*प्राधिकरण द्वारा क्लीन एंड ग्रीन(स्वच्छ एवं हरित) पर्यावरण संरक्षण के अंतर्गत मोबाईल वैन जागरूकता शिविर आयोजित*               

पलवल(विक्रम वशिष्ठ)  हरियाणा राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण (हालसा) के निर्देशन में जिला विधिक सेवाएँ प्राधिकरण के तत्वावधान में माननीय जिला एवं सत्र न्यायाधीश एंव चेयरमेन श्री अशोक कुमार वर्मा व माननीय मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट एंव सचिव श्री पीयूष शर्मा के मार्गदर्शन में गांव मितरोल के पुरुष वाचनालय/हरिजन चौपाल पर मोबाईल वैन जागरूकता अभियान के तहत क्लीन एंड ग्रीन (स्वच्छ एवं हरित) पर्यावरण संरक्षण के अन्तर्गत विशेष कानूनी जागरूकता शिविर का आयोजन पैनल अधिवक्ता जगत सिंह रावत व इंद्रजीत पी एल वी द्वारा किया गया । शिविर में पैनल अधिवक्ता जगत सिंह रावत ने ग्रामीणों को स्वच्छ एवं हरित ( पर्यावरण संरक्षण) अभियान के बारे में जागरूक किया। उन्होंने ग्रामीणों को पर्यावरण संरक्षण अधिनियम, संविधान में वर्णित मौलिक अधिकारों एंव कर्त्तव्यों, विधिक सेवा प्राधिकरण अधिनियम,। हरियाणा पीड़ित मुआवजा योजना, नालसा योजनाओं तथा स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत अभियान, जल शक्ति अभियान के बारे में भी जानकारी प्रदान की । उन्होंने विशेष रूप से बताया कि वृक्षों की कटाई, पौधों को तोडना या उखाड़ना, कारखाने, फैक्ट्रियों या अन्य व्यावसायिक संस्थानों के तय मानक के खिलाफ़ जल, भूमि, वायु प्रदूषण फैलाना, प्लास्टिक व पोलीथीन का प्रयोग, वन्य एंव पालतू पशुओं एंव जानवरों के साथ क्रूरता, वाहनों से प्रदूषण फैलाना, घर, व्यावसायिक संस्थानों, सार्वजनिक स्थलों, स्कूलों, दुकानों, या अन्य किसी भी क्षेत्र के सामने या आसपास कूड़ा – कचरा फैलाना या जलाना या दफनाना, या पर्यावरण संरक्षण के लिए तय अन्य नियम एवं कानूनी प्रावधानों का उल्लंघन करना कानूनी अपराध है। संविधान में वर्णित अनुच्छेद 51ए जी के अंतर्गत हमारा मौलिक कर्तव्य है कि हम अपने पर्यावरण को संरक्षित करने के लिए वन्य जीव संरक्षण व वन, नदी, तालाब, जोहड, पोखर, या अन्य जल स्रोतों जैसे कुओं, नल कूपों के आस पास गंदगी ना फैलाएं तथा ज्यादा से ज्यादा पौधारोपण करें और चारों तरफ साफ़ – सफाई रखें। हमें कूड़ेदान का प्रयोग करना चाहिए ताकि किसी भी प्रकार का कचरा इधर उधर ना फैले। उन्होंने कहा कि यदि हम प्रकृति का ध्यान रखेंगे तो प्रकृति हमारा ध्यान अवश्य रखेगी। प्रदूषण या गंदगी कम होने से फैल रही गंभीर बीमारियों पर भी लगाम लग सकती है।  इसके अलावा उन्होंने बच्चों, बुजुर्गो, महिलाओं, अनुसूचित जाति एवं जनजाति, पिछड़े वर्ग, स्वतंत्रता सेनानी, मानसिक दिव्यांगों, किन्नरों, श्रमिकों, आपदा व दंगा ग्रस्त  पीडितों, यौन पीड़ितों के लिए विभिन्न कानूनी संवैधानिक अधिकारों एंव उनके पुनर्वास के लिए जारी विभिन्न प्रकार की कल्याणकारी योजनाओं के बारे में भी जानकारी प्रदान की । मोबाईल वैन जागरूकता अभियान का उद्देश्य हर जरूरतमंद को प्राधिकरण से जोड़कर, उन्हें उनके संवैधानिक अधिकारों के बारे जागरूक करना है, ताकि वे प्राधिकरण से अपने अधिकारों के शोषण के खिलाफ मुफ्त कानूनी सहायता प्राप्त कर सकें। शिविर में इंद्रजीत पी एल वी ने प्राधिकरण की सेवाओं व स्थायी लोक अदालत सहित हेल्पलाइन नंबर 01275 298003 के बारे में जागरूक किया। शिविर में ग्रामीणों को विभिन्न मामलों में कानूनी सलाह मुफ्त प्रदान की गई । उन्हें प्राधिकरण की ओर से मौलिक कर्तव्यों संबधी पम्पलेट भी वितरित किये गये । गांव की ग्राम पंचायत व उनके प्रतिनिधियों व गणमान्य ग्रामीणों ने हालसा द्वारा चालित मोबाईल वैन जागरूकता अभियान का लाभ लेकर काफ़ी खुशी जाहिर की और भरपूर सहयोग दिया।  प्रेस विज्ञप्ति सेवा में प्रेषित है।