हरियाणा सरकार की मुख्य गतिविधियां एवं उनसे जुड़े समाचार पढ़िए मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क पर।

चंडीगढ़, 24 अक्तूबर – बी डी कौशिक मुख्य संपादक मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क।
मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा की कॉविड 19 की महामारी के दौरान प्रदेश के सभी सामाजिक धार्मिक वह अन्य संगठनों ने मानवता के लिए बेहतरीन कार्य किया है। उन्होंने कहा कि किसी भी महामारी से निपटना अकेले प्रशासन व सरकार के बस की बात नहीं होती। इसमें आप लोगों का सहयोग सबसे आवश्यक होता है उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी सामाजिक संगठनों ने इस जिम्मेदारी को बखूबी निभाया और मानवता का साथ दिया। मुख्यमंत्री मनोहर लाल शनिवार को फरीदाबाद के गोल्फ क्लब में कोविड-19 महामारी के पूरे देश में सबसे बेहतरीन प्रबंधन करने वाले सिविल सोसायटी के लोगों को बधाई दे रहे थे । उन्होंने फरीदाबाद जिला को बधाई देते हुए कहा कि किसी भी आपदा के दौरान यह सबसे बेहतरीन कार्य है। उन्होंने मदद करने वाले सिविल सोसाइटी के सदस्यों जिनमें उद्योगपति समाजसेवी पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों को बधाई दी । उन्होंने कहा कि अब हमें कोविड के बाद स्वच्छता अभियान में जन सहयोग के साथ आगे बढ़ना है। उन्होंने सभी उद्योगपतियों समाजसेवी वह अन्य लोगों से स्वच्छता की इस मुहिम में आगे आने का आह्वान किया। कोविड के दो साल जिंदगी के अनोखे साल हैं। ये दो साल मानवता पर खतरे की तरह लोग कह रहे थे।

उन्होंने कहा कि बेड, ऑक्सिजन जैसा संकट सबसे ज्यादा आया। ऑक्सिजन का प्रबंध किया गया । दिन भर हम सबने हिसाब लगाया कि कोरोना मरीजों को ऑक्सिजन किस तरह पहुंचाया जाए।

उन्होंने कहा कि दिल्ली के मरीज हमारे यहां हरियाणा में आकर इलाज करा रहे हैं। मगर कोटा दिल्ली का ऑक्सिजन का ज्यादा था।

उन्होंने कहा कि आपदा के दौरान लाखों पैकेट लोगों के घर भिजवाए। 5500 बस, 68 ट्रेन लोगों को घर भेजने के लिए लगवाया ।

उन्होंने कहा कि इस दौरान लोगों ने भी जमकर मदद की। 300 करोड़ सीएम कोविड फंड में आया, डी-ग्रेड के कर्मचारियों ने तक अपनी पूरी सैलरी दान कर दी।उन्होंने कहा कि गरीब परिवारों को हम पैरों पर खड़ा कर रहे हैं। परिवार पहचान पत्र से मुख्यमंत्री अंत्योदय उतधान योजना से कर रहे हैं मदद कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के बड़े-बड़े शहरों में अब स्वच्छता और सुंदरता अभियान चलेगा । स्वच्छ फरीदाबाद की मुहिम चलेगी। बजट बन गया है। जल्द हम सुंदर फरीदाबाद बनाने जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि हम हर गरीब परिवार को ढूंढ कर उनके घर तक 580 सरकार की योजनाओं का लाभ पहुंचाएंगे।इस अवसर पर केंद्रीय उर्जा एवं भारी उद्योग राज्यमंत्री कृष्ण पाल गुर्जर कैबिनेट मंत्री मूलचंद शर्मा, विधायक श्रीमती सीमा त्रिखा, विधायक नरेन्द्र गुप्ता, विधायक विधायक राजेश नागर, नयनपाल रावत, मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव अजय गौड़ मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार अमित आर्य उपायुक्त जितेंद्र, नगर निगम आयुक्त यशपाल और जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

वाईएमसीए फरीदाबाद में दीनदयाल उपाध्याय ज्ञान संसाधन केंद्र की आधारशिला रखी

पूर्व छात्र विश्वविद्यालयों को आत्म निर्भर बनाने में अपना योगदान दें – मुख्यमंत्री

हर विश्विद्यालय अलग एलुमनाई सैल बनाए – मनोहर लाल

गरीब छात्रों की फीस माफी पर विचार करें विश्वविद्यालय

चंडीगढ़, 23 अक्तूबर – मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क बी डी कौशिक। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने प्रदेश के विश्वविद्यालयों को आत्मनिर्भर बनाने में पूर्व छात्रों से योगदान देने के लिए आगे आने का आह्वान किया है। उन्होंने कहा कि पूर्व छात्र अपने संस्थानों को अपनाएं और विश्वविद्यालय के सरकारी अनुदान को शून्य तक ले जाने का लक्ष्य निर्धारित करें।

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल आज जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद में ‘पूर्व छात्र मिलन समारोह’ को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने विश्वविद्यालय में लगभग 13 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले दीनदयाल उपाध्याय ज्ञान संसाधन केन्द्र की आधारशिला रखी। यह केन्द्र विश्वविद्यालय में विभिन्न विद्याओं के ज्ञान संसाधन का प्रमुख केन्द्र होगा।

 

मुख्यमंत्री ने विश्वविद्यालय में स्थापित महान भारतीय वैज्ञानिक आचार्य जगदीश चंद्र बोस की प्रतिमा पर माल्यार्पण भी किया। जे.सी. बोस के नाम पर विश्वविद्यालय का नामकरण वर्ष 2017 में मुख्यमंत्री द्वारा किया गया था। मुख्यमंत्री ने विश्वविद्यालय परिसर में पौधारोपण भी किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री विश्वविद्यालय के प्रतिष्ठित पूर्व छात्रों के साथ संवाद भी किया। इस अवसर पर कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने मुख्यमंत्री को विश्वविद्यालय की विकास गतिविधियों एवं भावी परियोजनाओं से अवगत करवाया, जिसमें फरीदाबाद-गुरूग्राम सड़क मार्ग पर बनने वाले विश्वविद्यालय के दूसरे परिसर की परियोजना भी शामिल है। मुख्यमंत्री ने विश्वविद्यालय के दूसरे परिसर की परियोजना के क्त्रियान्वयन को लेकर अपने सुझाव भी दिये।

समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि विश्वविद्यालय को गुरुकुल पद्वति को अपनाना होगा। भारतीय शिक्षण पद्वति में गुरुकुल आत्मनिर्भर रहे हैं । गुरुकुल अपने संसाधन गुरू दक्षिणा के माध्यम से जुटाते थे। इसी प्रकार, विश्वविद्यालयों को वित्तीय संसाधन जुटाने के लिए पूर्व छात्रों की भूमिका को सक्त्रिय बनाना होगा।

पूर्व छात्रों को शिक्षण संस्थान की पूंजी बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी विश्वविद्यालयों को एक अलग एलुमनाई सेल बनाना चाहिए और पहले बैच से लेकर अब तक का डेटाबेस बनाना चाहिए। विश्वविद्यालय एवं पूर्व छात्रों के बीच संवाद को बढ़ावा दिया जाना चाहिए ताकि पूर्व छात्रों में संस्थान के विकास में योगदान देने का भाव उत्पन्न हो। उन्होंने कहा कि यदि सभी विश्वविद्यालय ऐसा करने में सफल होते हैं तो जल्द ही सभी विश्वविद्यालय सरकारी अनुदान से पूर्ण या आंशिक रूप से मुक्त हो जायेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकारी अनुदान का लाभ जरूरतमंदों तक पहुंचना चाहिए। इसलिए, विश्वविद्यालयों को चाहिए कि वे फीस को लेकर ऐसे स्लैब बनाये, जिसमें न्यूनतम आय की सीमा पर पूरी फीस माफी, इसके बाद 50 प्रतिशत और उससे ऊपर पूरी फीस ली जाये। ऐसा भी प्रावधान हो कि यदि कोई परिवार एक अन्य छात्र की फीस को वहन करना चाहे तो वह ऐसा कर पाये। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सरकारी एवं निजी क्षेत्र में 48 विश्वविद्यालय हैं , जिसमें जे.सी. बोस विश्वविद्यालय का अपना अलग नाम एवं पहचान है।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का प्रयास है कि सरकारी अनुदान जरूरतमंद व्यक्ति तक पहुंचे, जिसके लिए परिवार पहचान पत्र पंजीकरण का कार्य शुरू किया गया है और अब तक 65 लाख परिवारों का पंजीकरण हो चुका है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान योजना शुरू की गई है, जिसमें एक लाख रुपये से कम आय वाले परिवारों की पहचान करते हुए उनकी आय में वृद्धि करने के लिए प्रयास किये जा रहे हैं ।

समारोह को संबोधित करते हुए केन्द्रीय ऊर्जा एवं भारी उद्योग राज्य मंत्री श्री कृष्णपाल गुर्जर ने औद्योगिक विकास में विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रों के योगदान की सराहना की। उन्होंने कहा कि इस संस्थान के पूर्व छात्र सफल उद्यमी के रूप में उत्पादन, रोजगार एवं राजस्व देकर देश की तरक्की में भागीदार है।

इससे पहले, समारोह को संबोधित करते हुए कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने विश्वविद्यालय की अकादमिक एवं ढांचागत विकास परियोजनाओं का व्यौरा प्रस्तुत किया। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय अपने संसाधन जुटाने की दिशा में कार्यरत है ताकि सरकारी अनुदान पर विश्वविद्यालय की निर्भरता कम किया जा सके। उन्होंने मुख्यमंत्री से एस्कॉर्ट मुजेसर मैट्रो स्टेशन के साथ जे.सी. बोस विश्वविद्यालय का नाम जोड़ने तथा विश्वविद्यालय में एक हजार क्षमता के नये छात्रावास के निर्माण के लिए सहयोग का अनुरोध किया।

समारोह को संबोधित करते हुए पूर्व छात्र संघ मॉब के अध्यक्ष डॉ. नवीन सूद ने संघ द्वारा विश्वविद्यालय एवं छात्रों को लेकर किये जा रहे कार्यों पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय में विकास एवं जरूरतमंद विद्यार्थियों सहयोग देने में पूर्व छात्र संघ की सक्त्रिय भूमिका रही है। समारोह के अंत में कुलसचिव डॉ. एस.के. गर्ग ने सभी अतिथियों का धन्यवाद किया।

समारोह में मुख्यमंत्री ने ब्रिज कोर्स के छात्रों को प्रमाण पत्र भी प्रदान किया। विश्वविद्यालय द्वारा स्वर्ण जयंती समारोह के उपलक्ष में पूर्ववर्ती वाईएमसीए इंजीनियरिंग संस्थान के डिप्लोमा धारकों को डिग्री पूरी करने के विशेष अवसर के रूप में ब्रिज कोर्स की शुरूआत की गई थी और लगभग 200 से अधिक पूर्व छात्रों ने इस विशेष अवसर का लाभ उठाया।

समारोह के दौरान विश्वविद्यालय द्वारा पूर्व छात्र एवं प्रतिष्ठित उद्यमियों से विश्वविद्यालय में अनुसंधान एवं विकास और नवाचार सुविधाओं में निवेश करने के लिए आह्वान किया गया। कुलपति प्रो. दिनेश कुमार द्वारा किये गये आह्वान पर मौजूद पूर्व छात्रों एवं उद्यमियों ने विश्वविद्यालय को एक करोड़ रुपये की राशि का अंशदान दिया तथा चरणबद्ध से करने पांच करोड़ रुपये की राशि का योगदान देने का विश्वास दिलाया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जे.सी. बोस हरियाणा स्टार्ट-अप प्रतियोगिता का शुभारंभ भी किया। विश्वविद्यालय के इंक्यूबेशन फाउंडेशन द्वारा आयोजित यह प्रतियोगिता जगदीश चन्द्र बोस की जयंती 30 नवम्बर तक चलेगी, जिसमें विजेताओं को प्रथम पुरस्कार के लिए 10 लाख रुपये, द्वितीय पुरस्कार के लिए पांच लाख रुपये तथा तृतीय पुरस्कार के लिए तीन लाख रुपये की नकद पुरस्कार राशि प्रदान की जायेगी।

