हरियाणा सरकार की मुख्य गतिविधियां एवं उनसे जुड़े समाचार पढ़िए मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क पर।

 

चंडीगढ़, 10 सितंबर- बी डी कौशिक मुख्य संपादक मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क।
हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने शिक्षाविदों से आह्वान करते हुए कहा कि गरीब छात्र छात्राओं को उच्च शिक्षा के अवसर मिलने चाहिए। इसके अलावा, स्वावलम्बन पर आधारित शिक्षा देकर विद्यार्थियों के भविष्य को सुरक्षा प्रदान करें।
मुख्यमंत्री आज यहां उनके आवास पर आए प्रदेशभर के निजी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों एवं कुलसचिवों से रूबरू हुए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि युवाओं को डिग्री के साथ पासपोर्ट देने वाली हमारी पहली सरकार है। उन्होंने प्रदेश के युवाओं को विदेशी भाषाओं को सीखने के लिए भी कहा। उन्होंने स्वयं का उदाहरण देते हुए कहा कि उन्होंने खुद जैपनीज़ भाषा सीखने के कोर्स में एडमिशन लिया है।
श्री मनोहर लाल ने कहा कि राज्य सरकार ने अर्न व्हाइल लर्न कार्यक्रम भी शुरू किया है। हरियाणा सरकार शिक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता सुधार के लिए अनेक कदम उठा रही है।
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा शुरू किया गया सुपर 100 कार्यक्रम एक बेहतरीन कार्यक्रम सिद्ध हो रहा है। शुरूआत में दो स्थानों पर इस कार्यक्रम को शुरू किया गया था, अब इसे विस्तार देते हुए 4 स्थानों पर शुरू करने का फैसला लिया गया है।

 

चंडीगढ़, 9 सितंबर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। टोक्यो ओलंपिक-2020 में इतिहास में पहली बार सेमीफाइनल का मुकाबला खेलने वाली भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल और टीम की अन्य खिलाड़ी नेहा, निशा, शर्मिला व सविता पुनिया तथा कैडेट वर्ल्ड चैंपियनशिप गोल्ड विजेता कोमल पंचाल ने आज मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल से उनके आवास पर शिष्टाचार मुलाकात कर खिलाड़ियों को मान-सम्मान देने के लिए उनका आभार व्यक्त किया।
इस मौके पर मुख्यमंत्री ने खिलाड़ियों को अवार्ड एवं पुष्प गुच्छ देकर उन्हें सम्मानित किया। खेल एवं युवा मामले राज्य मंत्री सरदार संदीप सिंह भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा सरकार खेलों को बढ़ावा देने के लिए निरंतर प्रयास कर रही है। हरियाणा सरकार अपनी खेल नीति के अनुसार पैरालंपिक खिलाडियों को भी सामान्य खिलाड़ियों की तरह समान पुरस्कार, सरकारी नौकरी और अन्य सुविधाएं दे रही है। राज्य सरकार की खेल नीति की विश्व में सराहना हो रही है और हरियाणा के खिलाड़ी विश्व मानचित्र पर भारत का नाम रोशन कर रहे हैं यह गर्व की बात है।
उन्होंने कहा कि किसी भी खिलाड़ी के लिए टीम भावना से खेलना जरूरी है। मुख्यमंत्री ने हॉकी मैच के दिन को याद करते हुए बताया कि उन्होंने मैच देखने के लिये उस दिन मीटिंग भी रोक दी थी और उसी दिन 50-50 लाख रुपये का इनाम घोषित किया था। इस दौरान खिलाड़ियों के साथ आई उनकी कोच प्रीतम सिवाच को खेल उपनिदेशक पद पर नियुक्ति का प्रस्ताव भी दिया।
इस मौके पर भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल ने टीम के सभी खिलाड़ियों द्वारा ऑटोग्राफ की हुई हॉकी और टी-शर्ट मुख्यमंत्री को भेंट की।

 

-किसानों से बातचीत करने के रास्ते हमेशा खुले
-करनाल जिला प्रशासन धरने को समाप्त करने की कर रहा अपील
-बिना जांच के किसी भी अधिकारी को नहीं किया जा सकता सस्पेंड : डीसी करनाल
चण्डीगढ़, 9 सितम्बर – जिला प्रशासन करनाल द्वारा वहां लघु सचिवालय गेट के सामने धरने पर बैठे किसानों से लगातार बातचीत कर मामले का समाधान करने का प्रयास किया जा रहा है। करनाल जिला के उपायुक्त श्री निशांत कुमार यादव ने किसानों से पुन: अपील की है कि वे हठधर्मिता छोड़कर बातचीत के माध्यम से समाधान निकालने में सहयोग करें । करनाल के तत्कालीन एसडीएम श्री आयुष सिन्हा के खिलाफ कार्रवाई के मामले में उपायुक्त ने कहा कि उक्त मामले की जांच मुख्य सचिव के आदेशों द्वारा की जा रही है, उसकी रिपोर्ट मिलने के बाद उचित कार्रवाई की जाएगी।
उपायुक्त ने आगे यह भी कहा कि अगर किसान जांच प्रक्रिया में शामिल होना चाहते हैं तो उसका स्वागत किया जाएगा । यदि किसान इस मामले की जांच किसी अन्य स्तर पर करवाना चाहते हैं तो वह मांग भी मानी जा सकती है।
उपायुक्त श्री निशांत कुमार ने कहा कि किसी भी जिला का लघु सचिवालय संबंधित जिला का मुख्य प्रशासनिक केंद्र होता है जहां पर आम आदमी को अपने महत्वपूर्ण कार्यों के लिए आना पड़ता है। ऐसे में करनाल लघु सचिवालय पर किसानों द्वारा धरना देने से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
उन्होंने कहा कि करनाल जिला प्रशासन आरंभ से ही धरनारत किसानों के साथ बातचीत के माध्यम से मामले का समाधान करने की कोशिश में है। प्रशासन द्वारा धैर्य और संयम का परिचय देते हुए किसानों से बातचीत करने के रास्ते खुले रखे गए हैं । लगातार किसानों से जिला प्रशासन द्वारा धरना समाप्त करने की अपील की जा रही है। जिले में कानून व्यवस्था बिल्कुल ठीक है। सभी कार्यालयों में कार्य सुचारू रूप से चल रहा है।

