हरियाणा सरकार की मुख्य गतिविधियां एवं उनसे जुड़े समाचार पढ़िए मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क पर।

 

पंचकूला एकीकृत विकास योजना के अंतर्गत किए जाने वाले कार्यों में तेजी लाएं अधिकारी- मुख्यमंत्री
सेक्टर 5 पंचकूला को व्यावसायिक दृष्टि से नई पहचान दिलाने के लिए तैयार की जाए विशेष योजना- मनोहर लाल
चण्डीगढ 26 अगस्त- बी डी कौशिक मुख्य संपादक मातृभूमि संदेश न्यूज नेटवर्क। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने पंचकूला के समग्र विकास को सुनिश्चित करने और इसे आर्थिक राजधानी के रूप में भी विकसित करने के लिए पंचकूला एकीकृत विकास योजना के अंतर्गत किए जाने वाले कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिए। साथ ही मुख्यमंत्री ने सेक्टर 5 पंचकूला को व्यावसायिक दृष्टि से नई पहचान दिलाने और सेंटर ऑफ़ अट्रैक्शन बनाने के लिए विशेष योजना तैयार करने के भी निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री आज यहां पंचकूला एकीकृत विकास योजना के तहत किए जा रहे कार्यों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञानचंद गुप्ता भी बैठक में मौजूद रहे।
मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा पंचकूला की विकास योजना के अंतर्गत मोरनी क्षेत्र में पंचकूला से मंधाना, मंधाना से मोरनी, मोरनी से टिक्कर ताल और टिक्कर ताल से रायपुररानी तक के सड़क मार्ग को चौड़ाकरण और सुंदरीकरण का कार्य जल्द से जल्द पूरा किया जाए। इसके अलावा रामगढ़ से हिमाचल प्रदेश तक प्रस्तावित सड़क के निर्माण कार्य को हुई जल्द से जल्द पूरा करने की दिशा में कार्य किया जाए, ताकि पर्यटकों का आवागमन सुगम हो सके।
बैठक में बताया गया कि चण्डीगढ़ एयरपोर्ट से पंचकूला की सीधी कनेक्टिविटी का कार्य प्रगति पर है। इसके लिए घग्गर नदी पर पुल भी निर्माणाधीन है। इसके अलावा, पिंजौर हवाई पट्टी का निर्माण कार्य भी प्रगति पर है। इसके पूरा होने के बाद जल्द ही लोग एयर टैक्सी सेवा का लाभ उठा सकेंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि मोरनी में पैरासेलिंग, पैरा मोटर्स और जेट स्कूटर जैसी साहसिक गतिविधियों को जल्द शुरू किया जाए। मुख्यमंत्री ने निर्देश देते हुए कहा कि मोरनी में चिन्हित किए गए ट्रैकिंग रूट का जल्द शुभारंभ किया जाए और इन ट्रैकिंग रूट पर सुरक्षित ट्रेकिंग के लिए यूथ क्लब या एडवेंचर क्लब को साथ जोड़ा जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि ट्रैकिंग रूट्स पर साइन और मार्किंग सही प्रकार से की जाए ताकि पर्यटकों को किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत का सामना न करना पड़े।
श्री मनोहर लाल ने निर्देश देते हुए कहा कि स्थानीय बच्चों को नेचर गाइड के तौर पर प्रशिक्षण दिया जाए जिससे एक तरफ इन ट्रैकिंग रूट पर पर्यटकों को फायदा होगा वहीं दूसरी ओर युवाओं को रोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे। उन्होंने कहा कि पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए माउंटेन साइकिल रैली आयोजित किए जाएं। इसके अलावा टूरिज्म सर्किट रूट योजना को भी जल्द से जल्द पूर्ण किया जाए।
एंटरटेनमेंट एरिया और पर्यटक सुविधा केंद्र किए जाएंगे स्थापित
मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि प्रस्तावित फिल्म सिटी के साथ लगते क्षेत्र में एंटरटेनमेंट एरिया भी स्थापित करने की संभावनाएं तलाशी जाएं। इसके अलावा, रेडबिशॉप सेक्टर-1 पंचकूला में पर्यटक सुविधा केंद्र स्थाचपित किया जाए। उन्होंने कहा कि पंचकूला के हरे भरे वातावरण को बढ़ावा देने और इसे संरक्षित करने के लिए नक्षत्र वाटिका, सुगंध वाटिका और राशि वन स्थापित करने के कार्य में तेजी लाई जाए।
फार्मा उद्योग और इंडस्ट्रियल क्लस्टर स्थापित करने पर जोर
मुख्यमंत्री ने एचएसआईआईडीसी के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि बरवाला में फार्मा उद्योग स्थापित करने की दिशा में सभी प्रक्रियाओं को जल्द पूर्ण किया जाए। यह राज्य सरकार का महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट है, इसलिए जल्द से जल्द निवेशकों से बातचीत कर प्लॉट निलामी की प्रक्रिया अमल में लाई जाए। इसके अलावा, इंडस्ट्रीयल क्लस्टर स्थापित करने और बरवाला को औद्योगिक टाउनशिप के रूप में विकसित करने की दिशा में भी समर्पित प्रयास किए जाएं।
बैठक में बताया गया कि पंचकूला को मेडिकल हब के रूप में विकसित करने की दिशा में यहां आधुनिक सुविधाओं से युक्त दो बड़े अस्पताल सेक्टर-32 एक्सटेंशन और सेक्टर-5 सी में खोले जाएंगे। थापली में वेलनेस सेंटर और पंचकर्मा केंद्र का संचालन किया जा रहा है। बैठक में यह भी बताया गया कि पंचकूला में एजुकेशन सिटी स्थापित करने के लिए गंभीर प्रयास किये जा रहे हैं। चंडी मंदिर में इसके लिए जगह चिह्नित कर ली गई है। बैठक में मुख्यमंत्री को अवगत करवाया गया कि एचएमटी पिंजौर की 60 एकड़ जमीन पर फिल्म सिटी के निर्माण के लिए प्रथम चरण की कार्रवाई पूरी कर ली गई है।
मोरनी में पेयजल की समस्या का निकलेगा स्थाई समाधान
मोरनी में पेयजल की समस्या पर समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को इसका स्थाई समाधान निकालने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पानी के नए स्त्रोत तैयार करें और उपलब्ध पानी का उचित प्रबंधन किया जाए ताकि सभी क्षेत्रों में पानी की उपलब्धता सुनिश्चित की जा सके। मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि घग्गर नदी पर बन रहे डंगराना और दिवानवाला डैम से पानी की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। इसके अलावा, मोरनी क्षेत्र में 11 टयूबवेल लगाने का भी प्रस्ताव तैयार किया गया है। साथ ही, माता मनसा देवी मंदिर के पास लगभग 130 एकड़ भूमि पर स्टोरेज टैंक तैयार करने का प्रस्ताव है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पंचकूला के विकास के साथ-साथ इस क्षेत्र को सांस्कृतिक दृष्टि से भी विकसित करना है। इसके लिए अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव पर कुरुक्षेत्र के साथ-साथ पंचकूला में भी कार्यक्रम आयोजित किए जाएं। साथ ही, शास्त्रीय संगीत कार्यक्रम और डांस शो इत्यादि कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएं। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि पंचकूला के निवासियों के साथ-साथ राज्य के लोगों को पंचकूला शहर के विकास के बारे में पर्याप्त जानकारी देने के लिए पंचकूला एकीकृत विकास योजना से सम्बंधित मैप तैयार किए जाएं और शहर के मुख्य स्थानों पर प्रदर्शित किया जाए, जिसमें पंचकूला के हर कोने को चित्रित किया जाए और विभिन्न विभागों द्वारा संचालित की जा रही योजनाओं की जानकारी दी जाए।