समारोह के दौरान विश्वविद्यालय के प्रतिष्ठित पूर्व छात्रों को सम्मानित भी किया गया। इनमें बोनी उद्योग समूह के प्रबंध निदेशक राज भाटिया, डीपवाटर ड्रिलिंग एंड इंडस्ट्रीज के चेयरमैन नरेश कुमार, भारती एंटरप्राइजेज के प्रबंध निदेशक राकेश भारती मित्तल, हिन्द हाइड्रोलिक्स एंड इंजीनियरिंग कंपनी के प्रबंध निदेशक सुखदेव सिंह, सुप्रसिद्ध उद्घोषक व उद्यमी शम्मी नारंग, डीवाई पाटिल युनिवर्सिटी, कोल्हापुर के कुलपति डॉ. राकेश मुदगल, डेकिन एयरकंडिशनिंग इंडिया के प्रबंध निदेशक कंवलजीत जावा, निदेशक रक्षा संपदा, पश्चिमी कमान कैलाश चन्द्र गुप्ता, कैरियर ग्लोबल कॉरपोरेशन के प्रबंध निदेशक अरुण भाटिया, ट्राई में प्रसारण सेवाओं के सलाहकार श्री अनिल कुमार भारद्वाज, कैरियर कमर्शियल रेफ्रिजरेशन के प्रबंध निदेशक विनय खुंगर, एमवी इलेक्ट्रोसिस्टम्स के प्रबंध निदेशक मोहित वोहरा तथा फरीदाबाद के उपायुक्त जितेन्द्र यादव शामिल रहे। अन्य प्रतिष्ठित पूर्व छात्र एवं बेल्ज इंस्ट्रूमेंट्स के प्रबंध निदेशक अशोक नेहरा को कोविड वॉरियर के रूप में सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री मूलचंद शर्मा, विधायक श्रीमती सीमा त्रिखा, विधायक नरेन्द्र गुप्ता, विधायक विधायक राजेश नागर, नयनपाल रावत, मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव अजय गौड़ और जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

रबी सीजन के लिए प्रदेश में 3 लाख मी.टन डीएपी एलोकेट हो चुकी – जेपी दलाल

प्रदेशभर में डीएपी की कोई कमी नहीं और गेहूं की बिजाई के समय भी खाद की कमी नहीं रहेगी

चंडीगढ, 23 अक्तूबर – मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क बी डी कौशिक। प्रदेश के कृषि एवं पशुपालन मंत्री जेपी दलाल ने कहा है कि प्रदेश में डीएपी की कोई कमी नहीं। रबी सीजन के लिए तीन लाख मी.टन यानि 60 लाख बैग डीएपी एलोकेट हो चुकी है । यह पिछले पांच सालों की एवरेज से 20 प्रतिशत अधिक है।

कृषि मंत्री भिवानी के लोक निर्माण विश्राम गृह में सरकार के सात साल-सात कमाल कार्यक्त्रम के तहत प्रदेश सरकार द्वारा करवाए गए विकास कार्यों पर संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे।

कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार किसानों को जोखिम फ्री बनाने के लिए निरंतर ठोस योजनाएं लागू कर रही है। उन्होंने किसानों से अपील की है कि वे जरूरत के अनुसार ही डीएपी व अन्य रसायनिक खाद खरीदें। किसान आगामी फसलों के लिए अभी से खाद का स्टॉक न करें। नवंबर और दिसंबर माह के दौरान में फसल बिजाई में किसानों के समक्ष डीएपी व यूरिया की कमी नहीं रहेगी।

उन्होंने कहा कि एमएसपी पर सर्वाधिक फसलें खरीदने वाला हरियाणा देश का पहला राज्य है जिसने किसान हितैषी योजनाओं को धरातल पर लागू किया गया है। उन्होंने कहा कि किसान की आमदनी बढ़ाने के लिए विविधिकरण पर जोर दिया गया है। प्रदेश के एक लाख गरीब परिवारों को परिवार पहचान पत्र के आधार पर चिन्हित करके आमदनी बढ़ाई जाएगी, जिससे उनका जीवन स्तर सुधरेगा। उन्होंने कहा कि सरकार अंत्योदय की भावना के साथ पंक्ति में खड़े अंतिम व्यक्ति को सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचा रही है।

श्री दलाल ने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना किसानों के लिए हितकारी साबित हुई है। बाजरे को भावांतर भरपाई योजना में शामिल किया है और इससे अन्य प्रदेशों से बाजरा हमारी मंडियों में नहीं आएगा। बाजरा उत्पादन किसानों को नुकसान नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा देश का पहला ऐसा राज्य है जहां 11 फसलें न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी जा रही हैं जबकि पड़ोसी प्रांत राजस्थान व पंजाब में किसानों के साथ अन्याय हो रहा है।

कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि युवाओं को रोजगार देने के लिए हर हित स्टोर प्रदान किए जा रहे हैं, जिसका लाभ युवाओं को मिलेगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा प्रदेश की खेल नीति देश के अन्य प्रदेशों से सबसे अच्छी है। ओलंपिक खेलों में भाग लेने वाले खिलाडिय़ों को सबसे अधिक प्रोत्साहन राशि दी जा रही है।

कृषि मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में राज्य सरकार हरियाणा एक-हरियाणवी एक तथा सबका साथ-सबका विकास व सबका विश्वास के आधार पर प्रदेश को आगे ले जाने का काम कर रही है।