 

चण्डीगढ़, 9 सितंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को लागू करते हुए विश्वविद्यालय स्थानीय भाषा में पढ़ाई शुरू करने की दिशा में काम करें, इससे बड़ा लाभ होगा। बेशक इसमें समय लगेगा लेकिन परिणाम सुखद रहेगा। राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने राजभवन में प्रदेशभर के निजी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों एवं कुलसचिवों की एक दिवसीय कार्यशाला के समापन सत्र को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने कार्यशाला में उपस्थित शिक्षाविदों से अपील की है कि विश्वविद्यालय व्यापार का केंद्र न बनें। हरियाणा उच्च शिक्षा परिषद के चेयरमैन प्रोफेसर बीके कुठियाला भी इस अवसर पर मौजूद रहे।
राज्यपाल ने कहा कि पैसा सब कुछ नहीं है, शिक्षण एक सम्मानित कार्य है इसलिए इसका व्यापारीकरण नहीं होना चाहिए। उन्होंने राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वन की तरफ कदम बढ़ाने के लिए निजी विश्वविद्यालयों की सराहना की। उन्होंने कहा कि कोरोना के संकट काल में सबसे अधिक मार शिक्षा के क्षेत्र पर पड़ी है। फिर भी इस चुनौती को पार करते हुए हम आगे बढ़े हैं। डिजिटल कम्यूनिकेशन के माध्यम से छात्रों ने पढ़ाई की और इसमें शिक्षण संस्थानों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
मालिक बनने की भावना पैदा करें
राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने कार्यशाला में उपस्थित शिक्षाविदों से आह्वान किया कि वे विश्वविद्यालयों में ऐसा माहौल बनाए कि विद्यार्थियों में नौकरी के पीछे भागने की बजाए अपना व्यवसाय स्थापित करने की भावना पैदा हो। उन्होंने कहा कि इस लक्ष्य को स्किल डेवलेपमेंट के माध्यम से ही पूरा किया जा सकता है। अपने एक संस्मरण को बताते हुए उन्होंने कहा कि जब वे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के साथ श्रम मंत्री थे तो उनकी प्रधानमंत्री से घंटों मंत्रणा हुई। इसके बाद अलग से कौशल विकास विभाग का गठन किया गया।
उन्होंने कहा कि स्थानीय और आवश्यकता आधारित कौशल विकास की योजना बनाकर काम करें। कृषि पर आधारित कौशल विकास पर फोकस करने का आग्रह करते हुए कहा कि इसमें भी प्राकृतिक खेती पर ज्यादा बल देना चाहिए। इसके अलावा उन्होंने फूड, स्वास्थ्य और छोटे-छोटे स्किल डेवलेपमेंट के कोर्स की तरफ फोकस करने को कहा। उन्होंने गांवों के युवकों को आधार मानकर कौशल विकास को चिन्हित करने व विश्वविद्यालयों को रिसर्च, स्टार्टअप और इनोवेशन पर विशेष फोकस करने के लिए आह्वान किया।
कम से कम 1 घंटा स्पोर्टस जरुरी
राज्यपाल ने कहा कि निजी विश्वविद्यालयों में भी खेलों की तरफ ध्यान देने की योजना बनाएं। हर विद्यार्थी की दिनचर्या में कम से कम 1 घंटा खेल जरुर शामिल होना चाहिए। विश्वविद्यालयों को फिट इंडिया प्रोग्राम में भी हिस्सेदारी बढ़ानी चाहिए। विश्वविद्यालयों का माहौल नशामुक्त हो और हॉस्टल में रहने वाले बच्चों का अधिक से अधिक ध्यान रखना चाहिए।
निजी विश्वविद्यालय मनाए आजादी का अमृत महोत्सव
राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि विश्वविद्यालय में युवाओं को स्वाधीनता संग्राम की अधिक से अधिक जानकारी हो इसके लिए आजादी के अमृत महोत्सव के तहत सेमिनार व अन्य प्रतियोगिताओं का आयोजन कराएं। उन्होंने शिक्षाविदों को आजादी से जुड़े अच्छे आर्टिकल, निबंध प्रतियोगिता आयोजित करने के लिए कहा। उन्होंने विद्यार्थियों को सामाजिक कार्यों के लिए प्रेरित करने के साथ ही राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर चर्चा कराने का सुझाव दिया।
लड़कियों के लिए हो अच्छा माहौल
राज्यपाल ने कहा कि आज लड़कियां हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं और अव्वल आ रही हैं इसलिए विश्वविद्यालयों में लड़कियों के लिए अच्छा माहौल होना चाहिए। राज्यपाल ने गरीब परिवारों की लड़कियों को विशेष सहायता देने के लिए कहा। उन्होंने शिक्षकों को विद्यार्थियों की तकलीफों को टालने की बजाए उन्हें सुनकर समाधान निकालने का आग्रह किया। इस मौके पर उच्च शिक्षा विभाग के महानिदेशक श्री चंद्रशेखर खरे, राज्पाल के सचिव श्री अतुल द्विवेदी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

