी आपदा में कईं अवसर ढूंढे हैं। उन्होंने कहा कि आर्थिक क्षेत्र में इस महामारी ने एक नई दृष्टि और अनगिनत नए प्रयोगों, नई अवधारणाओं को जन्म दिया है। शिक्षा क्षेत्र की ही बात की जाए तो महामारी के दौरान लाॅकडाउन में ऑनलाइन शिक्षण का एक कारगर उपाय हमनें सीखा है। इस ऑनलाइन शिक्षण के क्षेत्र में आज बड़े बड़े संस्थान सफलता पूर्वक काम कर रहे हैं। यहां तक कि हमारे कई विश्वविद्यालयों ने तो डिग्री और डिप्लोमा र्कोसेस आॅनलाईन शुरू कर दिए हैं। आपदाकाल में व्यापार एवं व्यवसाय को नए रूप में ढाला है, जिससे देश की अर्थव्यवस्था को ज्यादा प्रभावित नहीं होने दिया और भारत सबसे जल्दी संभलने वाले देशों में शुमार हुआ।
उन्होंने कहा कि भारत जैसे विशाल जनसंख्या वाले विकासशील देश ने कोराना की लड़ाई में अपनी श्रेष्ठता सिद्ध की है। इसी कारण भारत के कई देशों के साथ सम्बन्ध प्रगाढ़ हुए हैं। भारत ने अपने देश में बनी कोरोना वैक्सीन 95 से भी अधिक देशों में पहुंचाई है। इसके साथ-साथ भारत में कोरोना वैक्सीन कवरेज का 100 करोड़ का आंकड़ा पार करके यह सिद्ध कर दिया है कि हर परिस्थिति में बुलन्द होसलों के साथ काम करने में सक्षम हैं।
श्री दत्तात्रेय ने कहा कि इसी वक्त में सकारात्मक सोच के कारण “आपदा में अवसर” तथा “आत्मनिर्भर भारत” जैसे नारे मिले जो बाद में अभियान बन गए। आज हम इस आपदा से मिले सबक से अनेक क्षेत्रों में आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ रहे हैं, हमारे यहां इसी आपदा के समय पीपीई किट, मास्क, सेनेटाइजर जैसी जरूरी चीजों का निर्माण रिकॉर्ड स्तर पर होने लगा। मुझे पूरा विश्वास है कि आर्थिक क्षेत्र में नए प्रयोग तथा नए तौर-तरीकों को विकसित करने में यह संगोष्ठी महत्वपूर्ण सिद्ध होगी।
राज्यपाल ने कहा कि कोविड के समय में लोगों को मानसिक मजबूती देने के लिए गुरुग्राम विश्वविद्यालय ने ‘‘सुकून’’ नाम से हेल्पलाइन संचालित की। उन्होंने कोरोना काल में गुरुग्राम विश्वविद्यालय द्वारा किए गए कार्यों को सराहा।
उन्होंने कहा कि इस संगोष्ठी में देश-विदेश से करीब सौ से अधिक लेखकों ने अपने शोध पत्र भेजे हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें विश्वास है कि देश के विकास तथा आत्मनिर्भर भारत के स्वप्न को साकार करने सभी विद्वान-शिक्षक अपने अध्ययन एवं शोध कार्यों से निरंतर महत्वपूर्ण योगदान देंगें। इस सम्मेलन में गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद जी, कुलपति डा. मार्कण्डेय आहूजा तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

चंडीगढ़, 12 नवम्बर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा की महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री श्रीमती कमलेश ढांडा ने कहा कि कोरोना महामारी के बाद अब स्थितियां धीरे-धीरे सामान्य होनी शुरू हो गई हैं और शिक्षण संस्थान खुलने से एक बार फिर से दिनचर्या सामान्य हो गई है। बच्चों की रचनात्मक गतिविधियों में तेजी लाने के लिए हमें कार्य करने की आवश्यकता है। हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद जैसी संस्थान भी इस कड़ी में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है।