बैठक में मुख्य सचिव श्री विजय वर्धन, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव श्री डी एस ढेसी, लोक निर्माण (भवन एवं सड़कें) विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री आलोक निगम, जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री देवेंद्र सिंह, शहरी स्थाोनीय निकाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री एस. एन. रॉय, नगर एवं ग्राम आयोजना विभाग तथा खेल एवं युवा मामले विभाग के प्रधान सचिव श्री ए. के. सिंह, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव तथा सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग के महानिदेशक डॉ. अमित अग्रवाल, एचएसआईआईडीसी के प्रबंध निदेशक श्री अनुराग अग्रवाल, उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के प्रधान सचिव श्री विजयेंद्र कुमार, पंचकूला महानगरीय विकास प्राधिकरण, पंचकूला के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री अजीत बालाजी जोशी और पंचकूला के उपायुक्त श्री विनय प्रताप सिंह सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

हरियाणा में तेजी से वैक्सीनेशन का कार्य जारी- स्वास्थ्य मंत्री
प्रदेश में अब तक एक करोड़ 51 लाख 54,158 पात्र व्यक्तियों का वैक्सीनेशन
चंडीगढ़, 26 अगस्त – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री श्री अनिल विज ने कहा कि राज्य में तेजी से वैक्सीनेशन का कार्य जारी है और इसी कड़ी में प्रदेश में अब तक कुल एक करोड़ 51 लाख 54,158 पात्र व्यक्तियों का कोविड-19 का वैक्सीनेशन हो चुका है।
उन्होंने इस संबंध में अधिक जानकारी देते हुए बताया कि अब तक एक करोड़ 14 लाख 68,739 पात्र व्यक्तियों को पहली डोज और 36 लाख 85 हजार 419 लोगों को दूसरी डोज लग चुकी है।
श्री विज ने बताया कि चार लाख 67 हजार 767 स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों को कोरोना वायरस की वैक्सीन लग चुकी है जिनमें 2,51,029 स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों को पहली डोज और 2,16,738 स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों को दूसरे डोज लग चुकी है। इसी प्रकार, फ्रंट लाइन वर्करों में अब तक 4,51,586 को करोना की वैक्सीन लग चुकी है जिनमें 2,50,935 को प्रथम डोज और 2,00,651 को दूसरी डोज लग चुकी है।
स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि 60 वर्ष या इससे अधिक आयु के लोगों को अब तक 32,86,446 लोगों को वैक्सीनेट किया जा चुका है जिनमें 21,25,084 लोगों को प्रथम डोज और 11,61,362 लोगों को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है। उन्होंने बताया कि 45 वर्ष से लेकर 60 वर्ष तक की आयु के पात्र व्यक्तियों में 38 लाख 58 हजार 741 लोगों को वैक्सीनेट किया जा चुका है जिनमें 26,48,843 लोगों को प्रथम डोज और 12,09,898 लोगों को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है।
श्री विज ने बताया कि 18 से 44 वर्ष की आयु वर्ग के लोगों को अब तक सबसे ज्यादा कवर किया गया है जिनमें 70,89,618 लोग शामिल है, जिन्हें वैक्सीनेट किया जा चुका है। इनमें 61,92,848 लोगों को प्रथम डोज और 8,96,770 लोगों को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है। इसी प्रकार, स्वास्थ्य मंत्री ने प्रदेश के जिलों का ब्यौरा देते हुए बताया कि अब तक सबसे अधिक वैक्सीनेशन गुरुग्राम में हुआ है जहां 22,48,592 लोगों को वैक्सीनेट किया जा चुका है। इसी प्रकार, फरीदाबाद में 14,59,021 लोगों को वैक्सीनेट किया जा चुका है।