गुरुग्राम में मुख्यमंत्री की विकास रैली में उमड़ा जनसैलाब, 125 करोड़ रुपए की परियोजनाओं की मिली सौगात

चंडीगढ़, 23 अक्तूबर – मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क बी डी कौशिक।


गुरुग्राम के सोहना विधानसभा क्षेत्र में हुई विकास रैली में हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने 125 करोड़ रुपए की परियोजनाओं की सौगात दी। सोहना विधानसभा क्षेत्र की ओर से विधायक संजय सिंह ने मुख्यमंत्री के समक्ष मांग पत्र रखा।

मुख्यमंत्री की विकास रैली को लेकर उमड़े जनसैलाब में खासा उत्साह देखने को मिला। विकास रैली में सोहना के विधायक संजय सिंह द्वारा सोहना विधानसभा क्षेत्र की ओर से मांग पत्र प्रस्तुत किया गया। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आज विकास रैली के दौरान दो परियोजनाओं का शिलान्यास किया । उन्होंने आज तावडू व सोहना के लिए लघु सचिवालय का शिलान्यास किया । इस परियोजना पर लगभग ₹16 करोड़ रुपये की राशि खर्च की जाएगी। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने तावडू में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व आवासीय भवन का उद्घाटन किया जिस पर ₹5 करोड़ 52 लाख रुपए की राशि खर्च की जाएगी।

इसी प्रकार, उन्होंने आज सोहना के नागरिक हस्पताल के क्षमता 50 बेड से 100 बेड करने को मंजूरी दी। इसी प्रकार, विधायक द्वारा रखी गई मांग पर बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि दमदमा झील को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिए टूरिज्म विभाग द्वारा निश्चित योजना बनाई जाएगी ताकि यहां ठीक ढंग से विकास किया जा सके। इसी प्रकार मुख्यमंत्री ने दमदमा में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की मांग को भी मंजूर किया जिसके निर्माण पर 3.5 करोड़ रुपए की राशि खर्च की जाएगी। इसी प्रकार दमदमा गांव में विद्यालय का नाम शहीद राज सिंह खटाना के नाम पर रखे जाने की मांग को भी मुख्यमंत्री ने मंजूरी दी।

विधायक द्वारा रखी गई मांग पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सोहना शहर की 41 कॉलनियों का जल्द ही सर्वे करवाया जाएगा और फिजिबिलिटी रिपोर्ट के आधार पर उन्हें रेगुलराइज करवाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने फव्वारा चौक के सौंदर्यीकरण कार्य को भी मुख्यमंत्री ने स्वीकृति दी। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने सोहना विधानसभा क्षेत्र में पंडित दीनदयाल पार्क बनवाने को भी मंजूरी दी। इस पार्क के निर्माण पर ₹5 करोड़ रुपये की राशि खर्च की जाएगी। इसके अलावा लोक निर्माण विभाग की 7 सड़कों को चौड़ा करने, सुधारीकरण व दो नई सड़क बनाने की मांग को भी मुख्यमंत्री ने स्वीकृत किया। इन सड़कों के निर्माण पर 33.5 करोड़ रुपए की राशि खर्च की जाएगी।

इसके अलावा, सोहना में 4 स्कूलों के अपग्रेडेशन के मांग को भी मुख्यमंत्री ने हरी झंडी दी। मार्केटिंग बोर्ड द्वारा 4 किलोमीटर लंबी 9 सड़कें बनाए जाने की मांग को भी मुख्यमंत्री ने स्वीकृत किया जिस पर ₹5 करोड़ रुपये की राशि खर्च होगी। गांव सरमथला में 6.5 एकड़ भूमि पर स्टेडियम की मांग को भी मंजूर किया गया। इसी प्रकार गांव ग्वाल पहाड़ी में भी 6.5 एकड़ भूमि उपलब्ध करवाए जाने पर वहां खेल स्टेडियम बनाया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सोहना में छह स्थानों पर सामुदायिक भवन बनाए जाएंगे जिस पर ₹10 करोड़ रुपये की राशि खर्च की जाएगी । इसी प्रकार एचआरडीएफ से 8 सड़कों का भी निर्माण किया जाएगा जिस पर ₹10 करोड़ रुपये की राशि खर्च होगी। सोहना विधानसभा क्षेत्र में पहाड़ के पानी के लिए सात चेक डैम बनाने की परियोजना को भी मुख्यमंत्री द्वारा मंजूरी दी गई जिस पर 2 करोड़ रुपए की राशि खर्च की जाएगी। इस प्रकार आज मुख्यमंत्री की सोहना विधानसभा क्षेत्र में विकास रैली में 125 करोड़ रुपए की परियोजनाओं को मुख्यमंत्री द्वारा मंजूर किया गया।

रेल-रोड नेटवर्क से जुड़कर सोहना का होगा चहुमुखी विकास – मुख्यमंत्री

-सोहना क्षेत्र के गांव सरमथला में मुख्यमंत्री ने किया विकास रैली को संबोधित

-गांव सरमथला में महाराणा प्रताप की प्रतिमा का किया अनावरण

-रैली में उमड़ी भारी भीड़ से गदगद, सीएम ने सोहना विधायक कंवर संजय सिंह द्वारा रखी गई सभी मांगे की मंजूर