श्रीमती ढांडा आज कैथल में हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय स्वर्ण जयंती बाल महोत्सव समारोह का उद्घाटन करने उपरांत अपना सम्बोधन दे रही थी।

उन्होंने कहा कि बच्चों में क्रियाशीलता लाने के लिए अभिभावक से लेकर शिक्षक, सभी को अपना दायित्व निभाना होगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश के कोने-कोने में आयोजित की गई 11 प्रतियोगिताओं में हजारों बच्चों ने हिस्सा लिया, जिनका मैं उज्ज्वल भविष्य देख रही हूँ। सभी प्रतिभागी अपनी मेहनत और लगन से जिला स्तर और मंडल स्तर पर हुई प्रतियोगिताओं में अपनी क्षमता को साबित करते हुए इस अहम दौर में पहुंचे हैं। मेरी ओर से सभी को हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं तथा आशीर्वाद।

राज्यमंत्री ने कहा कि जिला स्तर पर 17 प्रतियोगिताओं में एक लाख से अधिक बच्चों की भागीदारी सुनिश्चित करवाने के लिए हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद के पदाधिकारी बधाई के पात्र हैं।

श्रीमती ढांडा ने हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद को बाल कल्याण एवं उत्थान के लिए अपने स्वैच्छिक कोष से 5 लाख रुपये की राशि देने की घोषणा भी की।

हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद के मानद सचिव प्रवीण आत्रेय ने कहा कि परिषद लगातार बच्चों के सपनों को उड़ान देने के लिए निरंतर प्रयास कर रही है ।

चंडीगढ़, 12 नवंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने दैनिक समाचार पत्र वीर अर्जुन के मुख्य संपादक और मालिक श्री अनिल नरेन्द्र की धर्मपत्नी व विख्यात समाजसेविका श्रीमती जूही के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। श्रीमती जूही पिछले काफी समय से बीमार चल रही थीं । बीती रात्रि उनका देहांत हो गया।

आज यहाँ जारी शोक संदेश में मुख्यमंत्री ने शोक संतप्त परिवार के सदस्यों के प्रति अपनी हार्दिक संवेदना व्यक्त की और दिवंगत आत्मा की शांति के लिए भगवान से प्रार्थना की।

चंडीगढ़, 12 नवंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के उपमुख्यमंत्री श्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि राज्य सरकार किसानों के हित में नित-नए कदम उठा रही है ताकि प्रदेश की कृषि जीडीपी को अधिक से अधिक बढ़ाया जा सके। आवश्यकता के अनुसार मंडियां स्थापित की जा रही हैं ताकि किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए दूर-दराज के क्षेत्र में न जाना पड़े।

डिप्टी सीएम, जिनके पास विकास एवं पंचायत तथा खाद्य एवं आपूर्ति विभाग का प्रभार भी है,ने यह बात आज उस वक्त कही जब कुरूक्षेत्र जिला के एक दर्जन से अधिक गांवों के सैंकड़ों किसान लुखी गांव में मंडी स्थापित करने पर उनका आभार जताने चंडीगढ़ आए हुए थे। उपमुख्यमंत्री ने ग्रामीणों की मांग पर इस गांव में कुछ दिन पहले ही अनाज मंडी स्थापित करने के निर्देश दिए थे। करीब 40 साल बाद लुखी गांव में दोबारा अनाज मंडी स्थापित हुई है।