श्री विज ने बताया कि अंबाला में 979661 लोगों को, भिवानी में 593847 लोगों को, चरखी दादरी में 421021 लोगों को, फतेहाबाद में 464872 लोगों को, हिसार में 727569 लोगों को, झज्जर में 560149 लोगों को, जींद में 468242 लोगों को, कैथल में 474895 लोगों को, करनाल में 827136 लोगों को, कुरुक्षेत्र में 508870 लोगों को, महेंद्रगढ़ में 512148 लोगों को, नूह में 202084 लोगों को, पलवल में 462490 लोगों को, पंचकूला में 504715 लोगों को, पानीपत में 538073 लोगों को, रेवाड़ी में 524146 लोगों को, रोहतक में 550023 लोगों को, सिरसा में 635970 लोगों को, सोनीपत में 853765 लोगों को और यमुनानगर में 636869 लोगों को वैक्सीनेट किया जा चुका है।

वर्तमान प्रदेश सरकार सैनिकों का बहुत सम्मान करती है-सहकारिता मंत्री
तावडू ब्लॉक के गांव माई नगला निवासी शहीद अजरुदीन के नाम पर उनके गांव में स्कूल का नामकरण किया जाएगा- डॉ बनवारी लाल
चंडीगढ़, 26 अगस्त – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के सहकारिता मंत्री डॉ बनवारी लाल ने कहा कि तावडू ब्लॉक के गांव माई नगला निवासी शहीद अजरुदीन के नाम पर उनके गांव में स्कूल का नामकरण किया जाएगा । उन्होंने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार सैनिकों का बहुत सम्मान करती है और शहीद सैनिकों के परिवारों के लिए समय-समय पर जन कल्याणकारी नीतियां बनाती रहती है। इसके अलावा, मंत्री ने कहा कि जो भी अधिकारी व कर्मचारी रिश्वत लेते हुए पाया गया तो रिश्वत लेने वाले के साथ-साथ रिश्वत देने वाले के विरुद्ध भी कानूनी कार्रवाई की जाएगी ।
हरियाणा के सहकारिता मन्त्री डा बनवारी लाल आज नूह में जिला लोक सम्पर्क एवं कष्ट निवारण समीति की मासिक बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।
बैठक में जिला उद्यान अधिकारी को आदेश देते हुए कहा कि नूह जिला में प्लास्टिक टनल मद में प्राप्त 64 किसानों को अनुदान देने के लिए उन सभी की दोबारा फाइल जांच कर उन्हें अनुदान दिलवाने के कार्य को पूरा करें । उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार किसानों की आय को बढ़ाने के लिए नई नई योजनाएं बनाकर उन्हें लाभ देने का कार्य कर रही है।
सहकारिता मंत्री ने बीपीएल कार्डो को लेकर आई फिरोजपुर झिरका उप मंडल के गांव ढोंड कलां निवासी अनिल पुत्र हुसैन कहां की शिकायत पर अधिकारियों को आदेश दिए कि अधिकारी बीपीएल कार्ड संबंधी समस्या को दूर कर बीपीएल कार्ड धारकों को लाभ पहुंचाने का कार्य करें ।
इसके उपरांत सहकारिता मंत्री डॉ बनवारी लाल की अध्यक्षता में नूह जिला विकास समन्वय और निगरानी समिति की बैठक में सरकार द्वारा क्रियान्वित जन कल्याणकारी योजनाओं की समीक्षा भी की।

चंडीगढ़, 26 अगस्त – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा की महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री श्रीमती कमलेश ढांडा ने प्रदेश में बच्चों एवं महिलाओं के पोषण स्तर को सुधारने के लिए ‘कुपोषण छोड़ पोषण की ओर- थामे क्षेत्रीय भोजन की डारे थीम’ विषय पर विभाग द्वारा पहली से 30 सितंबर, 2021 तक राष्टï्रीय पोषण माह के तहत विशेष अभियान चलाया जाएगा।