चण्डीगढ़, 9 सितंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा पुलिस ने सिपाही पेपर लीक मामले में बडी कामयाबी हासिल करते हुए दो लाख रुपए के वांटेड व ईनामी अपराधी को जम्मू से गिरफतार करने में सफलता हासिल की है। पुलिस द्वारा अब तक कुल 34 आरोपी गिरफ्तार किए जा चुके हैं।
पुलिस विभाग के एक प्रवक्ता ने आज यहां जानकारी देते हुए बताया कि काबू किए गए सिपाही पेपर लीक मामले की अहम कड़ी व दो लाख रुपए के ईनामी अपराधी की पहचान मुजफर अहमद खान निवासी गुल जिला रामबन, जम्मू के रूप में हुई।
इस मामले में वांछित दो आरोपियों की गिरफ्तारी की सूचना देने पर 2-2 लाख रुपए का ईनाम तथा 9 आरोपियों की गिरफ्तारी की सूचना देने पर 50-50 हजार रुपए ईनाम घोषित किया गया था। इससे पूर्व 50-50 हजार रुपए के ईनामी अपराधी मनोहर निवासी ढानी खुशहाल जिला भिवानी तथा नवीन निवासी माजरा प्यो को भी गिरफ्तार किया जा चुका है।
पुलिस ने 5 दिन के पुलिस रिमांड पर चल रहे आरोपी नवीन के कब्जे से वारदात में प्रयुक्त मोबाइल फोन, प्रिंटर तथा उसके द्वारा कुछ कैंडिडेट से प्राप्त किए गए एडमिट कार्ड बरामद किए हैं।
पहले गिरफ्तार किए जा चुके आरोपी जितेन्द्र निवासी जम्मू द्वारा पेपर व आसंर-की हार्ड कापी मुजफर अहमद खान को दी गई थी, जो आगे एजाज अमीन निवासी दुद गंगा कॉलोनी ओल्ड छानपुर श्रीनगर ने प्रश्न पत्र व आंसर-की जम्मू एयरपोर्ट पर अफजल निवासी हजरत बल श्रीनगर को दी तथा सौदा 60 लाख रुपये में तय हुआ था। पैसे परीक्षा के बाद देने थे और 60 लाख रुपये में मुजफर व एजाज का बराबर का हिस्सा था। फिर आरोपी अफजल द्वारा एक करोड़ रुपये में पेपर व आंसर-की 5 अगस्त को ही दिल्ली एयरपोर्ट पर आरोपी राजकुमार को दी गई थी। आरोपी एजाज को भी पुलिस द्वारा गिरफतार किया जा चुका है।

एनडीपीएस मामले में तीन को 10-10 साल की कैद, 1-1 लाख रुपये जुर्माना
चण्डीगढ़, 9 सितंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा पुलिस द्वारा प्रदेश से नशे को खत्म करने के लिए जहां नशा माफियाओं पर निरंतर शिकंजा कसा जा रहा है, वहीं ऐसे तस्करों को सलाखों में भेजने के लिए संबंधित अदालतों के समक्ष मजबूत पैरवी व सबूत पेश करते हुए एनडीपीएस अधिनियम के तहत दर्ज मामलों में आरोपियों को सख्त सजा भी दिलवाई जा रही है।
अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश, फतेहाबाद की अदालत ने आज एनडीपीएस मामले में तीन आरोपियों को 10-10 साल के कारावास की सजा सुनाई। अदालत ने प्रत्येक दोषी पर एक-एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया।
पुलिस विभाग के एक प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि इन तीनों आरोपियों को पुलिस टीम ने 7 जुलाई, 2018 को गांव सानियाना, फतेहाबाद में उकलाना रोड़ से चैंकिग के दौरान नाके पर एक कैंटर में 240 किलोग्राम कचरा डोडा पोस्त बरामद करने के बाद गिरफ्तार किया था।
पुलिस द्वारा सुनवाई के दौरान सभी पहलुओं व साक्ष्यों को मजबूती से अदालत के समक्ष रखा गया, जिसकी नियमित सुनवाई के बाद अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत ने तीनों आरोपियों सुंदर, रमेश कुमार और धर्मपाल को एनडीपीएस अधिनियम के तहत दोषी करार देते हुए उन्हें 10-10 साल की कैद व एक-एक लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई।
इसी प्रकार, एक अन्य कार्रवाई में, पुलिस ने फतेहाबाद जिले से हैप्पी सिंह नाम के एक व्यक्ति को भी गिरफ्तार किया है, जिसके पास से 115 ग्राम हेरोइन बरामद हुई। पुलिस ने आरोपी से हेरोइन बेचकर कमाए 13000 रुपये भी बरामद किए। आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है।

चण्डीगढ़, 9 सितम्बर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के इंदिरा गांधी विश्वविद्यालय, मीरपुर की परीक्षा शाखा द्वारा मार्च/अप्रैल, 2021 में आयोजित की गई स्नातक/स्नातककोतर स्तर की प्रथम, तृतीय, पांचवे, सातवें व नौंवे सेमेस्टर में जिन विद्यार्थियों को अनुचित साधनों के प्रयोग के मामलों (यूएमसी) में सम्मिलित पाया गया था, अब उन विद्यार्थियों की यूएमसी केसों की सुनवाई परीक्षा नियंत्रक के कार्यालय में 14 सितम्बर, 2021 को प्रात: 10 बजे की जाएगीं।
इस बारे में जानकारी देते हुए विश्वविद्यालय के प्रवक्ता ने बताया कि उक्त मामलों से सम्बन्धित अधिक जानकारी विद्यार्थी विश्वविद्यालय की वैबसाइट www.igu.ac.in से ले सकते है।