श्री दुष्यंत चौटाला का आभार जताने आए लुखी गांव के पूर्व सरपंच सतीश राणा, मेंबर सुशील राणा, बलदेव राणा, हीरा सिंह, जरनैल सिंह ने बताया कि उनके गांव में करीब 40 साल पहले अनाज मंडी शुरू की गई थी परंतु कुछ दिन बाद ही इसको बंद कर दिया गया जिसके कारण किसानों को अपनी धान व अन्य फसलें बेचने के लिए दूर-दराज की मंडियों में जाना पड़ता था। उन्होंने कई बार मंडी को पुनर् चालू करने के लिए प्रशासन से गुहार लगाई परंतु कोई कार्रवाई नहीं हुई। कुछ दिन पहले वे उपमुख्यमंत्री श्री दुष्यंत चौटाला से मिले थे और लुखी गांव की मंडी को चालू करवाने का अनुरोध किया था, जिस पर उपमुख्यमंत्री ने तुरंत अधिकारियों को इस मंडी को चालू करने के निर्देश दिए। शुगरकेन कंट्रोल बोर्ड के सदस्य डॉ. जसविंद खैरा के नेतृत्व में आए गांव जगतिया के जिला पार्षद गुरमीत सिंह, सरपंच बलदेव सिंह, संतोखपुरा गांव के पूर्व सरपंच बलकार सिंह, सुखविंद्र, रामकरण राणा, सतेंद्र राणा, पूर्व सरपंच निरंजन सिंह समेत अन्य किसानों ने बताया कि गांव लुखी में 40 साल बाद अनाज मंडी शुरू होने से किसानों में खुशी का माहौल है, इस मंडी से आस-पास के गांव संतोखपुरा, जगतिया, हसनपुर, गामड़ी समेत एक दर्जन से ज्यादा गांवों के किसानों को फायदा हुआ है।

श्री दुष्यंत चौटाला ने इस अवसर पर किसानों को आश्वासन दिया कि लुखी गांव की अनाज मंडी अब परमानेंट रहेगी ताकि किसान अपनी फसल निश्चिंत होकर यहां बेच सकें।

चंडीगढ़, 12 नवंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। डीएवी स्कूल लुखी(कुरूक्षेत्र) के विद्यार्थियों के लिए आज का दिन उस वक्त अविस्मरणीय हो गया जब वे हरियाणा के उपमुख्यमंत्री श्री दुष्यंत चौटाला से उनके सरकारी आवास पर मिले और एडवांस में ‘बाल दिवस’ मनाया। स्कूली बच्चों ने हरियाणवी गीत-संगीत, नृत्य के अलावा पंजाबी गिद्घा व भंगड़ा की प्रस्तुति दी तो मनोहारी दृश्य बन गया।

श्री दुष्यंत चौटाला ने इन स्कूली बच्चों को चंडीगढ़ के पर्यटन-स्थल रॉक गार्डन की सैर करवाई। उन्होंने इस अवसर पर गांव लुखी में डिजीटल लाइब्रेरी शुरू करने की भी घोषणा की ताकि गांव के प्रतिभावान विद्यार्थी अपने पाठ्यक्त्रम के अलावा प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर सकें।

ज्ञात रहे कि श्री दुष्यंत चौटाला जब हिसार लोकसभा क्षेत्र से सांसद थे तो उन्होंने इसी डीएवी स्कूल के विद्यार्थियों का दो बार ‘संसद-टूर’ करवाया था।

इस अवसर पर विधायक श्री ईश्वर सिंह, विधायक श्री रामकुमार कश्यप, शुगरकेन कंट्रोल बोर्ड के सदस्य डॉ जसविंद्र खैरा, कुलदीप जख्वाला, एसजीपीसी सदस्य सरदार जगशीर सिंह, मांगियाना भी उपस्थित थे।

हरियाणा के सभी शुगर मिलों में लगाए जा रहे हैं एथोनॉल प्लांट-सहकारिता मंत्री

एथोनॉल प्लांट लगाने की शुरूआत मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने की शाहबाद शुगर मिल से-डॉ बनवारी लाल

कैथल शुगर मिल में भी 120 किलोलीटर प्रति दिन क्षमता का एथोनॉल उत्पादन प्लांट लगाने की प्रक्रिया शुरू-सहकारिता मंत्री

चंडीगढ़, 12 नवम्बर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा सरकार सहकारी चीनी मिलों को घाटे से उभारने के लिए प्रदेश की सभी शुगर मिलों में एथोनॉल प्लांट लगाने जा रही है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने शाहबाद शुगर मिल से इसकी शुरूआत भी कर दी है और जल्द ही यह कैथल में 120 केएलपीडी यानि किलोलीटर प्रति दिन क्षमता का प्लांट लगाया जाएगा। इस प्लांट से तैयार एथोनॉल को 20 प्रतिशत तक पैट्रोल में मिलाने की केंद्र सरकार द्वारा मंजूरी दी गई है।