-करीब 50 विकास परियोजनाओं के लिए 125 करोड़ की राशि मंजूर की

चंडीगढ़, 23 अक्तूबर – मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क बी डी कौशिक।
हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि रेल-रोड नेटवर्क विकास की धुरी है और सोहना क्षेत्र का इस विकासात्मक नेटवर्क से जुड़ने से चहुमुखी विकास होगा और रोजगार के अवसर बढ़ने के साथ साथ इलाके में समृद्धि आएगी। सोहना क्षेत्र से निकल रहे करीब 5 रेलवे व सड़क कॉरिडोर सोहना क्षेत्र में औद्योगिक विकास के साथ ही रोजगार की अपार संभावनाएं प्रबल करेंगे। मुख्यमंत्री शनिवार को गुरुग्राम के सोहना विधानसभा क्षेत्र के गांव सरमथला में आयोजित विकास रैली में उमड़े जनसैलाब को संबोधित कर रहे थे। विकास रैली से पहले मुख्यमंत्री ने गांव में करीब 23 फुट ऊंची वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की प्रतिमा का अनावरण भी किया। विकास रैली के संयोजक एवं सोहना से विधायक कंवर संजय सिंह ने मुख्यमंत्री सहित अन्य अतिथिगण का मंच पर अभिनंदन किया। रैली में उमड़ी भारी भीड़ से मुख्यमंत्री इतने प्रसन्न हुए कि उन्होंने कहा कि सोहना क्षेत्र में वे पहले भी आए हैं और यहां जनसभाएं भी की है लेकिन आज की रैली में जितनी भारी संख्या में भीड़ उमड़ी है और उस भीड़ में भी जो उत्साह देखने को मिल रहा है वैसा पहले कभी नहीं देखा। मुख्यमंत्री ने सोहना क्षेत्र में करीब 50 विकास परियोजनाओं के लिए 125 करोड़ रुपए की राशि भी मंजूर कर विकास योजनाओं की सौगात सोहना हलके को दी।

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने सोहना क्षेत्र के लोगों को बधाई देते हुए कहा कि सोहना में विकास की लहर चल रही है और केएमपी एक्सप्रेस -वे, ऑर्बिट रेलवे कॉरिडोर, दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस-वे, वेस्टर्न डेडिकेटिड एक्सप्रेस-वे सहित गुरुग्राम-अलवर हाईवे क्षेत्र में औद्योगिक विकास का रास्ता प्रशस्त करेंगे। वहीं औद्योगिक इकाइयों के आगमन से क्षेत्र के युवाओं को रोजगार भी मिलेगा, इलाके में समृद्धि आएगी। उन्होंने कहा कि आज का यह दिन ऐतिहासिक है जिसमें हमें महान योद्धा महाराणा प्रताप की प्रतिमा का अनावरण करने का अवसर मिला है और क्षेत्र में विकास योजनाओं की मंजूरी देते हुए कोरोना काल के बाद विकास को पुनः गति दी जा रही है। उन्होंने कहा कि आज सरकार महाराणा प्रताप जैसे शूरवीरों के दिखाए मार्ग पर आगे बढ़ रही है और जो आकांक्षा 2014 में देखी गई थी, वह दिनोंदिन पूरी होती जा रही है। उन्होंने बताया कि ई-गवर्नेंस के साथ पूरी पारदर्शिता बनाये रखते हुए समाज के अंतिम व्यक्ति तक योजनाओं का लाभ पहुंचाने की दृष्टि से सरकार कदम उठा रही है।

हरियाणा की स्वामित्व योजना बनी देश के लिए अनुकरणीय –

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले सात सालों में सरकार ने जनसेवा की भावना से योजनाओं को लागू करते हुए काम किये हैं। उन्होंने गौरवान्वित होते हुए कहा कि आज हरियाणा प्रदेश की विकास योजनाएं देश में अनुकरणीय बन रही हैं, यह स्वयं प्रधानमंत्री ने कहा है जो मेरे लिए बहुत बड़ी बात है। उन्होंने उदाहरण देते हुए बताया कि हरियाणा सरकार ने प्रदेश के गांवो में लाल डोरा मुक्त करते हुए जमीन का मालिकाना हक ग्रामीणों को देने का काम किया है। गांव में अब लोगों को स्वामित्व योजना से जोड़ते हुए उनकी जमीन के दस्तावेज सौंपे जा रहे हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा हाल ही में सार्वजनिक मंच से हरियाणा सरकार की कार्यशैली की सराहना किये जाने पर उनका आभार जताया। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार बिना भेदभाव के समान विकास की विचारधारा से कार्य कर रही है और हर पात्र व्यक्ति तक को योजना का लाभ प्रभावी रूप से मिले, इसके लिए विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं को मूर्त रूप देने में सरकार अपना दायित्व निभा रही है। उन्होंने कहा कि पहले की सरकार में जनप्रतिनिधि अपने अपने एरिया तक ही सीमित रहते थे लेकिन मौजूदा सरकार ने 2014 में प्रदेश में सरकार बनने के बाद ‘‘हरियाणा एक-हरियाणवी एक’’ का नारा देते हुए समान रूप से विकास की सार्थक पहल की।

मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान में कवर होंगे जरूरतमंद परिवार

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा सरकार मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान के तहत हर गरीब व जरूरतमंद व्यक्ति को कवर करने का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रही है। उन्होंने बताया कि सोहना क्षेत्र में सर्वे अनुसार जो भी परिवार गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहे हैं, उन्हें सरकार की विभिन्न योजनाओं से जोड़ते हुए उनकी आय में वृद्धि करने की दिशा में विभागीय स्तर पर कदम उठाते हुए उन्हें लाभान्वित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आज पूरे प्रदेश में हर क्षेत्र में विकासात्मक कार्य किये जा रहे हैं और किसान, मजदूर से लेकर युवा शक्ति के लिए रोजगार सृजित करने सहित महिला सशक्तिकरण में सरकार अपना योगदान दे रही है। बेटियों की शादी में सरकार की ओर से 1100 रुपये व मिठाई का डिब्बा प्रशासन के माध्यम से दिए जाने की प्रक्रिया शुरू की गई है। उन्होंने किसानों को कहा कि बीज की उपलब्धता के साथ ही बाजार में फसल की बिक्री सुनिश्चित करने के लिए सरकार हर कदम पर सहयोगी है। उन्होंने किसानों को कहा कि डीएपी की किल्लत किसी भी रूप से नहीं है और प्रदेश के हर किसान को पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध कराई जा रही है, परंतु अनावश्यक भंडारण ना करें। उन्होंने कहा कि हरियाणा प्रदेश का कोई भी क्षेत्र किसी भी रूप से उपेक्षित न रहे, इसके लिए वे स्वयं पहुंचकर विकास योजनाओं की सौगात देने की पहल सरकार के दूसरे कार्यकाल में कर रहे हैं और सोहना विधानसभा क्षेत्र से आज वे यह आगाज किया गया है।