चण्डीगढ़, 9 सितम्बर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के प्रबन्ध निदेशक श्री पी.सी. मीणा ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि बिजली कनैक्शनों के आवेदन तय समय में जारी किए जाएं और बिजली उपभोक्ताओं को बेहतर सेवा उपलब्ध करवाई जाए। उन्होंने कहा कि उपभोक्ता सेवा कार्य में कोताही किसी भी तरह से बर्दाश्त नहीं की जाएगी।
श्री मीणा ने आज एक उपभोक्ता को कनैक्शन जारी करने में बरती गई लापरवाही व चूक के मामले में मिली शिकायत पर कार्रवाई करते हुए उपमंडल ऑप्रेशन साउथ सिटी, गुरूग्राम में कार्यरत उपमंडल अधिकारी (ऑप्रेशन) विक्रम सिंह और उच्च श्रेणी लिपिक अशोक कुमार को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।
प्रबन्ध निदेशक ने बताया कि मैसर्ज सनविजन लिमिटेड ने गैर-घरेलू (एन.डी.एस.) कनैक्शन के लिए आवेदन किया था। इसके बाद कनैक्शन जारी करने के लिए उपभोक्ता को निगम द्वारा डिमांड नोटिस भी जारी कर दिया गया था और इसकी एवज में आवेदक द्वारा राशि भी जमा करवा दी गई थी। आवेदक द्वारा बिजली कनैक्शन से संबंधित आवश्यक सामग्री की जांच करवा ली गई थी और स्वतंत्र फीडर का निर्माण भी कर लिया था। इसके बावजूद भी कनैक्शन जारी करने के आवेदन को निरस्त कर दिया गया। प्रारंभिक जांच में अनुचित कारणों से आवेदन निरस्त करने के लिए उपमंडल अधिकारी (ऑप्रेशन) विक्रम सिंह और उच्च श्रेणी लिपिक अशोक कुमार जिम्मेवार पाए गए हैं।

 

हरियाणा में निवेश एवं रोजगार के लिए राज्य सरकार के प्रयास ला रहे रंग
गुरुग्राम में अमेजन इंडिया बनाएगी अपना 7वां बड़ा भंडारण केंद्र
राज्य सरकार की उत्कृष्ट नीति के कारण आ रही है बड़ी कंपनियां: दुष्यंत चौटाला
चंडीगढ़, 9 सितंबर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा में निवेश एवं रोजगार बढ़ाने को लेकर प्रदेश सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयास निरंतर रंग ला रहे हैं। जानी-मानी कंपनी एटीएल, फ्लिपकार्ट, मारुति जैसी बड़ी कंपनियों के बाद अब ई-कॉमर्स कंपनी ‘अमेजन इंडिया’ ने हरियाणा में अपने भंडारण नेटवर्क के विस्तार की घोषणा की है। इसके तहत अमेजन कंपनी गुरुग्राम में अपना 7वां आपूर्ति केंद्र बनाएगी और इससे राज्य में हजारों युवाओं के लिए रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे। अमेजन इंडिया कंपनी के अनुसार उसने हरियाणा में अपना 7वां आपूर्ति केंद्र लांच किया है, जिससे कंपनी की भंडारण क्षमता में 35 प्रतिशत से अधिक की बढ़ोतरी होगी। इस आपूर्ति केंद्र के शुरू होने से कंपनी को 2 लाख वर्ग फुट की भंडारण क्षमता के साथ बड़े उपकरणों और फर्नीचर श्रेणी के उत्पादों को रखने में आसानी होगी।
हरियाणा में अमेजन इंडिया के लगातार निवेश से आने वाले समय में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप में रोजगार के हजारों अवसर पैदा होंगे। कंपनी का कहना है कि इन भंडारण केंद्रों के संचालन के लिए स्थानीय लोगों को विभिन्न प्रकार के रोजगार मिलेंगे। इतना ही नहीं कंपनी द्वारा स्थानीय लोगों के रोजगार के लिए कौशल प्रशिक्षण जैसे अवसर भी प्रदान किए जाएंगे।
बता दें कि हरियाणा में अमेजन इंडिया कंपनी निरंतर निवेश कर रही है, जिसके चलते कंपनी के अब 7 आपूर्ति केंद्र हो जाएंगे। करीब 1.5 लाख वर्ग फुट में फैले भंडारण केंद्र की क्षमता 6 लाख घन फुट से ज्यादा की होगी। यहां करीब 45 हजार से ज्यादा विक्रेताओं को एक बड़ा स्टोरेज स्पेस प्रदान होगा। अमेजन इंडिया का कहना है कि यह विस्तार एक तरफ जहां हरियाणा में स्थानीय लोगों के लिए रोजगार के नये अवसर पैदा करेगा तो वहीं उनके ग्राहकों के ऑर्डर में विश्वसनीय, तेजी और सुरक्षित डिलीवरी सुनिश्चित करने का काम करेगा। अमेजन इंडिया के एक बड़े अधिकारी ने हरियाणा को निवेश के लिए बेहतर स्थान बताया हैं। उनका कहना है कि हरियाणा राज्य ट्रांसपोर्ट का केंद्र है, इसी के मद्देनजर कंपनी अपने भंडारण नेटवर्क में विस्तार करते हुए सातवां आपूर्ति केंद्र भी यहां स्थापित करने जा रही है।
डिप्टी सीएम ने कहा : –
हरियाणा के उपमुख्यमंत्री श्री दुष्यंत चौटाला का कहना है कि राज्य सरकार द्वारा लागू की गई नई औद्योगिक पॉलिसी ‘हरियाणा औद्योगिक एवं रोजगार नीति-2020’, ‘रोजगार सृजन सब्सिडी योजना’ आदि ऐसे कई ऐतिहासिक कदम उठाए गए हैं जिनके कारण आज एटीएल, फ्लिपकार्ट, मारुति, अमेजन इंडिया, वॉलमार्ट वृद्धि, हकदर्शक जैसी बड़ी कंपनियां हरियाणा में निवेश के लिए निरंतर आ रही हंै। इससे जहां हरियाणा की आर्थिक प्रगति की रफ्तार बढ़ेगी तो वहीं बड़ी संख्या में स्थानीय लोगों के लिए रोजगार के द्वार खुलेंगे। इसके अलावा प्रदेश में बड़ी कंपनियों के आने से छोटे उद्योगों को भी बढ़ावा मिलेगा।