यह जानकारी हरियाणा के सहकारिता मंत्री बनवारी लाल ने कैथल की सहकारी चीनी मिल के 31वें पिराई सत्र के शुभारंभ उपरांत उपस्थित किसानों को संबोधित करते हुए दी। मंत्री ने कहा कि प्रदेश की सभी 11 शुगर मिलों में एथोनॉल प्लांट स्थापित किए जाएंगे। संबंधित कई शुगर मिलों में बिजली, रिफाईंड शुगर, गुड़ व शक्कर बनाने की व्यवस्था कर दी गई है। इससे किसान की आय में वृद्धि होगी।

सहकारिता मंत्री बनवारी लाल ने अपने संबोधन में आगे कहा कि कैथल शुगर मिल में इस वर्ष 45 लाख क्विंटल गन्ने की पिराई का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जोकि पिछले वर्ष से कहीं अधिक है। किसानों की मेहनत रंग लाएंगी और हम अपने निर्धारित लक्ष्य को सभी के सहयोग के साथ पूरा करने में सफल होंगे। हमारा मुख्य उद्देश्य यही है कि शुगर मिल भी पूरी तरह से व्यवस्थित हो और किसानों को इनका भरपूर फायदा निरंतरता में मिलता रहे।

उन्होंने यह भी कहा कि हरियाणा सरकार ने प्रदेश के किसानों को गन्ने का सर्वाधिक भाव दिया है अब अगेती किस्म का भाव 362, मध्यम का 355 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया है। उन्होंने आगे कहा कि वर्तमान हरियाणा सरकार किसान हितैषी सरकार है। गत जुलाई तक की सभी किसानों की पेमेंट की अदायगी की जा चुकी है ।

हरियाणा शुगर फैड के चेयरमैन एवं शाहबाद के विधायक रामकरण ने कहा कि हरियाणा सरकार ने प्रदेश की शुगर मिलों को बेहत्तरीन व्यवस्था दी है। कई शुगर मिलों में बिजली उत्पादन की अच्छी व्यवस्था की गई है तो कईयों में गुड़, रिफाईंड शुगर और शक्कर बनाई जा रही है। इससे शुगर मिलों को अपेक्षाकृत अच्छी आय हो रही है और प्रदेश के शुगर मिल अन्य प्रदेशों के शुगर मिलों की अपेक्षा मजबूत स्थिति में है।

पर्यटन निगम के चेयरमेन एवं पूंडरी विधायक रणधीर सिंह गोलन ने मुख्यातिथि सहित सभी का स्वागत करते हुए कहा कि हरियाणा के किसानों की आर्थिक व्यवस्था को मजबूत करने और किसानों की आय में वृद्धि करने के लिए हरियाणा सरकार निरंतर काम कर रही है।

डीसी प्रदीप दहिया ने मुख्यातिथि सहित सभी आए हुए मेहमानों का स्वागत किया ।

बॉक्स

उल्लेखनीय है कि शुगर मिल में पिछले वर्ष से खोई की ब्रिकट यानि गिट्टी बनाकर 450 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से ब्वायलर व ईंट भट्ठों के लिए उपलब्ध करवाई जा रही है। इससे भी शुगर मिल को काफी फायदा हो रहा है। इतना ही नही शुगर मिल में किसान सेवा केंद्र के दृष्टिगत पैट्रोल पंप की व्यवस्था भी है, जिसमें किसानों को तेल मुहैया करवाया जाता है, जिसकी अदायगी निर्धारित नियमानुसार किसानों द्वारा बाद में की जाती है। मंत्री ने कहा कि किसान भी पराली / फानों में आग लगाने की बजाए पराली प्रबंधन के तहत गिट्टी बनाकर लाभ ले सकते हैं।