महाराणा प्रताप जैसे योद्धा हमारे प्रेणास्त्रोत – मूलचंद

विकास रैली में हरियाणा के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप जैसे अमर योद्धाओं के दिखाए मार्ग पर सरकार काम कर रही है। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश में समान विकास के साथ हो रहे विकासात्मक बदलाव में सभी भागीदार बन रहे हैं और हरियाणा की पहचान दुनिया भर में कायम हो रही है।

विकास रैली के संयोजक एवं सोहना विधानसभा क्षेत्र से विधायक कंवर संजय सिंह ने मुख्यमंत्री के समक्ष हलके की विकास योजनाओं को लेकर मांग पत्र रखा। उन्होंने कहा कि सोहना की जनता प्रदेश के विकास में अब भागीदार बन रही है और सरकार के जनहितकारी निर्णय हलके को नया रूप देंगी।

यह रहे मौजूद

इस अवसर पर विधायक नयनपाल रावत, सत्यप्रकाश जरावता, सीएम के मीडिया सलाहकार अमित आर्य, मीडिया कॉर्डिनेटर मुकेश वशिष्ठ, भाजपा जिलाध्यक्ष गार्गी गक्कड़, सीएम के राजनीतिक सचिव अजय गौड़, पूर्व स्पीकर गोपीचंद गहलोत, पूर्व विधायक शशिरंजन परमार, तेजपाल तंवर, सोहनपाल छौंकर, जिला परिषद के निवर्तमान अध्यक्ष कल्याण सिंह चौहान, बेगराज यादव, कर्नल संतलाल, तिलक राज चौहान, हरेंद्र पाल सहित क्षेत्र के गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।

चंडीगढ, 23 अक्तूबर – मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क बी डी कौशिक। हरियाणा के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता व अनूसूचित जातियां एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग के प्रधान सचिव विनीत गर्ग ने किसानों से आह्वान किया कि वे फसली अवशेष जलाने की बजाय इसके प्रबंधन पर जोर दें। ऐसा करने से पर्यावरण प्रदूषण को रोकने में सफलता मिलेगी। प्रधान सचिव विनीत गर्ग व फतेहाबाद के उपायुक्त महावीर कौशिक गांव भोडिया खेड़ा के खेत में धान फसल के अवशेषों का बायो डिकंपोजर द्वारा फसल प्रबंधन डेमो का निरीक्षण कर रहे थे।

प्रधान सचिव ने कहा कि फसली अवशेषों में आग लगाने से प्रदूषण फैलता है और भूमि में पल रहे जीव, मित्र कीट, पोषक तत्व जलकर नष्ट हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि किसान खेतों में पड़े फसलों के अवशेषों को न जलाएं बल्कि उसे भूमि में दबाएं जिससे भूमि की उर्वरा शक्ति बढ़ाई जा सकती है। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे जिला में किसानों को फसली अवशेषों को ना जलाने और उसके प्रबंधन बारे जागरूक करें।

श्री गर्ग ने कृषि विभाग के अधिकारियों व यूपीएल कंपनी के प्रतिनिधियों से बायो डिकम्पोजर बारे विस्तृत जानकारी प्राप्त की। धान फसल के अवशेषों का बायो डिकंपोजर द्वारा फसल प्रबंधन का यह कार्य यूपीएल कंपनी द्वारा किसानों के खेत में मुफ्त में किया जा रहा है।

चंडीगढ़ 23 अक्तूबर – मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क बी डी कौशिक। ग्रामीण क्षेत्र में कुटीर उद्योगों को बढ़ावा देने से युवाओं के लिए रोगजार के रास्ते खुलेंगे और देश को आत्म-निर्भर बनाने में यह एक महत्वपूर्ण कदम होगा। यह बात हरियाणा के राज्यपाल श्री बडांरू दत्तात्रेय ने शनिवार को हरियाणा खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के चेयरमैन श्री रामनिवास से बातचीत में कही। श्री रामनिवास ने शनिवार को राजभवन में राज्यपाल श्री दत्तात्रेय से शिष्टाचार मुलाकात की और हरियाणा खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड की गतिविधियों की जानकारी दी।

राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि खादी एवं उद्योग को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश में केन्द्रीय योजनाएं व कार्यक्त्रम और ज्यादा कारगर सिद्ध हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना कार्यक्त्रम के तहत बैंकों से वित्तीय सहायता प्राप्त कर ग्रामीण युवाओं को कुटीर उद्योगों से जोड़ा जा सकता है। हरियाणा एक कृषि प्रधान राज्य है। इसलिए ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि से जुड़े उद्योगों को बढ़ावा देने से ही ग्रामीण क्षेत्र के युवाओं के लिए रोजगार सृजन किए जा सकते हैं, इससे ग्रामीण क्षेत्र आत्म-निर्भर होगा।

उन्होंने कहा कि युवाओं को कृषि से जुड़े उद्यागों के लिए प्रशिक्षित कर स्टार्ट-अप स्थापित करने के लिए प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्त्रम का लाभ उठाया जा सकता है। प्रशिक्षण हेतु सरकारी विभाग व बोर्ड, कौशल विश्वविद्यालयों व प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालयों से सम्पर्क कर युवाओं को प्रशिक्षण की सुविधा उपलब्ध करवा सकते हैं।