हरियाणा में गन्ने का भाव देश में सर्वाधिक- जेपी दलाल
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बढ़ाए 12 रूपए प्रति क्विंटल गन्ने के भाव- कृषि मंत्री
अब राज्य के किसानों को प्रति क्विंटल मिलेगा 362 रूपए का दाम- जेपी दलाल
पंजाब से भी अधिक हुए हरियाणा में गन्ने के भाव- कृषि मंत्री
चण्डीगढ़, 9 सितम्बर – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। देश में गन्ने का सर्वाधिक भाव हरियाणा में दिया जा रहा है । इस बार भी मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने प्रदेश के किसानों को गन्ने के भाव में 12 रूपये की बढोतरी कर 362 रूपये प्रति किवंटल देने का निर्णय लिया है। जोकि न केवल पंजाब से अधिक है बल्कि पूरे देश में सर्वाधिक हो गया है।
यह जानकारी आज हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री जे.पी. दलाल ने सहकारिता मंत्री डॉ बनवारी लाल की उपस्थिति में गन्ना नियंत्रण बोर्ड की बैठक के उपरांत पत्रकारों से बातचीत के दौरान दी। उन्होंने कहा कि यह बढौतरी मुख्यमंत्री द्वारा इस बात को ध्यान में रखकर की गई है ताकि हमारे राज्य के किसानों के हितों को बरकरार रखा जा सके।
श्री दलाल ने कहा कि बैठक में गन्ना किसानों व मिलों की स्थिति, चीनी के भाव और अन्य विषयों पर चर्चा हुई है। उन्होंने कहा कि लिए गए निर्णय के अनुसार अब गन्ने की अगेती किस्म के लिए 362 रूपए प्रति क्विंटल व पछैती किस्म के लिए 355 रूपए प्रति क्विंटल का भाव दिया जाएगा जोकि पहले 340 रूपए प्रति क्विंटल था।
उन्होंने कहा कि पिछले साल के सभी निजी व सहकारी चीनी मिलों की रिकवरी गन्ने की क्वालिटी कमजोर रहने की वजह से 0.34 घटी है इस बार जो रिकवरी आई है 10.58 से घटकर 10.24 आई है। उन्होंने कहा कि बुआई की जा रही गन्ने की इस किस्म के अंदर यह महसूस किया गया कि आज जो बीज चल रहे है जीसी किस्म 0238 में कुछ बिमारिया भी आ रही है इसलिए केंद्र व एचएयू के वैज्ञानिकों से चर्चा करने के उपरंात कृषि वैज्ञानिकों ने एक नई किस्म 15023 विकसित की है।
उन्होंने कहा कि वर्तमान में बुआई की जा रही गन्ने की किस्म से सामान्यत: 10.50 प्रतिशत के आस-पास चीनी की रिकवरी आती है, जबकि विकसित की गई 15023 नई गन्ने की किस्म की रिकवरी 14 प्रतिशत तक रहने की उम्मीद जताई जा रही है। श्री दलाल ने कहा कि जल्द से इस किस्म को किसानों तक पहुचांने का काम किया जाएगा जिससे यह संभावना भी बन रही है कि चीनी का उत्पादन 30 प्रतिशत तक बढ़ जाएगा। उन्होंने कहा कि इस नई किस्म के आने से किसानों के साथ- साथ शुगर मिल व सरकार को भी लाभ मिलेगा।
इसी प्रकार श्री दलाल ने वैज्ञानिकों के अच्छे कार्य को देखते हुए कहा कि कृषि विभाग वैज्ञानिकों को अधिक से अधिक नई किस्म के गन्ने के बीज का उत्पादन करने के लिए जल्द ही जमीन भी उपलब्ध कराएगा ताकि इस नई किस्म के बीज को जल्दी से जल्दी किसानों के पास पहुचाया जा सकें।
उन्होंने कहा कि इस बार सभी चीनी मिलों को नवंबर के प्रथम सप्ताह में संचालित करने के लिए निर्देश दिए गए हैं ताकि किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए उनकी फसल को समय पर पिराई किया जा सके। उन्होने कहा कि शुगर मिल जल्दी चलने से किसानों को अधिक लाभ मिलेगा जिससे कि किसान अपनी अगामी फसल की बुआई कर सकेंगे।
उन्होंने कहा इस बार सभी शुगर मिल को पिछले साल से जयादा गन्ना आंबटित किया जाएगा और किसी भी शुगर मिल की मात्रा कम नही की जाएगाी। कृषि मंत्री ने कहा कि हरियाणा गन्ना उत्पादन मे अच्छा राज्य है और प्रदेश की एक शुगर मिल नारायणगढ को छोडकर बाकी सभी चीनी मिलों का भुगतान शत प्रतिशत कर दी गई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार समय पर गन्ना किसानों की पैमेंट करवाने के लिए प्रयत्नशील है और समय पर भुगतान भी कराती है।
श्री दलाल ने कहा कि किसानों की गन्ना फसल की अदायगी को लंबित न रखते हुए शायद हरियाणा एक ऐसा प्रदेश होगा जो अपने बजट से किसानों की फसल का भुगतान करता है और इसी दिशा में मिलों को घाटे से उभारने के लिए पिछले साल 192 करोड रूपए की सब्सिडी प्रदान की गई है।
उन्होंने पंजाब का जिक्र करते हुए कहा कि पंजाब में पिछले 4 सालों से गन्ने का भाव 310 रूपये था लेकिन पंजाब के आगामी विधानसभा चुनावों को देखते हुए पंजाब की सरकार ने इस बार 50 रूपये प्रति किंवटल गन्ने का भाव बढा दिया है।
इसी प्रकार, उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कल किसान हितेषी फैसले लेकर फसलों के भाव बढाकर किसानों को मजबूत करने का काम किया हैं। श्री दलाल ने कहा कि प्रदेश की मंडिया मजबूत है और किसानों के खातों में फसल की सीधी पेमेंट प्रदेश सरकार द्वारा करवाई जा रही है।
उन्होंने कहा कि प्रदेश से ज्यादा किसान हितैषी नीतियां किसी भी पडोसी राज्य की नहीं है। किसानों के हित में नीतिगत फैसले लिए जाते है चाहे माइक्रो इरीगेशन, सूक्ष्म सिंचाई व फसल बीमा योजना हो। हरियाणा में एशिया की सर्वश्रेष्ठï मंडी जोकि सबसे बडी मंडी गन्नोर में स्थापित की जा रही है। इसी प्रकार सेब मार्किट पिंजौर में, फूल मार्किट गुरूग्राम में और आधुनिक मसाला मार्किट सोनीपत में बनाई जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार किसानों को कृषि यंत्र खरीदने पर हर साल 200 करोड रुपए की सबसिडी मुहैया करवाती है।
इससे पूर्व, बैठक के दौरान कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री तथा सहकारिता मंत्री ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि चीनी मिलों को घाटे से उभारने के लिए विकल्पों की तलाश की जाए और एथोनॉल के प्लांट भी संबंधित मिलों में जल्द से जल्द स्थापित किए जाएं। इसी प्रकार, जिन चीनी मिलों में गुड व शक्कर का उत्पादन किया जा सकता हैं उनमें इन उत्पादों को भी ज्यादा से ज्यादा तैयार किया जाए। इसी प्रकार, बैठक में विभिन्न गन्ना किसानों की समस्याओं का निराकरण भी किया गया और संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए गए।
बैठक में सहकारिता विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल, वित्त विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री टीवीएसएन प्रसाद, कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ सुमिता मिश्रा व महानिदेशक श्री हरदीप सिंह, हरियाणा राज्य सहकारी चीनी प्रसंघ लि के प्रबंध निदेशक श्री जितेन्द्र कुमार, सहकारिता विभाग के सचिव श्री ए श्रीनिवास सहित गन्ना नियंत्रण बोर्ड के गैर-सरकारी सदस्य व अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