बॉक्स

सहकारिता मंत्री ने बताया कि वैज्ञानिकों द्वारा गन्ने की नई किस्म 15023 तैयार की गई है, जिसका रिकवरी रेट लगभग 14 प्रतिशत है यानि एक क्विंटल में से लगभग 14 किलोग्राम चीनी निकलेगी। इस वैरायटी को लगाने के लिए किसानों को प्रोत्साहित किया जा रहा है, जिसके तहत 8 हजार रुपये प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि भी संबंधित किसानों को दी जाएगी।

बॉक्स

गन्ने की पहली ट्रैक्टर-ट्राली लेकर आने वाले बजीर सिंह निवासी खुराना तथा दूसरी टै्रक्टर-ट्राली लेकर आने वाले किसान जगबीर सिंह खुराना को भी मुख्यातिथि द्वारा सम्मानित किया।

चंडीगढ़ 12 नवम्बर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि आदि बद्री धार्मिक स्थल को पर्यटन के रूप में भी विकसित करने के लिए श्राईन बोर्ड व्यापक स्तर पर योजना बनाकर कार्य करे । इसके अलावा आवागमन के लिए जगाधरी से आदि बद्री तक स्थाई बस सेवा शुरु की जाए।

मुख्यमंत्री आज यहां श्री कपाल मोचन, श्री बद्री नारायण, श्री मन्त्रा देवी एवं श्री केदारनाथ श्राईन बोर्ड बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 15 से 19 नवम्बर तक आयोजित होने वाले कपाल मोचन मेले की सभी तैयारियां व श्रद्वालुओं की सुविधाओं के लिए विशेष प्रबंध किए जाएं । इस मेले में लगभग 8 लाख श्रद्वालुओं के शामिल होने का अनुमान है जिसमें पंजाब, हरियाणा व हिमाचल से श्रद्वालु पहुंचेगे।

उन्होंने बताया कि कार्तिक पूर्णिमा को 18 व 19 नवम्बर रात्रि के समय श्रद्वालुओं की संख्या अधिक मात्रा में होगी। इसके लिए विशेष प्रबंध किए जाएं । श्रद्वालुओं को मेले में शामिल होने के लिए जिला प्रशासन के पोर्टल www.yamunanagar.nic.in पर पंजीकरण करवाना अनिवार्य है। इस लिंक का व्यापक स्तर पर प्रचार किया जाए ताकि अधिक से अधिक श्रद्वालु मेले में भाग ले सकें ।

बैठक में मुख्यमंत्री को अवगत करवाया कि मेले में कंटोल रूम स्थापित किया गया है तथा कोविड-19 की परिस्थितियों के मध्येनजर श्रद्वालुओं की सुविधा के लिए मेला परिसर में हेल्थ चैकअप कांउटर बनाए जाएंगे । इसके अलावा दो मोबाईल युनिट मेला परिसर में मौजूद रहेंगी जो श्रद्वालुओं की टेस्टिंग एवं वेक्सिनेशन का कार्य भी करेंगी। अगर कोई श्रद्वालु कोविड पोजिटिव पाया जाता है तो उनके लिए 100 बेड का कंटेनमेंट केन्द्र बनाया गया है। मेले में मास्क एवं सेनेटाईजर का प्रबंध किया जाएगा। सुरक्षा के दृष्टिगत 19 चैक पोस्ट बनाने के साथ साथ 50 सीसीटीवी कैमरा लगाए गए हैं। श्रद्वालुओं के लिए 12 पार्किंग की व्यवस्था की गई है।

