भारत सरकार का स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2019 का पेयजल एवं स्वच्छता की शुरुआत

फरीदाबाद, 20 अगस्त । अतिरिक्त उपायुक्त धर्मेंद्र सिंह ने कहा कि भारत सरकार का स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2019 का पेयजल एवं स्वच्छता की शुरुआत की गई है। यह सर्वेक्षण आगामी 30 सितंबर तक चलेगा। इस सर्वेक्षण के तहत गांव में  भी स्वच्छता की स्थिति जानने का मौका मिलेगा एवं सर्वेक्षण के आधार पर कौन सा जिला ज्यादा सच है, राष्ट्र स्तर पर उसकी रैंकिंग क्या है। इसका निर्धारण भारत सरकार के मंत्रालय द्वारा निर्धारित किया जाएगा।
  यह जानकारी उन्होंने उनके कार्यालय में जिला विकास एवं पंचायत, शिक्षा, महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों तथा कर्मचारियों को संबोधित करते हुए दी। उन्होंने बैठक में उपस्थित अधिकारियों व कर्मचारियों को दिशा निर्देश देते हुए कहा कि स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2019 के दौरान ग्राम पंचायतों ,स्कूलों, आंगनवाड़ी केंद्र, प्राथमिक चिकित्सा केंद्र, सामुदायिक चिकित्सा केंद्र, बस स्टैंड, धार्मिक स्थानों व अन्य संस्थानों आदि पर बने हुए शौचालयों और ग्राम पंचायत के क्षेत्र में साफ-सफाई की जांच की जाएगी । उन्होंने कहा कि सभी विभागों के अधिकारी अपने -अपने क्षेत्र में जाकर साफ सफाई का विशेष ध्यान रखें। लोगों को अधिक से अधिक इसके बारे जागरूक करें। जागरूकता अभियान चलाकर इसे जन आंदोलन का रूप दे। पंचायत विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे सभी ग्राम पंचायतों को, शिक्षा विभाग के अधिकारी सभी स्कूलों में और महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारी आंगनबाड़ी केंद्रों तथा उनके आसपास,  स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी प्राथमिक चिकित्सा केंद्रों, सामुदायिक चिकित्सा केंद्र तथा अन्य स्थानों पर जन जागरण अभियान चलाकर लोगों को इसके लिए प्रेरित करें और उन्हें शामिल करें।
  विद्यार्थियों द्वारा रैलिया निकलवाए और पेंटिंग प्रतियोगिताओ  का आयोजन करें तथा प्रभात फेरिया निकालकर लोगों को जागरुक करें।
 फोटो कैप्शन-अतिरिक्त उपायुक्त धर्मेन्द्र सिंह बैठक में उपस्थित अधिकारियों को दिशा-निर्देश देते हुए ।