चण्डीगढ़, 9 सितम्बर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा में इस बार गैस्ट टीचर्स की दीवाली ‘शुभ’ होने की पूरी उम्मीद है। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने गैस्ट टीचर्स के वेतन निर्धारण से जुड़े मामले में एक कमेटी गठित करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही, विभाग के अधिकारियों को अतिथि अध्यापकों के सेवा नियम भी आगामी 30 अक्तूबर तक बनाने की हिदायत दी है।

गैस्ट टीचर्स के वेतन निर्धारण से जुड़ी कमेटी में मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव डॉ. अमित अग्रवाल, माध्यमिक शिक्षा विभाग के निदेशक श्री जे. गणेशन और मौलिक शिक्षा विभाग के निदेशक श्री अंशज सिंह शामिल होंगे।

गौरतलब है कि अतिथि अध्यापकों का एक प्रतिनिधिमंडल अपनी कुछ मांगों को लेकर मुख्यमंत्री से मिला था। शिक्षा मंत्री श्री कंवर पाल भी इस मौके पर मौजूद रहे। बैठक के दौरान, मुख्यमंत्री ने गैस्ट टीचर्स की सभी जायज मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करने का आश्वासन दिया।

उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले ही गैस्ट टीचर्स का प्रतिनिधिमंडल शिक्षा मंत्री श्री कंवर पाल से यमुनानगर में उनके आवास पर मिला था। उन्होंने मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल से प्रतिनिधिमंडल की मुलाकात करवाकर उनकी जायज मांगों को पूरा करवाने का आश्वासन दिया था।

प्रतिनिधिमंडल ने गैस्ट टीचर्स की आजीविका बचाने और उनकी ज्यादातर मांगें मानने के लिए मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री का आभार जताया है।

चंडीगढ़, 9 सितंबर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के इंदिरा गांधी विश्वविद्यालय,मीरपुर के कुलपति प्रो. एस.के. गक्खड़ ने कहा कि नैक की तैयारियों को ध्यान में रखते हुए विश्वविद्यालय के लिए नया विजन व मिशन तैयार करें।

प्रो. गक्खड़ आज विश्वविद्यालय में गठित एक समिति की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। इस बैठक में कई महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर विचार-मंथन किया गया।

इस अवसर पर कुलपति ने कहा कि किसी भी विश्वविद्यालय के लिए उसका विजन व मिशन एक महत्वपूर्ण दस्तावेज होता है। उसी के अनुरूप विश्वविद्यालय को अपना कार्य करने की दिशा एवं मार्गदर्शन मिलता है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, नई दिल्ली तथा नैक जैसी संस्थाओं ने भी इस विजन को महत्व दिया है।

शिक्षा ही सर्वांगीण विकास का माध्यम-राज्यपाल

चंडीगढ़, 9 सितंबर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने कहा है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020, शिक्षा में गुणवत्ता सुधार के साथ-साथ सर्वांगीण विकास में सहायक सिद्ध होगी। राज्यपाल आज यहां हरियाणा राजभवन में प्रदेशभर के निजी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों एवं कुलसचिवों की एक दिवसीय कार्यशाला के उद्घाटन सत्र को संबोधित रहे थे। इस अवसर पर हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल, शिक्षा मंत्री श्री कंवरपाल और हरियाणा उच्च शिक्षा परिषद के चेयरमैन प्रोफेसर बीके कुठियाला भी उपस्थित रहे।

राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि राष्ट्र निर्माण में शिक्षाविदों की अहम भूमिका है। उन्होंने कार्यशाला में उपस्थित शिक्षाविदों का आह्वान किया कि वे शिक्षा में गुणवत्ता सुधार के लिए काम करें। शिक्षा ही सर्वांगीण विकास का माध्यम है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 दूरदर्शी सोच के तहत तैयार की गई है। इस नीति से आत्मनिर्भर भारत का लक्ष्य साकार होगा और उस लक्ष्य की प्राप्ति में शिक्षण संस्थानों की अहम भूमिका होगी। नई शिक्षा नीति में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में अनुसंधान और विकास पर जोर दिया गया है। निजी क्षेत्र के शिक्षण संस्थान भी इस संबंध में अपना योगदान दें।