मेले के मुख्य आकर्षण

मुख्यमंत्री ने बताया कि मेले में झूलों की व्यवस्था रहेगी तथा प्रतिदिन सांय के समय भजन संध्या आयोजित होगी। मुख्यमंत्री ने मेला प्रशासक को निर्देश दिए कि मेले में आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्त्रमों की श्रखंला में देशभक्ति से ओतप्रोत कार्यक्त्रम भी आयोजित करवाए जाएं। विशेषकर दाडी जत्था द्वारा बलिदान गाथाएं भी सुनाई जाएं । इसके अलावा सभी विभागों द्वारा प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रद्वालुओं की आस्था के अनुरुप कपाल मोचन सरोवर, ऋण मोचन सरोवर, सूर्यकुण्ड, आदि बद्री, मन्त्रा देवी व श्री केदारनाथ सहित सभी धार्मिक स्थलों को कार्यकारी कमेटी का गठन कर विकसित किया जाए। इन स्थलों के सभी रास्ते बनाए जाएं , विशेषकर बिलासपुर से कपाल मोचन सड़क का सुधारीकरण करने के साथ साथ डिवाइडर बनाया जाए। उन्होंने कहा कि लगभग 12 करोड़ रुपए की राशि से चल रहे विकास की कार्यो को जल्द पूरा किया जाए। श्राईन बोर्ड की आगामी बैठक 6 माह के बाद आयोजित की जाए। इसके अलावा स्थानीय स्तर पर भी बैठक आयोजित कर श्राईन बोर्ड के कार्यो की नियमित समीक्षा की जाए।

इस अवसर पर सार्वजनिक उपक्त्रम ब्यूरो के चेयरमैन श्री सुभाष बराला, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव श्री डी एस ढेसी, प्रधान सचिव शहरी स्थानीय निकाय अरुण गुप्ता व निदेशक श्री डी के बेहरा, यमुनानगर के उपायुक्त व श्राईन बोर्ड के सदस्य सचिव श्री पार्थ गुप्ता तथा बोर्ड के गैर सरकारी सदस्य श्री विपिन, सुभाष गौड़़, श्री बलदेव सिंह मौजूद रहे।

चंडीगढ़, 12 नवंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा सरकार ने चंडीगढ़ स्थित ‘हरियाणा सिविल सचिवालय’ के असिस्टेंट्स की कार्यक्षमता में वृद्घि करने के लिए प्रशिक्षण देने का निर्णय लिया है।

इस बारे में जानकारी देते हुए एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि वर्तमान तकनीकी दौर में कार्य करने के नित नए परिवर्तन हो रहे हैं, ऐसे में कर्मचारियों का अपडेट रहना आवश्यक है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने चंडीगढ़ स्थित ‘हरियाणा सिविल सचिवालय’ के असिस्टेंट्स की कार्यक्षमता में वृद्घि करने के लिए प्रशिक्षण देने की योजना बनाई है, इसके लिए मुख्य सचिव की ओर से सचिवालय के सभी ज्वाइंट सैक्त्रेटरिज, डिप्टी सैक्त्रेटरिज, अंडर सैक्त्रेटरिज, सुप्रिंटेंडेंट्स तथा डिप्टी सुप्रिंटेंडेंट्स को निर्देश दिए गए हैं कि वे उन असिस्टेंट्स के नाम 16 नवंबर 2021 तक भेजें जिनको प्रशिक्षण देने की आवश्यकता है।

चंडीगढ़, 12 नवंबर – मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क बी डी कौशिक। हरियाणा की राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन इकाई ने प्रदेश के लोगों को निमोनिया के प्रति सचेत करते हुए कहा है कि यह एक गंभीर बीमारी है, बच्चों में इस बीमारी के लक्षण पाए जाने पर चिकित्सक से अवश्य जांच करवाएं।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, हरियाणा के प्रवक्ता ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि आज 12 नवंबर को ‘विश्व निमोनिया दिवस’ है और इस अवसर पर बच्चों में होने वाले निमोनिया के प्रति लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि देश में 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु का एक बड़ा कारण निमोनिया है, ऐसे में बच्चों में तेजी से जुकाम और खांसी का बढऩा, तेजी से सांस लेना, तेज बुखार आना,सांस लेते समय छाती का नीचे धंसना जैसे निमोनिया के लक्षण दिखाई देने पर घरेलु उपचार करने की बजाए नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में चिकित्सक से जांच करवानी चाहिए।