श्रीमती ढांडा ने कार्यक्रम के संबंध में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के सहयोग से पहली से 15 सितम्बर, 2021 तक सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों पर 0-6 वर्ष के बच्चों के कद की लम्बाई एवं वजन माप के लिए ड्राइव चलाया जाएगा।
उन्होंने बताया कि पोषण माह की शुरूआत आंगनवाड़ी वर्कर्स, सहायक, आशा वर्कर्स, एएनएम, ग्राम स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं पोषण कमेटी, ग्राम पंचायत, पोषण पंचायत के सदस्यों द्वारा एक रैली निकाल कर की जाएगी। शहरी क्षेत्रों में वाहनों एवं लाउड स्पीकरों का भी प्रयोग किया जा सकेगा। आंगनवाड़ी केन्द्रों, स्कूल परिसरों, ग्राम पंचायत एवं अन्य स्थानों पर उपलब्ध भूमि पर सभी पणधारकों द्वारा ‘पोषण वाटिका’ लगाई जाएगी। इस दौरान लोगों को किचन गार्डन विकसित करने बारे भी जागरूक किया जाएगा ताकि उन्हें रोजमर्रा की जरूरत की हरी सब्जियां घर पर ही मिल सकें। इसके अलावा, ‘पोषण के लिए पौधे’ कार्यक्रम के तहत आयुष विभाग द्वारा लोगों को औषधीय पोधों के लाभ एवं महत्व के बारे जानकारी देने के लिए स्पेशल टॉक का आयोजन किया जाएगा और पोषण वाटिका के बारे जागरूकता उत्पन्न की जाएगी। इस माह के दौरान आंगनवाड़ी वर्कर्स एवं महिलाओं के लिए व्यंजन प्रतियोगिता का आयोजन भी किया जाएगा और आंगनवाड़ी वर्कर्स द्वारा घर-घर जाकर महिलाओं को भोजन में लौह, विटामिन-ए, जिंक, आयोडीन जैसे सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी को दूर करने बारे जानकारी दी जाएगी।
उन्होंने बताया कि दूसरे सप्ताह के दौरान पोषाहार के लिए ‘योग एवं आयुष थीम’ पर कार्यक्रम चलाए जाएंगे और आम जनता को योग के बारे जागरूक किया जाएगा। सरकारी कर्मचारी एवं निगमित निकायों में पांच मिनट का ‘योगा प्रोटोकोल’ किया जाएगा। महिलाओं एवं बच्चों के लिए ऑनलाइन नि:शुल्क लघु अवधि के योगा पाठ्यक्रम चलाए जाएंगे। गर्भवती एवं स्तनपान कराने वाली महिलाओं एवं किशोरियों के लिए आयुष का महत्व विषय पर गोष्ठïी आयोजित करवाई जाएगी।
श्रीमती ढांडा ने बताया कि तीसरे सप्ताह के दौरान आंगनवाड़ी केन्द्रों के लाभार्थियों को ‘क्षेत्रीय पोषण किट’ वितरित की जाएगी जिसमें सुकाड़ी-गुजरात, पंजीरी-पंजाब, सत्तू-बिहार, चिक्की-महाराष्टï्र के व्यंजन शामिल होंगे और क्षेत्रीय एंव स्थानीय खान-पान के बारे जानकारी देने के लिए जागरूकता अभियान चलाया जाएगा।
उन्होंने बताया कि चौथे सप्ताह के दौरान सीवियर एक्यूट मॉलन्यूट्रीशन (एसएएम) बच्चों की पहचान एवं उनके स्वास्थ्य की जांच करना, ऐसे बच्चों के आहार बारे जागरूकता उत्पन्न करने के लिए उनकी माताओं से बैठकें आयोजित करना, अन्नप्राशन दिवस एवं स्तनपान पर बल देते हुए समुदाय आधारित कार्यक्रम आयोजित करना, गर्भवती एवं स्तनपान कराने वाली महिलाओं एवं किशोरियों की बैठकें आयोजित करना शामिल है।
श्रीमती ढांडा ने बताया कि इस माह के दौरान ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण दिवस भी मनाया जाएगा, जिसके तहत स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से बच्चों तथा गर्भवती एवं स्तनपान करवाने वाली महिलाओं की विशेष स्वास्थ्य जांच की जाएगी।