हरियाणा सरकार कर रही शिक्षा के क्षेत्र में बेहतरीन काम

राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि युवाओं को वर्तमान और भविष्य के लिए तैयार करने के लिए शिक्षा नीति 2020 लागू की गई है। यह हर्ष का विषय है कि हरियाणा सरकार इस नीति को 2025 तक पूरी तरह लागू कर देगी। 2025 तक शिक्षा नीति को लागू करने वाला हरियाणा पहला प्रदेश होगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार शिक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता सुधार के लिए बेहतरीन कार्य कर रही है। शिक्षा को रोजगारोन्मुख बनाने के लिए तकनीकि शिक्षा के साथ-साथ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस शिक्षा पर भी जोर दिया जा रहा है।

शिक्षा से ही मिटेगी गरीबी

राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि शिक्षा से ही गरीबी मिटाई जा सकती है। उन्होंने कहा कि इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि छात्रवृति आदि अनेक प्रावधान गरीब व पिछड़े वर्गों के लिए हैं लेकिन अभी भी इन वंचित वर्गों के लिए बहुत कुछ करने की जरुरत है। उन्होंने कार्यशाला में उपस्थित शिक्षाविदों से आह्वान किया कि निजी विश्वविद्यालों को न केवल ऐसे गरीब छात्रों को दाखिला देना चाहिए बल्कि उनके समग्र विकास के लिए भी प्रयास करना चाहिए।

राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि सभी निजी संस्थान नई एजुकेशन पॉलिसी को अच्छे तरीके से लागू करें। यह शिक्षा नीति भविष्य का रोड मैप है जो देश को एक नई दशा और दिशा देगी।

चण्डीगढ़, 9 सितंबर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा सरकार ने राज्य सैनिक बोर्ड द्वारा संचालित राज्य के सैनिक परिवार भवनों में सेवारत सैनिकों, भूतपूर्व सैनिकों, अद्र्घ-सैनिक बलों के आश्रितों के लिए चलाए जा रहे एक वर्षीय अंग्रेजी व हिंदी स्टेनोग्राफर कोर्सिज़ में अब जनहित में निर्णय लेते हुए इन पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए हरियाणा के सभी वर्गों के युवाओं को पात्र घोषित किया है।

एक सरकारी प्रवक्ता ने आज इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि ये कोर्स एनसीवीटी से मान्यता प्राप्त हैं। सैनिक परिवार भवन द्वारा चलाए जा रहे ये पाठ्ïयक्रम सैनिकों और अद्र्घ सैनिक बलों में सेवारत जवानों व भूतपूर्व सैनिकों के बच्चों को रोजगारपरक बनाने के लिए शुरू किए गए थे।

उन्होंने बताया कि आवेदन के लिए आयु 14 वर्ष से अधिक होनी चाहिए तथा शैक्षणिक योग्यता कम से कम दसवीं कक्षा पास हो। इच्छुक युवाओं को प्रवेश के लिए 16 से 30 सितंबर,2021 तक आईटीआई की वेबसाईट itiharyanaadmission.nic.in पर पंजीकरण करना होगा। अधिक जानकारी के लिए 9813088693, 9466825021 व 9416529399 पर संपर्क कर सकते हैं।

प्लेसमेंट तक विद्यार्थी की चिंता करें विवि : मनोहर

निजी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों व कुलसचिवों की हरियाणा राजभवन में हुई कार्यशाला

राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने की कार्यशाला की अध्यक्षता

चंडीगढ़, 9 सितंबर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा है कि विश्वविद्यालय केवल डिग्री देने तक के संस्थान न बनें बल्कि वे प्लेसमेंट तक की चिंता करें। गुणवत्तापरक शिक्षा के साथ-साथ विद्यार्थियों को संस्कारयुक्त शिक्षा दें ताकि विद्यार्थियों में राष्ट्रप्रेम की भावना प्रगाढ़ हो। मुख्यमंत्री ने यह बात आज यहां हरियाणा राजभवन में आयोजित प्रदेशभर के निजी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों एवं कुलसचिवों की एक दिवसीय कार्यशाला के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कही। कार्यशाला की अध्यक्षता हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने की। इस दौरान हरियाणा के शिक्षा मंत्री श्री कंवरपाल और हरियाणा उच्च शिक्षा परिषद के चेयरमैन प्रोफेसर बीके कुठियाला भी उपस्थित रहे।

मु्ख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा सरकार शिक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता सुधार के लिए अनेक कदम उठा रही है। शिक्षकों की अॉनलाइन तबादला नीति भी गुणवत्ता सुधार की दिशा में बड़ा कदम है। इस नीति से शिक्षकों को बहुत अधिक लाभ मिला है। घर के नजदीक स्टेशन मिलने से शिक्षक पढ़ाई कराने पर फोकस कर रहे हैं। इसके अलावा भी हरियाणा सरकार अनेक योजनाओं पर काम कर रही है। उन्होंने कहा कि सुपर 100 कार्यक्रम एक बेहतरीन कार्यक्रम सिद्ध हो रहा है। शुरूआत में दो स्थानों पर शुरू किए गए इस कार्यक्रम से गरीब परिवारों के 72 विद्यार्थियों का मेडिकल व 23 विद्यार्थियों का आईआईटी में दाखिला हुआ है। अब इसे विस्तार देते हुए 4 स्थानों पर सुपर 100 कार्यक्रम शुरू करने का फैसला लिया गया है। हमें उम्मीद है कि इसके बेहतरीन परिणाम आएंगे।