चेयरमैन श्री रामनिवास ने बताया कि प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्त्रम के तहत ग्रामीण क्षेत्र के युवाओं के रोजगार सृजन करने के लिए ग्रामोद्योग स्थापित करने में सहायता की जा रही है। इस कार्यक्त्रम के तहत चालू वित्त वर्ष के दौरान प्रदेश में अभी तक 647 मामलों में 23 करोड़ 47 लाख रूपये की राशि मार्जिन मनी के रूप में दी जा चुकी है। उन्होंने कहा कि हरियाणा खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड प्रदेश में पारम्पिक और आधुनिक उद्योगों को बढ़ावा दे रहा है। इसके साथ-साथ बोर्ड द्वारा एम.ए.एम.ई विभाग से भी सहयोग लिया जा रहा है।

चंडीगढ़ 23 अक्तूबर – मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क बी डी कौशिक। हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने करवा चौथ के अवसर पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं और सभी के परिवारों के लिए सुखए समृद्धि व शान्ति की कामना की है।

करवा चौथ का व्रत हर साल महिलाओं द्वारा अपने पतियों की दीर्घायु व परिवारों की सुखए शांति व समृद्धि के लिए रखा जाता है। यह न केवल एक त्यौहार है बल्कि यह पति.पत्नी व पूरे परिवार में प्रेम प्यार व सामंजस्य बनाए रखने का पवित्र पर्व हैं जो प्राचीन काल से चला आ रहा है।

यह पर्व रिश्तों को मजबूत बनाने वाला होता हैए जिस कारण यह पति.पत्नी दोनों के लिए खास महत्व रखता है। यही कारण है कि करवा चौथ वाले दिन पत्नी द्वारा अपने पति की लंबी आयु और उसकी सुख.समृद्धि के लिए की गई पूजा.अर्चना पति के जीवन में पत्नी की अहमियत को ओर भी ज्यादा बढ़ा देती है। उन्होंने कहा है कि करवा चौथ का यह पर्व सभी देशवासियों के लिए नई खुशियां लेकर आया है ।

चंडीगढ़ 23 अक्तूबर – मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क बी डी कौशिक।
अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद, नई दिल्ली ने शैक्षिक वर्ष 2021-22 से बी. टेक. की पढाई हिंदी भाषा में करवाने के लिए हरियाणा के तीन तकनीकी विश्वविद्यालय को मान्यता प्रदान की है। इन विश्वविद्यालयों में दाखिला प्रक्त्रिया शुरू हो चुकी है। इच्छुक उम्मीदवार दाखिले लेने हेतु संबंधित विश्वविद्यालयों के संपर्क नंबर/ ईमेलआईडी पर संपर्क कर सकते हैं।

सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि गुरु जम्भेशवर विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार को संगणक विज्ञान अभियांत्रिकी (कंप्यूटर साइंस और इंजीनियरिंग), सूचना प्रौद्योगिकी (इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी), इलेक्ट्रॉनिक्स और संचार अभियांत्रिकी (इलेक्ट्रॉनिक्स और कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग), यांत्रिक अभियांत्रिकी (मैकेनिकल इंजीनियरिंग) सहित चार शाखाओं के लिए प्रत्येक शाखा में 30 सीटों की मान्यता दी है। दीनबंधू छोटू राम विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, मुरथल जिला सोनीपत को विद्युतीय अभियांत्रिकी (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग) एवं यांत्रिक अभियांत्रिकी (मैकेनिकल इंजीनियरिंग) दो शाखाओं के लिए प्रत्येक शाखा में 30 सीटों की मान्यता दी गई है। जगदीश चंद्र बोस विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, फरीदाबाद को यांत्रिक अभियांत्रिकी (मैकेनिकल इंजीनियरिंग) में 30 सीटों की मान्यता दी गई है।

 

उन्होंने बताया कि गुरु जम्भेशवर विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार में इमेल katyalgju@gmail.com, anjan_baralwwww@yahoo.co.in, www.gjust.ac.in एवं मोबाईल न0 9416494476 / 8168176815 तथा दीनबंधू छोटू राम विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, मुरथल सोनीपत के इमेल ugadmissions@dcrustm.org, www.dcrustm.ac.in एवं मोबाईल न. 9034608382 तथा जगदीश चंद्र बोस विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, फरीदाबाद के इमेल academics@jcboseust.ac.in, www.jcboseust.ac.in, मोबाईल न. 8826350209 पर सम्पर्क किया जा सकता है।

महेंद्रगढ़ जिले के ऐतिहासिक स्थलों को पर्यटन क्षेत्र के रूप में विकसित किया जाएगा – मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने किया माधोगढ़ पर्वत का दौरा

रानी महल व रानी तालाब पर खर्च होंगे 9 करोड़, काम अंतिम चरण में

चंडीगढ़, 23 अक्तूबर – मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क बी डी कौशिक।
हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि महेंद्रगढ़ जिले के ऐतिहासिक स्थलों को पर्यटन क्षेत्र के रूप में विकसित किया जाएगा। राज्य सरकार इसके लिए योजनाबद्ध तरीके से कार्य कर रही है। माधोगढ़ किला पर रानी तालाब के पुनर्निर्माण का कार्य हो चुका है तथा रानी महल का कार्य भी अंतिम चरण में है। इस काम पर 9 करोड रुपये खर्च होंगे।

मुख्यमंत्री आज ढोसी पर्वत व माधोगढ़ किला के भ्रमण के बाद माधोगढ़ किला पर आयोजित कार्यक्त्रम को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इन दोनों पर्वत पर पर्यटन की काफी संभावनाएं हैं। ढोसी पर्वत को जहां तीर्थ स्थल के रूप में विकसित करने की योजना बनाई है, वहीं माधोगढ़ किला पर अधिक से अधिक पर्यटन लाने के लिए आने वाले समय में माधोगढ़ के राजा महल का भी निर्माण किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि यह दोनों पर्वत स्थल पर्यटन के रूप में विकसित होंगे तो इस इलाके में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। आने वाले समय में यहां दूरदराज से लोग ट्रैकिंग करने के लिए आएंगे। राज्य सरकार ने पर्यटन के क्षेत्र में रोजगार बढ़ाने के लिए योजना बनाई है।