उन्होंने बताया कि पोषण माह मनाने के दौरान महामारी कोविड-19 से बचाव के लिए सामाजिक दूरी बनाए रखने, मास्क पहनने और हाथों को बार-बार साबुन से धोने जैसे उपायों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि नीति आयोग द्वारा राज्यों में प्रचलित स्थानीय व क्षेत्रीय स्तर के पोषक खाद्य पदार्थों की जानकारी दी जाएगी तथा पंजीकृत गैर-सरकारी संगठनों तथा सोशल मीडिया अभियान के माध्यम से भी पोषाहार के बारे लोगों को जागरूक किया जाएगा। उन्होंने बताया कि मत्स्य विभाग द्वारा महिलाओं एवं युवाओं के लिए मछली पोषण पर वेबिनार आयोजित किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि महिलाओं एवं बच्चों के पोषण स्तर को बढ़ावा देने के लिए नुक्कड़ नाटकों, लोक गायन एवं रागिनी आदि का आयोजन भी किया जाएगा। इसके अतिरिक्त, सार्वजनिक स्थलों एवं सामुदायिक भवनों पर होडिंग्ज एवं बैनर भी लगाए जाएंगे।
उन्होंने बताया कि 30 सितम्बर,2021 को पोषण माह का समापन समारोह आयोजित किया जाएगा। आंगनवाड़ी वर्कर्स द्वारा आंगनवाड़ी केन्द्रों में बच्चों के पोषण स्तर की रिपोर्ट तैयार की जाएगी और खंड स्तर पर रिपोर्ट का संकलन किया जाएगा। इसके अलावा, छायाचित्रों के साथ किचन गार्डनिंग की रिपोर्ट भी पे्रषित की जाएगी। ग्राम, खंड एवं जिला स्तर पर शपथ समारोह एवं पोषण एंथम का आयोजन किया जाएगा। इसके अतिरिक्त, पोषण माह के दौरान आयोजित की गई विभिन्न गतिविधियों की समीक्षा करने के लिए पोषण पचंायत/ग्राम पंचायत/ खंड पंचायत एवं जिला पंचायत की विशेष बैठक आयोजित की जाएगी।

चण्डीगढ़, 26 अगस्त – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने झज्जर के झाड़ली में कम्पनी कर्मचारियों को स्वास्थ्य लाभ देने के लिए ईएसआई डिस्पेंसरी खोलने एवं पैक्स कर्मचारियों को एक्सग्रेसिया का लाभ देने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री आज यहां भारतीय मजदूर संघ हरियाणा के पदाधिकारियों के साथ मजदूर संगठनों की मांगो को लेकर आयोजित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि झाड़ली क्षेत्र में राष्ट्रीय पावर प्लांट के अलावा कई कम्पनियों के उद्योग हैं जिनमें असंगठित क्षेत्र के कर्मचारी कार्य करते हैं। इसलिए इस क्षेत्र में ईएसआई डिसपेंसरी खोलना अति आवश्यक है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में कार्यरत सफाई कर्मचारियों, ग्रामीण चौकीदारों की तर्ज पर ग्रामीण टयूबवैल ऑपरेटरों का वेतन हर माह सुनिश्चित करने के लिए कोष की स्थापना की गई है जिसके माध्यम से उन्हें समय पर वेतन मिलेगा। ग्रामीण विकास के लिए अलग से फण्ड जारी किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनस्वास्थ्य विभाग में कंट्रेक्ट पर लगे हुए टर्म अपोंटीज कर्मचारियों को पदनामित किया जाए।
मुख्यमंत्री ने विद्युत बोर्ड में अनुबंधित कर्मचारियों से कोई हादसा होने पर एकतरफा जांच न कर कर्मचारी को अंतिम सुनवाई का अवसर दिए जाने के निर्देश भी दिए।
हरियाणा में श्रम कानूनों में बदलाव किए जाने के मामले में मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रम कानूनों में बदलाव से पहले मजदूर संघ एवं औद्योगिक ईकाईयों के प्रतिनिधियों व कर्मचारियों से सुझाव लिए जाएं ताकि मजदूरों के लिए बनाए जाने वाले कानून मजदूर हितैषी हों। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे प्रदेश का न्यूनतम बेसिक डीसी रेट निर्धारित होगा। इसके अलावा, एनसीआर क्षेत्र एवं दूसरे जिलों में कॉस्ट आफ लिविंग को ध्यान में रखते हुए स्लेब बनाकर नए डीसी रेट तय किये जाएंगे। डीसी रेट में महंगाई दर के अनुसार वृद्वि होती रहेगी।