हर जिले में होगा विश्वविद्यालय

मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा सरकार शिक्षा के क्षेत्र में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। हमारा उद्देश्य हर जिले में विश्वविद्यालय स्थापित करना है ताकि विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा के लिए दूर न जाना पड़े। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार उच्च शिक्षा के लिए निरंतर नए संस्थान खोलने का कार्य कर रही है। नई शिक्षा नीति के तहत केजी-टू-पीजी प्रोग्राम के तहत दो विश्वविद्यालयों ने काम शुरू कर दिया है। भविष्य में इस प्रोग्राम को और विस्तार दिया जाएगा। उन्होंने निजी विश्वविद्यालयों को भी इस दिशा में आगे बढ़ने के लिए कहा।

संस्कारयुक्त शिक्षा पर बल

मुख्यमंत्री ने कार्यशाला में उपस्थित शिक्षाविदों का आह्वान किया कि वे संस्कारयुक्त शिक्षा पर जोर दें। ऐसा करने से अपराध व भ्रष्टाचार पर भी अंकुश लगेगा। संस्कारयुक्त शिक्षा से विद्यार्थी के मन में स्वयं ही अच्छे भाव पैदा होंगे। इसके साथ-साथ उन्होंने ऐसी शिक्षा देने पर भी जोर दिया जिससे विद्यार्थियों में राष्ट्रप्रेम की भावना और देश के प्रति मर मिटने का भाव जगे।

 

पर्यावरण संरक्षण के प्रति करें प्रेरित

मुख्यमंत्री ने कहा कि विश्वविद्यालयों को छात्रों को डिग्री देने तक ही सीमित नहीं रहना चाहिए बल्कि उनकी प्लेसमेंट तक की चिंता करनी चाहिए। इसके लिए उन्होंने एलूमिनी मीट पर जोर दिया। इसके साथ ही उन्होंने विद्यार्थियों को पर्यावरण संरक्षण के प्रति प्रेरित करने के लिए भी योजना बनाने को कहा। उन्होंने कहा कि पौधारोपण को विद्यार्थियों की इंटरनल एसेसमेंट से जोड़ना चाहिए।

नो ड्रॉप आउट का लक्ष्य

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि हमारा लक्ष्य अंतोदय है। उसी के निमित हमने परिवार पहचान पत्र की योजना पर काम शुरू किया हुआ है। इस योजना के तहत अभी तक प्रदेशभर के 64 लाख परिवारों का रजिस्ट्रेशन हो चुका है। इस सर्वे के लिए 5-5 लोगों की लोकल टीमें बनाई गई हैं, इनमें एक कॉलेज या विश्वविद्यालय का विद्यार्थी भी शामिल हैं । मुख्यमंत्री ने विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से इसमें सहयोग करने का आह्वान किया। इससे हमें परिवार का रियल टाइम डाटा उपलब्ध होगा। यह डाटा प्रत्येक बच्चे को ट्रैक करने में सहयोगी सिद्ध होगा। इससे हम जीरो ड्रॉप आउट के लक्ष्य को 2024 तक पूर्ण कर लेंगे। इसके तहत 3 वर्ष से 18 वर्ष तक के प्रत्येक बच्चे को ट्रैक करके उसे स्कूल तक लाने का काम किया जाएगा।

चंडीगढ़, 9 सितंबर: मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने बाबा खेतानाथ राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज और अस्पताल, नारनौल को बैचलर ऑफ आयुर्वेद, मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस) की 100 सीटों के साथ शुरू करने के लिए अनिवार्यता प्रमाण पत्र / अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी करने हेतु स्वीकृति प्रदान कर दी है।

इस संबंध में जानकारी देते हुए सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि कॉलेज के प्रबंधन ने 100 बैड की क्षमता वाले बाबा खेतानाथ राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज एवं अस्पताल, नारनौल को शुरू करने के लिए अनिवार्यता प्रमाण पत्र/एनओसी जारी करने का अनुरोध किया था।

उन्होंने बताया कि भारतीय चिकित्सा केंद्रीय परिषद (सीसीआईएम) के मानदंडों के अनुसार अस्पताल और कॉलेज के लिए आवश्यक भवन का निर्माण पहले ही पूरा हो चुका है। अस्पताल में आवश्यक उपकरण, मशीनरी और फर्नीचर भी उपलब्ध हैं।

इसलिए, कॉलेज शुरू करने के लिए राज्य सरकार से एनओसी की आवश्यकता थी, ताकि कॉलेज विश्वविद्यालय से संबद्धता के लिए आवेदन कर सकें और साथ ही नए आयुर्वेदिक कॉलेज शुरू करने के लिए सीसीआईएम में आवेदन कर सकें।

चण्डीगढ, 9 सितम्बर- मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा में राज्य स्तरीय योग प्रतियोगिता का आयोजन 14 सितंबर से 16 सितंबर तक गुडगांव में किया जायेगा । इस प्रतियोगिता में आयु वर्ग 8-12 वर्ष, 12-15 वर्ष, 15-19 वर्ष तथा 19-25 वर्ष के खिलाडी हिस्सा ले सकेंगे।

इस संबंध में जानकारी देते हुए खेल एवं युवा कार्यक्रम विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि इस प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय,तथा तृतीय स्थान पर आने वाले प्रतिभागियों को क्रमशः 2000 रुपये, 1500 रुपये तथा 1000 रुपये के नकद पुरस्कार दिये जायेंगे। उन्होंने बताया कि राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में वहीं खिलाडी हिस्सा ले सकेंगे जिन्होंने जिला स्तरीय योग प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय,तथा तृतीय स्थान प्राप्त किया हो।

प्रवक्ता ने बताया कि राज्य स्तरीय योग प्रतियोगिता का उद्घाटन 14 सितंबर को प्रातः 11ः00 बजे होगा। प्रतियोगिता के आयोजन में कोविड-19 के तहत जारी सभी हिदायतों का पालन सख्ती से किया जायेगा।