मुख्यमंत्री ने आईएमटी खुडाना के संबंध में कहा कि पंचायत की जमीन को एचएसआईआईडीसी को देने के लिए जल्द ही एक मीटिंग बुलाई जाएगी। इसमें ग्रामीणों का भी सहयोग जरूरी है। राज्य सरकार चाहती है कि यहां उद्योग लगे और लोगों को रोजगार मिले।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का लक्ष्य है कि परिवार पहचान पत्र के माध्यम से एक साल के अंदर अंदर हरियाणा के दो लाख परिवारों को किसी न किसी रोजगार से जोड़ा जाए। सरकार के पास लगभग 65 लाख परिवारों का आंकड़ा आ चुका है। सरकार अंतिम व्यक्ति को भी विकास में भागीदारी देना चाहती है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने नहरों का विकास करते हुए दक्षिणी हरियाणा के अंतिम छोर तक पानी पहुंचाने का कार्य किया है। हरियाणा के साथ लगते राजस्थान के कई गांव में भी जल स्तर में काफी बढ़ोतरी हुई है। ये नागरिक भी हरियाणा सरकार का गुणगान कर रहे हैं।

इस मौके पर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री श्री ओम प्रकाश यादव, पूर्व शिक्षा मंत्री प्रोफेसर रामविलास शर्मा के अलावा अन्य गणमान्य नागरिक मौजूद थे।

बॉक्स

मुख्यमंत्री ने महेंद्रगढ़ जिला को दी 1358.68 लाख रुपए की सौगात

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने माधोगढ़ किला से जिला को 1358.68 लाख रुपए की विकास परियोजनाओं की सौगात दी।

मुख्यमंत्री ने आजम नगर सीहोर के 33 केवी के सब स्टेशन का उद्घाटन किया। यह सब स्टेशन 299.85 लाख रुपए की लागत से तैयार हुआ है। इसके अलावा यहीं से सतनाली में बनने वाली सीएचसी का भी शिलान्यास किया। इस भवन पर लगभग 1058.83 लाख रुपए खर्च होंगे। यहां पर स्वास्थ्य कर्मियों के लिए आवासीय भवन भी बनाए जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने किया ढोसी पर्वत का दौरा

ढोसी पर्वत को तीर्थ स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा – मनोहर लाल

एयरो स्पोर्ट्स को बढ़ावा देने के लिए पैराग्लाइडिंग की संभावनाएं तलाशी जाएंगी- मुख्यमंत्री

थाना, कुलताजपुर व ढोसी गांव के विकास के लिए एक एक-एक करोड़ की घोषणा

अंतिम छोर तक पानी पहुंचाने के कारण राजस्थान का भी जलस्तर बढ़ा, राजस्थान के ग्रामीणों ने भी जताया सीएम का आभार

चंडीगढ़, 23 अक्तूबर – मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क बी डी कौशिक।
हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि ढोसी पर्वत को तीर्थ स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा। तीर्थयात्री यहां आसानी से पहुंच सके इसके लिए सड़क मार्ग बनाया जाएगा। सड़क बनने के बाद यहां पर अन्य संभावनाएं भी तलाशी जाएंगी।

मुख्यमंत्री आज नारनौल में ढोसी पर्वत के दौरे के बाद आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने थाना तथा कुलताजपुर गांव के विकास के लिए पंचायत विभाग से एक-एक करोड रुपये के विकास कार्य करवाने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने बड़ा दिल दिखाते हुए पर्वत के साथ सटे राजस्थान के गांव ढोसी के विकास के लिए भी अपनी डिस्क्त्रीशनरी पावर के तहत एक करोड रुपए देने की घोषणा की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 25 साल बाद यहां आने का मौका मिला है। इस दौरान हमने जो कल्पना की थी उस कल्पना को साकार करने के लिए ढोसी पर्वत को बेहतरीन तीर्थ स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा। सबसे पहले थाना गांव की तरफ से सड़क मार्ग बनाया जाएगा। पर्वत पर चढ़ने से थोड़ा पहले ही वाहनों की पार्किंग की व्यवस्था की जाएगी ताकि पर्वत पर किसी प्रकार का प्रदूषण न हो। इसके बाद कुलताजपुर गांव की तरफ से पीपीपी मॉडल पर रोप-वे बनाया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां पर चवन ऋषि जैसे महान तपस्वी हुए हैं। ऐसे में सड़क मार्ग बनने के बाद इस जगह पर आयुष विभाग की ओर से पंचकर्म तथा आयुष वैलनेस का बड़ा केंद्र भी खोला जाएगा। इस सेंटर में पर्यटक स्वास्थ्य लाभ लेंगे। उन्होंने कहा कि एयरो स्पोर्ट्स को बढ़ावा देने के लिए यहां पर पैराग्लाइडिंग की संभावनाएं भी तलाशी जाएंगी।

उन्होंने कहा कि महेंद्रगढ़ जिला में एक साथ कई हाईवे का निर्माण हो रहा है। ऐसे में यहां पर्यटन के क्षेत्र में बहुत अधिक संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि पर्यटन गतिविधियों से क्षेत्र में रोजगार के नए-नए अवसर खुलेंगे।

ढोसी व हरियाणा बॉर्डर पर लगने वाले राजस्थान के ग्रामीणों ने अंतिम छोर तक पानी पहुंचाने के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया। उन्होंने कहा कि बारिश के सीजन में लगातार दो दिनों तक नदियों में मध्य हरियाणा का पानी डालने से यहां का जलस्तर काफी बड़ा है।

इस अवसर पर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री श्री ओम प्रकाश यादव, नांगल चौधरी के विधायक डॉ अभय सिंह यादव, अटेली के विधायक श्री सीताराम यादव के अलावा अन्य गणमान्य नागरिक मौजूद रहे।