उन्होंने कहा कि आढतियों की तरह यदि कोई पैक्स लाईसेंस लेना चाहता है तो मार्केटिंग बोर्ड उन्हें अनुमति प्रदान करेगा। बैठक में पैक्स कर्मचारियों को दी जाने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं बारे भी जानकारी ली गई।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार मजदूरों की हर उचित मांग को पूरा करने तथा उनके समक्ष आने वाली समस्याओं का निवारण करने के लिए तत्परता से कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि भारतीय मजदूर संघ हरियाणा प्रदेश के असंगठित क्षेत्र के कर्मचारियों के लिए बेहतर कार्य कर रहा है। इस संघ का मुख्य ध्येय’’ देश के हित में करेंगे काम, काम के लेंगे पूरे दाम’’ है जिसे सरकार के साथ मिलकर पूरा करने के लिए कार्य कर रहा है।
मुख्यमंत्री ने भारतीय मजदूर संघ के प्रतिनिधिमण्डल की मांगो को ध्यानपूर्वक सुना और उन्हें नियमानुसार पूरा करने का आवश्वासन दिया। मजदूर संघ ने कंट्रेक्ट कर्मचारियों के कल्याण हेतू गठित कौशल रोजगार विकास निगम एवं असंगठित क्षेत्र के लिए सामाजिक सुरक्षा योजना शुरु किए जाने पर मुख्यमंत्री का आभार जताया। प्रतिनिधिमण्डल में संगठन मंत्री पवन कुमार, हवासिंह, हनुमान गोदारा, मीना ठाकुर, अशोक शर्मा सहित कई पदाधिकारी शामिल थे।
बैठक में मुख्य सचिव श्री विजय वर्धन, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव श्री डी एस ढेसी, अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल, श्री पी के दास, श्री आलोक निगम, श्री देवेन्द्र सिंह, श्री एस एन राय, श्री राजीव अरोड़ा, डा. महाबीर सिहं, श्री वी राजा शेखर वुण्डरु, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव वी उमाशंकर, अतिरिक्त प्रधान सचिव डा. अमित अग्रवाल सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

चंडीगढ़, 26 अगस्त – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। आगामी दो अक्टूबर तक हरियाणा प्रदेश में सौ नए ‘हर हित’ स्टोर खोले जाएंगे। प्रदेश भर में ‘हर हित’ ब्रांड के तहत कुल दो हज़ार स्टोर्स खोलने का लक्ष्य है। यह जानकारी आज यहाँ सार्वजनिक उपक्रम ब्यूरो के चेयरमैन श्री सुभाष बराला ने दी। हरियाणा सिविल सचिवालय में हुई हरियाणा कृषि उद्योग निगम की बैठक में कृषि एवं किसान कल्याण से आई.ए.एस. अधिकारी डॉ सुमिता मिश्रा भी उपस्थित रहीं। श्री बराला ने कहा कि इन ‘हर हित’ स्टोर्स को खोलने के पीछे दो लक्ष्य हैं, पहला लक्ष्य है प्रदेश के युवाओं को रोजगार देने का और दूसरा लक्ष्य है बेहतर गुणवत्ता का सामान उपलब्ध करवाना। इन हर हित स्टोर्स द्वारा सामान घर तक डिलीवर भी किया जा सकेगा। ‘हर हित’ पर खाद्दान, तेल, मसाले, स्नैक्स, बेकरी, होमकेयर, आदि सामान उपलब्ध होगा। इस बैठक में प्रबंध निदेशक रोहित यादव भी मौजूद रहे।
‘वन विकास निगम’ के अधिकारियों के साथ श्री बराला द्वारा ली गयी । बैठक में अधिक से अधिक सरकारी स्कूलों का फर्नीचर ‘वन विकास निगम’ के माध्यम से बनवाए जाने पर चर्चा हुई। प्रदेश सरकार के विभिन्न विभागों के लिए फर्नीचर बनवाने के लिए भी वन विकास निगम से सहायता ली जाएगी। श्री बराला ने ‘वन विकास के अधिकारियों’ से बातचीत में कहा कि विभाग को अपना वार्षिक बजट भी तैयार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि खेतों के साथ लगे पेड़ों की कटाई की आधी कीमत किसान को दी जाना भी सुनिश्चित करने की जरूरत है। सडक़ों की चौड़ाई के लिए होने वाली पेड़ों की कटाई के दौरान सभी सुरक्षा उपायों का पालन किया जाना चाहिए। इस अवसर पर पर निगम को गवर्नमेंट ई – मार्किट प्लेस (जी.ई.एम.) पर पंजीकृत करवाने का विचार भी रखा गया। इस अवसर पर वन विकास निगम के चेयरमैन और नीलोखेड़ी से विधायक श्री धर्मपाल गोंदर , प्रबंध निदेशक सुरेश दलाल सहित अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे ।

चंडीगढ़, 26 अगस्त – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा के कालेजों में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के विद्यार्थियों को भी एडमिशन में 10 प्रतिशत आरक्षण का कोटा दिया जाएगा। एक सरकारी प्रवक्ता ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि उच्चतर शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव की ओर से प्रदेश के सभी सरकारी, निजी व एडिड कालेजों के प्राचार्यों को निर्देश दिए गए हैं कि कालेजों में विद्यार्थियों के एडमिशन के दौरान स्टेट-कोटा व सैंट्रल-कोटा, दोनों में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के विद्यार्थियों को 10 प्रतिशत आरक्षण दिया जाए।

चंडीगढ़, 26 अगस्त – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणावासियों को सूचित किया जाता है महामारी कोविड-19 के कारण उत्पन्न परिस्थितियों को मद्देनजर रखते हुए राजस्थान सरकार द्वारा अगस्त/सितम्बर, 2021 में गोगामेड़ी, जिला हनुमानगढ़, राजस्थान में आयोजित होने वाला वार्षिक गोगा जी मेला स्थगित कर दिया गया है।
हरियाणा सरकार के एक प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि हरियाणा से बड़ी संख्या में श्रद्घालु इस मेले में जाते हैं। अत: उनसे आग्रह है कि राजस्थान सरकार के इस निर्णय के मद्देनजर वे इस मेले में जाने से बचे ताकि कोविड महामारी को फैलने से रोका जा सके।

चंडीगढ़, 26 अगस्त – मातृभूमि संदेश बी डी कौशिक। हरियाणा सरकार ने विद्यार्थियों के हित में निर्णय लेते हुए स्नातक कक्षाओं के प्रथम वर्ष के लिए ऑनलाइन एडमिशन हेतु रजिस्ट्रेशन बारे अंतिम तिथि 2 सितंबर 2021 तक बढ़ाने का निर्णय लिया है।
एक सरकारी प्रवक्ता ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि कुछ कालेजों के प्राचार्यों व विद्यार्थियों ने स्नातक कक्षाओं के प्रथम वर्ष में एडमिशन हेतु अंतिम तिथि बढ़ाने की मांग की थी। इस मामले में उच्चतर शिक्षा विभाग ने स्वीकृति दे दी है। उन्होंने बताया कि नए शैड्यूल के अनुसार अब विद्यार्थी ऑनलाइन एडमिशन पोर्टल पर 2 सितंबर 2021 तक अपना आवेदन तथा रजिस्टे्रशन कर सकते हैं। उन्होंने आगे बताया कि 4 सितंबर तक ऑनलाइन डॉक्यूमैंटस वेरिफिकेशन करके 8 सितंबर 2021 को पहली मैरिट लिस्ट जारी की जाएगी। एडमिशन पाने वाले विद्यार्थियों को 9 सितंबर से 13 सितंबर तक फीस जमा करवानी होगी। इसके बाद, 15 सितंबर को दूसरी मैरिट लिस्ट जारी की जाएगी जिसके लिए 16 सितंबर से 18 सितंबर तक फीस जमा करवाई जा सकती है। अगर फिर भी कुछ सीटें खाली रह जाती हैं तो ओपन काऊंसलिंग के लिए 21 सितंबर 2021 को पुन: ऑनलाइन एडमिशन पोर्टल खोला जाएगा।